सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

मनोहर बिल्लौरे लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ज्ञान जी को कविता का बहुत गहरा ज्ञान है : मनोहर बिल्लौरे

                        बात उन दिनों की है जब  ज्ञानरंजन    जी नव-भास्कर का संपादकीय पेज देखने जाते थे। सन याद नहीं। तब वे अग्रवाल कालोनी (गढ़ा) में रहा करते थे. सभी मित्र और चाहने वाले अक्सर शाम के समय, जब उन के निकलने का समय होता, पहुँच जाते. चंद्रकांत जी दानी जी मलय जी, सबसे वहाँ मुलाकात हो जाती। आज इंद्रमणि जी याद आ रहे हैं। वे भी अपनी आवारा जिन्दगी में ज्ञान जी के और हमारे निकट रहे और अपनी आत्मीय उपसिथति से सराबोर किया। उस समय जब ज्ञान जी ने संजीवनीनगर वाला घर बदला और रामनगर वाले निजी नये घर में आये तब काकू (सुरेन्द्र राजन) ने ज्ञान जी का घर व्यवसिथत किया था. जिस यायावर का खुद अपना घर व्यवसिथत नहीं वह किसी मित्र के घर को कितनी अच्छी तरह सजा सकता है, यह तब हम ने जाना, समझा। ज्ञानरंजन की बदौलत हमें काकू (सुरेन्द्र राजन) मिले. मुन्ना भाइ एक और दो में उनका छोटा सा रोल है। बंदिनी सीरियल में वे नाना बने हैं। उन्हें तीन कलाओं में अंतर्राष्ट्रीय अवार्ड मिले है। वे कहते हैं कि फिल्म में काम हम इसलिये करते हैं ताकि महानगर में रोटी, कपड़ा और मकान मिलता रहे। ज्ञानरंजन जी, प्रमुख

अपनों के प्रति 'क्रूर ज्ञानरंजन - मनोहर बिल्लौरे

   ज्ञान जी पचहत्तर  साल के हो गये। एक ऐसा कथाकार जिसने कहानी के अध्याय में एक नया पाठ जोड़ा। अपना गुस्सा ज्ञान जी ने किस तरह अपनी कहानियों में उकेरा है। पढ़ने-लिखने वाले सब जानते हैं। उसके समीक्षक उसमें खूबियाँ-खमियाँ तलाशेंगे। उत्साह की बात यह है कि आज भी वे पूरे जवान हैं और स्फूर्त भी. उनके साथ सुबह की सैर करने में कभी-हल्की सी दौड़ लगाने जैसा अनुभव होता है। वे अब भी मतवाले हैं जैसे कालेज दिनों में जैसे बुद्धि-भान विधार्थी रहते हैं। साहित्य, समाज, संस्कृति - यदि साहित्य को छोड़ दिया जाये तो अन्य सभी कलाओं के लिये उन्होंने क्या किया, यह बखान करने की बहुत आवश्यकता  मु्झे अभी इस समय नहीं लगती. यह काम कोर्इ लेख या कोइ   एक किताब कर पाये यह संभव भी नहीं। बीते 75 सालों में बचपन और किशोरावस्था को छोड़ दिया जाये (किशोर को कैसे छोड़ दें वह तो उनकी एक कहानी में जीवित मौजूद है - समीक्षकों-आलोचकों ने उसे 'अतियथार्थ कहा है...) तो - उन्होंने 'सच्चे संस्कृति-कर्मी और - धर्मी भी - के जरिये जो कुछ किया उसका बहुत सारा अभी भी छुपा हुआ है, ओट से झांक कर भी जाना नहीं जा सका है - क्योंकि वह इस त

ज्ञानरंजन, 101, रामनगर, अधारताल, जबलपुर.

खास सूचना: इस आलेख के किसी भी भाग को  अखबार  प्रकाशित 21.11.2011 को ब्लाग के लिंक के साथ प्रकाशित कर सकते हैं. ज्ञानरंजन जी अनूप शुक्ल की वज़ह से डा. किसलय के साथ उनकी पिछली१७ फ़रवरी २०११ को हुई थी तब मैने अपनी पोस्ट में जो लिखा था उसमें ये था "    ज्ञानरंजन   जी     के   घर   से   लौट   कर   बेहद   खुश   हूं .  पर कुछ   दर्द   अवश्य   अपने   सीने   में   बटोर   के   लाया   हूं .  नींद   की   गोली खा   चुका   पर   नींद   न   आयेगी   मैं   जानता   हूं .  खुद   को   जान   चुका हूं . कि   उस   दर्द   को   लिखे   बिना   निगोड़ी   नींद   न   आएगी .   एक कहानी   उचक   उचक   के   मुझसे   बार   बार   कह   रही   है  :-  सोने   से पहले   जगा   दो   सबको .  कोई   गहरी   नींद   न   सोये   सबका   गहरी   नींद लेना   ज़रूरी   नहीं .  सोयें   भी   तो   जागे - जागे .  मुझे   मालूम   है   कि   कई ऐसे   भी   हैं   जो   जागे   तो   होंगें   पर   सोये - सोये .  जाने   क्यों   ऐसा   होता है            ज्ञानरंजन    जी   ने   मार्क्स   को   कोट   किया   था   चर