सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

SPRITUAL लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

या जोगी पहचाने फ़ागुन, हर गोपी संग दिखते कान्हा

फ़ागुन के गुन प्रेमी जाने , बेसुध तन अरु मन बौराना या जोगी   पहचाने   फ़ागुन , हर गोपी संग दिखते कान्हा रात गये नज़दीक जुनहैया , दूर प्रिया इत मन अकुलाना सोचे जोगीरा शशिधर आए , भक्ति -  भांग पिये मस्ताना प्रेम रसीला, भक्ति अमिय सी , लख टेसू न फ़ूला समाना डाल झुकीं तरुणी के तन सी , आम का बाग गया बौराना   जीवन के दो पंथ निराले , कृष्ण की भक्ति अरु प्रिय को पाना   दौनों ही मस्ती के  पथ हैं   , नित होवे है आना जाना--..!! चैत की लम्बी दोपहरिया में– जीवन भी पलपल अनुमाना छोर मिले न ओर मिले, चिंतित मन किस पथ पे जाना ?

MELODY OF LIFE : जीवन का आलाप

http://mukul2.blogspot.com/ => *Melody of life*#जीवन का आलाप#* इस ब्लॉग पर आप देखिए इस ब्लॉग को आध्यात्मिक चर्चा का ब्लॉग बनाया , सबसे पहले मेलोडी ऑफ़ लाइफ गुरुदेव शुद्धानंद नाथ जी उन पत्रों को शामिल किया किया गया है जो गुरु देव ने अपने शिष्यों को लिखे गए थे......... प्रपंच अध्यात्म योग के प्रणेता स्वामी शुद्धा नन्द नाथ के पत्रों का संकलन लगातार इस ब्लॉग पर आपके लिए प्रस्तुत है अन्तिम से प्रथम पृष्ठ के क्रम में पोस्ट प्रस्तुत होंगीं इस ब्लॉग को आध्यात्मिक चर्चा का ब्लॉग बनाया , सबसे पहले मेलोडी ऑफ़ लाइफ गुरुदेव शुद्धानंद नाथ जी उन पत्रों को शामिल किया किया गया है जो गुरु देव ने अपने शिष्यों को लिखे गए थे .स्वामी शुद्धानन्द नाथ ने प्रपंच-अध्यात्म-योग की मीमांसा हेतु दुर्व्यसनियों को पवित्र जीवन के पथ पर लाने का सफल संकल्प लिया था । यानी प्रमादी,लोभी,अति भौतिकवादी संलिप्तता वृत्तियों से मुक्ति के दाता गुरुदेव ने परिवारों में जो संस्कार बोए वे विश्व के लिए आज भी समीचीन हैं । हूँदराज़ नवानि , सव्य साची माँ प्रमिला देवी , पिता श्री काशीनाथ जी के सत संकल्प का परिणाम है "मेलोडी ऑफ़ ल