सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

कनिष्क कश्यप लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

न्यू मीडिया में हिंदी की दशा और दिशा : कनिष्क कश्यप

            न्यू मीडिया , विशेष तौर पर हिंदी न्यू मीडिया जिसका सबसे लघु इकाई एक ब्लॉग को कहा जा सकते , अब तक का सर्वाधिक उपेक्षित और गैर-प्रभावी बता कर उपेक्षा की दृष्टि सहता रहा है. यह सत्य है कि ” न्यू मीडिया ” शब्द के मायने इतने संकीर्ण नहीं कि मात्र ब्लॉग लेखन ही उसकी परिधि में  आये. यह एक तकनिकी क्रांति के बाद और विशेष तौर पर   डाटा ट्रान्सफर ओवर वर्ल्ड वाइड   वेब के क्षेत्र में आये चमत्कारी परिवर्तन के कारण इतना आग्रही हो गया कि इसे समान्तर मीडिया की तरह देखने और आंकने की  बौद्धिक मजबूरी पैदा होती गयी. आभार: ब्लॉग ठाले बैठे  इसकी परिधि एक ब्लॉग , एक वेबसाईट से लेकर फेसबुक , ट्वीटर , विकिपीडिया और यु-ट्यूब के प्रभावी हस्तक्षेप से कहीं आगे   कनवर्जेन्स   तक को समेटे हुए है.   कनवर्जेन्स   का अर्थ है आपके मोबाइल फोन (आई-फोन) , पॉम पैड में पुरे सुचना तंत्र का विलय हो जाना . अब चाहे वह टीवी हो , अखबार का ऑनलाइन संस्करण हो , रेडियो प्रसारण हो , फेसबुक हो या आपका ब्लॉगस्पोट का ब्लॉग. यह सब सिमट कर एक छोटे डिवाइस में आ जाना ही कनवर्जेन्स कहलाता है. अब बुनियादी सवाल यह उठता है , कि आ