सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

सलिल समाधिया लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

गिद्ध मीडिया...!आलेख- सलिल समाधिया

 ! ----------------- बस करो यार !!  हद होती है किसी चीज की ! उस पर आरोप लगा है, वह दोषी सिद्ध नहीं हुई है अभी ! कानून अपना काम कर रहा है, उसके बाद न्यायालय अपना काम करेगा ! आपका काम मामले को उजागर करना था, कर दिया न ! अब बस करो,  हद होती है किसी चीज की !! वह भी एक स्त्री है,उसकी भी अपनी निजता है, कुछ गरिमा है !! टी.आर.पी के लिए कितना नीचे  गिरोगे ! यह ठीक है कि सुशांत के परिवार को न्याय मिलना चाहिए ! यह भी ठीक है कि अगर सुशांत की मृत्यु में कुछ Fowl play नज़र आता है तो उसकी जांच होनी चाहिए.. सो वो हो रही है ! देश की सबसे सक्षम जांच एजेंसियां आप अपना काम कर रही हैं ! जिम्मेदार मीडिया होने के नाते आप का काम उन तथ्यों को सामने लाना था.. जो संदेहास्पद थे ! वह काम आपने कर दिया ! आपको धन्यवाद,  अब बस कीजिए !!!  अन्य मसले भी हैं देश में! NCRB (National Crime Records Bureau) के अनुसार भारत में प्रतिवर्ष लगभग 1,20,000 से अधिक आत्म हत्याएं होती हैं ! साल 2019 में 1,39, 123 आत्महत्याएं रजिस्टर हुई हैं ! Crime against women की संख्या 3,59,849 है !(October 21, 2019 NCRB ) मादक पदार्थो, ह

क्वांटम फिज़िक्स और वेदांत फिलॉसफी : सलिल समाधिया का शोध आलेख

आम तो कतई नहीं ख़ास हैं सलिल समाधिया  फेसबुक पर इन दिनों मेरे मित्र सलिल समाधिया के चर्चे हैं. लोग उनकी पोस्ट का इंतज़ार करते हैं.. जबलपुरिया भाषा में कहूं तो तके रहत हैं. एक पोस्ट का मुझे भी इंतज़ार था आज आ भी गई. फेसबुक पर  इन शब्दों से शुरू पोस्ट    ये रही वो पोस्ट , जिसका सबको इंतजार था.. क्वांटम फिज़िक्स और वेदांत फिलॉसफी पर हमारा Research Article... आत्मा क्या है , चेतना क्या है , अहम क्या है , द्वैत क्या है , मृत्यु क्या है , बुद्धत्त्व क्या है ?? बुद्ध , ओशो , जे. कृष्णमूर्ति , ऑरोबिंदो , विवेकानंद क्या कहना चाहते हैं , वे किस और इंगित कर रहे हैं ?? इन गूढ़ आध्यात्मिक बातों पर 2018 तक की front-line scientific findings क्या कहती हैं ? क्या विश्व में अंतिम क्रांति "आध्यात्मिक क्रांति" सम्भव है ? मैं पूरे ऐतबार के साथ ये बात कह सकता हूं कि आने वाले युग में सिर्फ ..वही धर्म चलेगा जिसके पास पदार्थ और चेतना ( matter & consciousness के unified होने का समग्र विज्ञान हो.. 21 वीं सदी में पूरा विश्व सिर्फ उसी धर्म को accept करेगा..... जिसकी epistemology. On