सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

TILWARAGHAT लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

रेवा तट के बच्चे

माँ रेवा देती है इनको नारियल चुनरी .. फोटो:- तिलवाराघाट , जबलपुर  भेडाघाट के धुआंधार पर यूं तो बरसों से सुनाई देती आवाज़ कि     सा ' ब चौअन्नी मैको हम निकाल हैं. . .!!  अब फ़र्क ये है कि बच्चे अब दस रूपए की मांग करते हैं भगत लोग बड़े दिलदार हैं दस का तो क्या पचार रूपए का सिक्का धुंआधार में फैंकने में आनाकानी  नहीं करते करें भी क्यों परसाई दद्दा वाली अफीम जो दबा रखी है . टुन्न हैं टुन्न और टुन्नी में (ठेठ जबलईपुरी मेंकहूं तो ये कहूंगा ..सा'ब... सब चलत है वोट.... रेप.... लड़ाई....... झगड़ा .... हओ...! सब कछु  ....!!  गलत तौ है मनो चलत है .   हमारा नज़रिया गरीबों के लिए साफ़ तौर पर सामाजिक कम धार्मिक अधिक होता है . जिसके चलते बच्चे दस-पांच रुपयों के पीछे दिन भर नर्मदा तटों पर लहरों से गलबहियां करते हुए गोताखोरी किया करते हैं . चाहे ग्वारीघाट वाले ढीमर-कहारों के बच्चे हों या तिलवारा के पटेलों के ... सब जन्म के बाद बड़े होते हैं फिर नदी को पढ़ते हैं तट पर खेलते हैं . अनुशासित पाठ्यक्रम से दूर  का नाम है....? गुलाब..... स्कूल ........ छुट्टी चल रई है ... स्कूल में नाम लिखो ह