सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

होली हंगामा लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

धोनी ने जिस कुएं का पानी पिया वो अदा जी के घर में ही

स्वप्न मंजूषा 'शैल'  छवि साभार :  क्वचिदन्यतोअपि..........! अदा जी के प्रोनाउन [सर्वनाम]   अदा जी से हुई बात चीत में हुए खुलासे  रांची में अदा जी और धोनी ने जिस कुएं का पानी पीया है वो अदा जी के घर में ही  अदा जी से  विवाह के लिए उनके पिता जी को आवेदन पत्र पेश किया था संतोष जी ने  अदा जी  मिमिक्री आर्टिस्ट एंकर प्रोड्यूसर और पिछले छै महीने से हिन्दी-ब्लॉगर भी हैं  अदा जी कविता,गज़ल,नृत्य,नाट्य,ध्वनि-आधारित कला साधिका हैं  अदा  जी  को कनाडा सरकार ने सम्मानित किया यकींन न  हो तो खुद ही सुनिए 

आज समीर भाई जम के पियेंगे

समीर जी का होली हंगामा वैसे तो मुझको पसंद नहीं मित्रों, यह कोई कविता नहीं और न ही स्पष्टीकरण है.बस एक मजबूर का मजबूरियों का बखान है. जिस मूड़ में लिखी गई है, उसी मूड में पढ़िये और आनन्द उठाईये. इस मजबूरी में अन्तिम छंद चिट्ठाकारी को समर्पित है. जब चाँद गगन में होता है या तारे नभ में छाते हैं जब मौसम की घुमड़ाई से बादल भी पसरे जाते हैं जब मौसम ठंडा होता है या मुझको गर्मी लगती है जब बारिश की ठंडी बूंदें कुछ गीली गीली लगती हैं तब ऐसे में बेबस होकर मैं किसी तरह जी लेता हूँ वैसे तो मुझको पसंद नहीं बस ऐसे में पी लेता हूँ. जब मिलन कोई अनोखा हो या प्यार में मुझको धोखा हो जब सन्नाटे का राज यहाँ और कुत्ता कोई भौंका हो जब साथ सखा कुछ मिल जायें या एकाकी मन घबराये जब उत्सव कोई मनता हो या मातम कहीं भी छा जाये तब ऐसे में मैं द्रवित हुआ रो रो कर सिसिकी लेता हूँ वैसे तो मुझको पसंद नहीं बस ऐसे में पी लेता हूँ. जब शोर गुल से सर फटता या काटे समय नहीं कटता जब मेरी कविता को सुनकर खूब दाद उठाता हो श्रोता जब भाव निकल कर आते हैं और गीतों में ढल जाते हैं जब उनकी धुन में बजने