पुष्पा जोशी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
पुष्पा जोशी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, मार्च 20

रेड फिल्म की दादी पुष्पा जोशी की जिंदादिली से चमका उनका सितारा ....!!


किसी ख़ास मुकाम पर पहुँचने के लिए कोई ख़ास उम्र, रंग-रूप, लिंग, जाति, धर्म, वर्ग का होना ज़रूरी नहीं जिसके सितारे को जब बुलंदी हासिल होनी होती है तब यकबयक हासिल हो ही जाती है. ये बात साबित होती है जबलपुर निवासी होसंगाबाद में सामान्य से परिवार जन्मी  85 वर्षीय बेटी श्रीमती पुष्पा जोशी के जीवन से . हुआ यूं कि उनके मुंबई निवासी पुत्र रवीन्द्र जोशी { जो कवि संगीतकार, एवं कहानीकार हैं, तथा हाल ही में बैंक से अधिकारी के पद से रिटायर्ड हुए हैं}  की कहानी ज़ायका से . श्री जोशी की कहानी “ज़ायका” उनकी पुत्र वधु हर्षिता श्रेयस जोशी, ने निर्देशित कर तैयार की जिसे  आभास-श्रेयस  यूँ ही यूट्यूब पर पोस्ट कर  दी. एक ही दिन में ३००० से अधिक दर्शकों तक  यूट्यूब के ज़रिये पंहुची फिल्म को बेहतर प्रतिसाद मिला. उसी दौरान फिल्म रेड की निर्माता कम्पनी के सदस्यों ने देखी . और जोशी परिवार को खोज कर रेड में अम्मा के किरदार के निर्वहन की पेशकश की . दादी यानी श्रीमती जोशी जो जबलपुर से मायानगरी  बैकबोन में दर्द का इलाज़ कराने पहुँची थी ने साफ़ साफ़ इनकार कर दिया. निर्माता राजकुमार गुप्ता एवं परिवार के समझाने पर बमुश्किल राजी हुईं . मुंबई से लखनऊ फिर लखनऊ से सडक मार्ग दो घंटे की दूरी पर स्थित रायबरेली जनपद में स्थित शिवगढ़ के किले तक का सफर कर 15 दिनों तक शूटिंग के दौरान श्रीमती जोशी की मृदुल मुस्कान बरबस टीम की ज़रूरत सी बन गई थी. कुछ दिनों में वे छोटे टीम सदस्यों से लेकर अजय देवांगन तक  की अम्मा जी बन गईं . अपनी सादगी और  सहज बर्ताव घर में भी ठीक ऐसा ही है. सामाजिक पारिवारिक कार्यों में पुष्पा जी की मौजूदगी और उनके चुटीले संवाद बरसों से सब को मुस्कुराने के लिए मज़बूर कर  देतें हैं.
उनकी एक पौत्री निष्ठा बताती है कि- हमारे मित्र मिलने हमसे आते हैं पर मिलते बतियाते दादी से हैं. युवाओं के साथ युवा बच्चों के साथ बच्चे की तरह ढलने वाली दादी नार्मदीय ब्राह्मण समाज से सम्बंधित हैं जहां उनको बेहद सम्मान दिया जाता है.
किटी पार्टी की शान हैं – नार्मदीय ब्राह्मण समाज की  महिलाओं की किटीपार्टी में उम्रदराज़ दादी की गैरमौजूदगी से इस समाज की बहूएँ परेशान हैं.. श्रीमती सुलभा बिल्लोरे बतातीं हैं कि पूरे उत्साह के साथ वे हमारे समागम में शामिल हुआ करतीं हैं. उनका सेन्स ऑफ़ ह्यूमर, चुटीले अंदाज़ में जीवन के मूल्यों को समझाना उनकी एक और विशेषता है.
सत्यसाई सेवा समिति, जबलपुर की सक्रीय कार्यकर्ता के रूप में वे गुरुद्वारे में लंगर, वृद्धाश्रम कुष्ठाश्रम, एवं विक्टोरिया हॉस्पिटल में भेजने  के लिए खुद जब तक हिम्मत थी भोजन बना कर  भेजतीं रहीं.उनके हाथों बने लड्डू, नारायण-सेवा { भोजन वितरण जिसे  समिती की भाषा में नारायण-सेवा कहा  जाता है } की खासियत है.
श्रीमती जोशी के पति स्वर्गीय श्री बी आर जोशी (रिटायर्ड उप जिलाध्यक्ष ) का तबादला हर तीन चार साल में प्रदेश में कई स्थानों में हुआ करता था बच्चों के भविष्य को बनाने वे स्थाई रूप से 1971 से जबलपुर में ही रहीं.  उनकी सभी 06 संतानें कला साधक एवं उच्च शिक्षित एवं उच्च पदस्थ हैं.
इंटरनेट पर रोज़ प्रसारित होने वाले मूवी रिव्यू में हीरो अजय देवांगन इलिना , सौरभ शुक्ला , अमित की भूमिकाओं की सराहना के साथ 85 वर्षीय अम्मा जी को विशेष सराहा जा रहा है.