सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

नए ब्लाग लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सांड कैसे कैसे

. (चित्र साभार:राजतंत्र ) एक बुजुर्ग लेखक  अपने शिष्य को समझा रहे थे -"आव देखा न ताव टपका दिये परसाई के रटे रटाए चंद वाक्य परसाई के शब्दों का अर्थ जानने समझने के लिये उसे जीना होगा. परसाई को बिछौना समझ लिये हो का.?, दे  दिया विकलांग श्रद्धा को रोकने का नुस्खा हमको. अरे एक तो चोरी खुद किये उपर से कोतवाल को लगे बताने चोर का हुलिया . अगर  पुलिस के चोर खोजी कुत्ते नें सूंघ लिया तो सांप सूंघ जायेगा . ....?  तभी दौनो के पास से एक सांड निकला चेला चिल्लाया-जाने सांड कैसे कैसे ऐरा घूम रहे हैं इन दिनों कम्बख्त मुन्सीपाल्टी वाले इनको दबोच कानी हाउस कब ले जावेगें राम जाने. बात को नया मोड देता चेला गुरु से बोला:-गुरु जी, अब बताइये दस साल हो गये एक भी सम्मान नसीब न हुआ मुझे ? तो, क्या कबीर को कोई डी-लिट मिली,तुलसी को बुकर मिला ? अरे गुरु जी , मुझे तो शहर के लोग देदें इत्ता काफ़ी है . सम्मान में क्या मिलता है बता दिलवा देता हूं ? गुरु, शाल,श्रीफ़ल,मोमेन्टो...और क्या.....? मूर्ख, सम्मान के नारीयल की ही चटनी बनाये गा क्या...इत्ती गर्मी है शाल चाहता है, कांच के मोमेंटो चाहिये तुझे इस के लिय

नए ब्लाग का स्वागत कीजिए

 राज दरबार जनतंत्र ब्लाग महावीर कहीअनकही बातें Media house रवि वार्ता ( Ravi Varta ) आम आदमी नए ब्लागस का स्वागत कीजिए इनमे एक ब्लाग "रविकिशन जी"का है . भोजपुरी अभिनेता के इस ब्लॉग ' रवि वार्ता' को भी दुलारिये अन्य ब्लाग्स के साथ ताकि सभी को आपका स्नेह मिल सके . ______________________________________________________________________________________________  ब्लॉगवाणी से साभार  ______________________________________________________________________________________________