सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

बेटी बचाओ अभियान लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मधुर सुर न सुनाई दें जिस घर से वो घर कैसा न मांडी जाए रंगोली जिस दर पे वो दर कैसा ?

मधुर   सुर   न   सुनाई   दें जिस घर से वो घर कैसा   न   मांडी जाए रंगोली जिस दर पे वो दर कैसा  ? ******************** बिना  बेटी के घर लगते अमावस की घुप रातें   न   रु न   झु न   पायलें बजतीं   न   होती हैं मृदुल बातें न   दीवारों पे  रौ न क और  देहरी से चमक गायब- देखता जो भी सोचे ये घर तो है मगर कैसा .. ?                         मधुर   सुर   न   सुनाई   दें जिस घर से वो घर कैसा   ******************** वो बेटी ही तो होती है कुलों को जोड़ लेती है अगर अवसर मिले तो वो मुहा ने  मोड़ देती है युगों से    बेटियों को तुम परखते हो   न   जा ने  क्यूं.. ? ज न म ले ने  तो दो उसको ज न म-ले ने  से डर कैसा.. ?                             मधुर   सुर   न   सुनाई   दें जिस घर से वो घर कैसा ********************  पालने से पालकी तक की  चिंता छोड़ के आना वो बेटों से भी बेहतर है ये चिंत न   जोड़ ते लाना उसे तुमने  जो अब मारा धरा दरकेगी ये तय है- उसे ताक़त बना ओगे जमाने  से डर कैसा  ?                            मधुर   सुर   न   सुनाई   दें जिस घर से वो घर कैसा  

बेटी बचाओ अभियान : बालाघाट में स्मृति ईरानी को जन सैलाब ने किया भावुक

जबलपुर में  बेटी बचाओ अभियान के सफ़ल आयोजनों की खबरें लगातार मिल रही है .. इस बीच बालाघाट से प्राप्त रिपोर्ट अनुसार स्मृति इरानी ने की उपस्थिति से अभूतपूर्व रहा शुभारम्भ समारोह  बेटियाँ मातृ शक्ति हैं, इनका संरक्षण समाज और देश के अस्तित्व के लिये जरूरी है। बालाघाट में बेटी बचाओ अभियान का शुभारंभ करते हुए सांसद श्रीमती स्मृति ईरानी ने कहा कि मध्यप्रदेश ने जन-कल्याण की ऐसी योजनाएँ बनाई हैं जिसे सारे राष्ट्र ने न केवल सराहा है बल्कि अपनाया भी है। इस मौके पर समारोह के आयोजक सहकारिता एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन भी उपस्थित थे। इस अवसर पर बेटियों वाले माता-पिता को सम्बल कार्ड वितरित किये गये। श्रीमती स्मृति ईरानी ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार केवल बेटी बचाने का काम ही नहीं कर रही है बल्कि उसने बेटी को लक्ष्मी के रूप में पूजने की परम्परा शुरू की है और उसे अपने पैरों पर खड़े होने में मदद कर रही है। उन्होंने कहा कि बेटियाँ तो मातृ शक्ति हैं। एक सक्षम माँ ही बेटी को बचाने में अहम भूमिका निभा सकती है और उसका भविष्य उज्जवल बना सकती है। श्रीमती ईरानी ने कहा कि म.प्र.

बेटी बचाओ अभियान को व्यापक जन समर्थन

शहरी क्षेत्रों और पढ़े लिखे लोगों के बीच बेटियों का अनुपात कम होना चिन्ता का विषय है :                                                                                                 शिवराज सिंह मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने दृढ़तापूर्वक कहा है कि कन्याओं तथा स्त्रियों के संरक्षण के लिये सभी संबंधित कानूनों का पूरी कड़ाई से पालन कर प्रदेश में उन्हें पूरी सुरक्षा और सम्मान निश्चित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ‘‘ बेटी बचाओं अभियान ’’ बेटियों के संरक्षक , संपोषण और सम्मान के लिये शुरु किया गया एक ऐसा सामाजिक महा अभियान है जिसमें सभी राजनैतिक दलों , संगठनों और संस्थाओं सहित समाज के हर वर्ग की सक्रिय भागीदारी होने पर ही वांछित सफलता मिलेगी। यह कोई राजनैतिक कार्यक्रम नहीं , बल्कि सामाजिक मिशन है। श्री चौहान आज अपने निवास पर श्री नवदुर्गा महोत्सव के दौरान नवमीं के अवसर पर 1100 से अधिक कन्याओं की पूजा और उन्हें भोजन कराकर ‘‘ बेटी बचाओं अभियान ’’ का शुभारम्भ करने के बाद सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर सैकड़ों की तदाद में कन्याएँ , उनके अभिभावक ,