सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

नई-दुनिया लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

नई दुनिया ने दिया डाक्टर विजय तिवारी किसलय को "जबलपुर-साहित्य रत्न"

यशस्वी ब्लागर   डाक्टर विजय तिवारीकिसलय   का चयन   " जबलपुर-साहित्य रत्न"   के लिये प्रथम पांच में जूरी द्वारा किया गया है. यह ब्लागजगत के लिये गौरव की बात होगी अगर उनको सम्मान प्राप्त होता है. आपसे विनत अनुरोध है कि उनको अपना एक बहुमूल्य वोट देकर डा० तिवारी को सहयोग करें   सभी स्नेही जनों ने किसलय जी को वोट किया और डाक्टर विजय तिवारी को हासिल हुआ वो सम्मान जिसे पाना एक गौरव पूर्ण घटना है किसलय जी के लिये  समूचे ब्लाग जगत के लिये .  डाक्टर किसलय जी को बीसियों प्रस्तावों में से श्रेष्ठ पांच में चुना था नई दुनिया जबलपुर ने जिसमें शामिल थे वयोवृद्ध साहित्यकार चिंतक श्रीयुत हरिकृष्ण त्रिपाठी, रंगकर्मी साहित्यकार श्रीमति साधना उपाध्याय, कथाकार श्री राजेंद्र दानी, एवम श्रीयुत गार्गी शरण मिश्र जिनका स्नेह श्री किसलय को प्राप्त है.   कौन हैं किसलय जी     जन्म तिथि 05फरवरी 1958 को महाकवि राजशेखर की राजधानी तेवर जबलपुर   में जन्में किसलय जी की शिक्षा एम . ए . ( समाज शास्त्र ), भारतीय विद्या भवन मुंबई से पी . जी . डिप्लोमा इन जर्नलिज़्म , इले . होम्योपैथी     स्नातक , कंप्यूटर की ब

शुक्रिया "नईदुनिया"जबलपुर

नारी के बारे में विमर्श किया जाना जितना सहज सरल है उतना कठिन है  उसे ह्रदय से सम्मानित करना . स्त्रि विमर्श के नाम पे जो कुछ जारी है मुझे नही लगता उसमें नारी को स्थान दिलाने का भाव झलकता है बल्कि बहुधा बहस में विमर्श में नारी को आहत ही किया जाता है जननी हैं ,भगनी है, रमणी हैं नारियां - सुन्दर प्रकृति की सरजनी हैं नारियां  हैं शीतल मंद पवन,लावा  ये ही तो हैं धूप से बचाए जो वो  छावा यही तो हैं                           यह सत्य है आज एक ऐसा सत्य भी उज़ागर हुआ जब एक ऐसी महिला को नगर के अखबार नई-दुनिया ने नायिका-सम्मान २०१० से सम्मानित किया जिसने जीवन का विवरण सिर्फ़ संघर्ष की कलम से मानस-फ़लक दर्ज़ किया.. सीमित साधन और जीवन को जीने की सफ़लता और सुफ़लता से जीने की ललक की मूर्ति  नारी के इस शक्तिरूपा स्वरूप को नई-दुनियां जबलपुर ने विशेष सम्मान देकर सभी की आंखें नम कर दीं वो हैं श्रीमति माया राय.... रामपुर निवासी माया राय, बराट रोड पर चाय की दुकान चलाती हैं। घर पर मां और छोटी बेटी साथ हैं। 17 साल पहले पति का स्वर्गवास हो जाने के बाद उनके व्यवसाय (चाय की दुकान) को

जबलपुर रत्न एक नई परंपरा

यूँ भेजा था न्योता अपने जबलपुर को विश्वास की परंपरा को कायम रखने का संकल्प लिए नई दुनिया">नई दुनिया ने जब रत्नों की तलाश शुरू की थी तो लगा था कि शायद व्यावसायिक प्रतिष्ठान द्वारा की गई कोई शुरुआत जैसी बात होगी ? किंतु जब जूरी ने रत्नों को जनमत के लिए सामने रखा तो लगा नहीं कुछ नया है जिसे सराहा जावेगा आगे चल कर , हुआ भी वही आज मैं जितने लोगों से मिला सबने कहा :"वाह ऐसी व्यक्ति-पूजा विहीन मूल्यांकन की परम्परा ही है विश्वास की परंपरा ओर सम्मानित हुए विशेष सम्मान शिक्षा क्षेत्र : एसपी कोष्टा उद्योग क्षेत्र : सिद्धार्थ पटेल चिकित्सा क्षेत्र : डॉ . सतीश पांडे न्याय क्षेत्र : अधिवक्ता आरएन सिंह पर्यावरण क्षेत्र : योगेश गनोरे छा गए मंत्री जी भा गए बल्लू करीब पांच घंटे तक चले आयोजन के दौरान लोगों का मनोरंजन करने के लिए प्रख्यात बाँसुरी वादक बलजिंदर सिंह बल्लू, पॉलीडोर आर्केस्टा के कलाकारों सहित प्रियंका श्रीवास्तव, प्रसन्न श्रीवास्तव, श्रेया तिवारी ने शानदार रचनाएं पेश कर लोगों को