सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

अंगुली पुराण लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अंगुली पुराण भाग दो

   आप ने यहां देखा    गोया कृष्ण जीं ने गोवर्धन पर्वत को अंगुली पे क्या उठाया हमने उनकी तर्ज़ पर हर चीज़ को अंगुली पे उठाना चालू कर दिया है । मेरे बारे मे आप कम ही जानते हैं ...! किन्तु जब अंगुली करने की बात हो तो आप सबसे पहले आगे आ जायेंगें कोई पूछे तो झट आप फ़रमाएंगे "बस मौज ले रहा था ?" अंगुली करने की वृत्ति पर अनुसंधान करना और ब्रह्म की खोज करना दोनों ही मामलों में बस एक ही आवाज़ गूंजती है "नयाति -नयाति" अर्थात "नेति-नेति" सो अब जान लीजिये जिसे जो भी सीखना है सीख सकता है बड़ी आसानी से ...! ..........................................................................   ..... बहरहाल अंगुली का इस्तेमाल करो खूब जम के करो कोई गलत नहीं है पर ज़रा देख समझ के  कहीं ग़लत जगह चली गई तो अंगुली को खामियाज़ा भुगतना पड़ सकता है ....फ़िर मत कहना -"बताना तो था !!" वरना  बाबा  बाल ठाकरे  ने क्या कहा था भारत के रत्न को की बाट जोहते  सचिन  भैया को अब आगे :- भास्कर से साभार   ब्लागर  अ जित गुप्ता   बोलीं कि  हम तो अंगुली पर नचाना ही जानते हैं। जरूरत पड़े तो अं