सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

किसलय जी लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

किसलय जी का समझदार कुत्ता बोनी

एक  मकबूल डॉग बोनी  ने किसलय जी के अथक परिश्रम से काफी कुछ सीख गया एक हम हैं कि उनकी मेहनत से सिखाई जा रही बातों पे ध्यान नहीं दे रहे .... अब हम ठहरे 'जो गुरु मिलहिं विरंची सम:' के अनुगायक चलिए मैं तो समय आने पे ही सीख पाउँगा बोनी के कारनामे देखिये 

जबलपुरियों की पोस्ट

[01] विश्व रंगकर्म दिवस संगोष्ठी में"उड़नतश्तरी" [02] समयचक्र हिन्दी ब्लॉग और हिन्दी साहित्य : श्री समीर लाल बाल गोपालो को फूलों सा खिलाना है [03] जबलपुर चौपाल " में उड़नतश्तरी का होली आयोजन और लुकमान की याद [04], Sameer Lal उर्फ़ बिदेसिया जबलईपुर वारे ने छापा दिल से आवाज आई: विश्व रंगमंच दिवस पर एक और जबलपुरिया " yunus भाई " को तो भूल ही गया था नूर साहब लाॅ कालेज में मुझे पढाते थे । मेरी अम्मी जिनका शेर "मेरी आंखों पे लरज़ते हुए उनके आंसू,यूँ ही ठहरे रहें ता उम्र इनायत होगी , कद्र-ऐ-जुम्बिश में गिर के बिखर जाएंगे , और फिर उनकी अमानत में खयानत होगी " खूब याद है, खूब याद है इरफान का वो शेर :-"जब भूक की शिद्दत से तढ़पेगें मेरे बच्चे ,दीवार पे रोटी की तस्वीर बना दूंगा " हजूर [ yunus भाई ]आप जबलपुर या एम० पी० के संगीतकारों , गायकों पर एक पोस्ट देकर जबलपुरिया धर्म निबाह दीजिए ।