सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

नेट लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अछोर विस्तार पाने की ललक ने मुझे इंटरनेट का एडिक्ट बना दिया.

                       जितना  विस्तार पा रहा हूं उतना कमज़ोर और अकेला  होता जा रहा हूं. लोग समझ रहे हैं विश्व से बात कर रहा हूं मेरे दोस्त शिखर पर बैठे लोग हैं. अभिनेता, नेता, क्रेता, विक्रेता, उनके बीच मेरा स्थान है. देश में... न भाई मुझे पढ़ने देखने जानने वाले विश्व के कोने कोने में हैं. अपना फ़ेस हर साइट पर बुक करवा रहा हूं.. इस छोर से उस छोर तक यानी अछोर विस्तार पाने की ललक ने मुझे इंटरनेट का एडिक्ट बना दिया.      ये आत्म-कथ्य है सोशल साइट्स से चिपके हर व्यक्ति की. जो इधर का माल उधर करने में लगा हैं. सोचिये कि इस तरह हम अपनी स्वयम की और कृत्रिम उर्ज़ा का इस तरह क्यों खर्च कर रहें हैं. क्यों हम सामान्य जीवन से कट रहें हैं.?      इस बात का पुख्ता ज़वाब मिलेगा   किशोर बेटे बेटी से जो रात दिन    नेट पर चैट का खेल खेला करते हैं. वास्तव में मनुष्य प्रजाति में    आभासी दुनिया के पीछे भागने का एक दुर्गुण हैं. अंतरजाल से उसका जुड़ाव  इसी का परिणाम है. मानवी दिमाग  कपोल कल्पनाओं गल्पों का अभूतपूर्व भंडार होता है. जिसमें वह स्वयम ही इन्वाल्व होता है. किसी अन्य का इन्वाल्वमेंट  वास्तव

सुशील कुमार ने कहा :- पूर्णिमा वर्मन हो या सुमन कुमार घई जी , इनको साहित्य की अद्यावधि गतिविधियों की जानकारियाँ नहीं रहती।

नेट पर साहित्य - भाग -2 -सुशील कुमार सुशील कुमार ON  SATURDAY, FEBRUARY 19, 2011                                      भईया  ,  ब्लॉग पर आकर सिर्फ़ गाल बजाने से कुछ नहीं होगा। आप कुछ साहित्यकारों जैसे डा. नामवर सिंह ,   सर्वश्री राजेन्द्र यादव ,  अशोक वाजपेयी , मंगलेश डबराल ,  अरुण कमल ,  ज्ञानेन्द्रपति ,  नरेश मेहता ,  एकांत श्रीवास्तव ,  विजेन्द्र ,  खगेन्द्र ठाकुर इत्यादि या आपको जो भी लब्ध-प्रतिष्ठ लेखक-कवियों के नाम जेहन में हैं ,  के नेट पर योगदान को बतायें और यहाँ चर्चा करें। पूरा खुलासा करें कि कौन-कौन सी चीजें नेट पर हिन्दी साहित्य में ऐसी आयी हैं जो अभिनव हैं यानि नूतन हैं और उन पर  प्रिंट के बजाय सीधे नेट पर ही काम हुआ है ,  ।   तभी आपके टिप्प्णी की सार्थकता मानी जायेगी और आपको ज्ञान-गंभीर पाठक माना जायेगा, केवल शब्दों की बखिया उघेरने और हवा में तीर चलाने से काम नहीं चलने को है ,  वर्ना "मैं तेरा  ,  तू मेरा"  यानि तेरी-मेरी वाली बात ब्लॉग पर तो लोग करते ही हैं। ( आगे यहां से   )                         इस आलेख का औचित्य आपसे जानना चाहता हूं आपको चैट आमंत्रण भेजा ह