सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

जूते-चप्पल लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बहुत प्रिय हैं पादुकाएं.. आपको मुझको सभी को अगर सर पर जा टिकें तो रुला देतीं हैं सभी को.

इन पे अब ताले लगा दो ताकि ये न चल सकें.. ज़ुबां की मानिंद इनको चलने की बीमारी लग गई. वो कतरनी सी चले हैं..ये सरपट गाल पर यक़बयक़ ये जा चिपकती चमकते से भाल पर  रबर और चमड़े की किसी की भी बनी हो असरकारक हो ही जातीं दोस्तों की चाल पर  देवताओं से अधिक मन में पादुकाओं की लगन इनके चोरी जाते ही,सुलगती मन में अगन.. बहुत प्रिय हैं पादुकाएं.. आपको मुझको सभी को  अगर सर पर जा टिकें तो रुला देतीं हैं सभी को. जागती जनता मशालें छोड़ जूते हाथ ले  सरस चिंतन से अभागी बढ़ा लेती फ़ासले.