सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

गीतकार लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अंतर्जाल के : सुकुमार गीतकार राकेश खण्डेलवाल

सुपरिचित ब्लागर राकेश खण्डेलवाल के गीत-कलश वाक़ई वो अक्षय कलश है जो कभी रीत ही नहीं सकता, 2005 से निरंतर ब्लागिंग कर रहे राकेश जी का यह गीत आज फिर गाने लगा है गीत कोई खुल गये सहसा ह्रदय के बन्द द्वारे कोई प्रतिध्वनि मौन ही रह कर पुकारे और सुर अंगनाईयां आकर बुहारे आ गई फिर नींद से उठ आँख मलती रात सोई आज फिर गाने लगा है गीत कोई ( आगे पढ़ने के लिये यहां क्लिक कीजिए) यही गीत श्री राकेश खण्डेलवाल जी के ब्लाग से साभार पाडकास्ट गीतकार: राकेश खण्डेलवाल                                                         स्वर: अर्चना चावजी      आलेख : गिरीश बिल्लोरे

पूर्णिमा वर्मन जी का सहयोग म०प्र० लेखक संघ,को

अभिव्यक्ति-अनुभूति का ताज़ा अंक साहित्य एवं साहित्यिक सूचनाओं से भरा पूरा है पूर्णिमा जी आगे बढ कर अंतर-जाल पर निरंतर नया कुछ करने के गुन्ताडे़ यानी कि कवायद में लगी रहतीं हैं......हम उनके आभारी हैं..... teamabhi@abhivyakti-hindi.org मध्य-प्रदेश लेखक संघ द्वारा विभिन्न सम्मानों के लिए प्रस्ताव आहूत भारतीय उच्‍चायोग, लंदन द्वारा वि‍श्‍व हि‍न्‍दी दि‍वस पर वर्ष २००७ के लि‍ए नि‍म्‍नलि‍खि‍त व्‍यक्‍ति‍यों/संस्‍थाओं को सम्‍मान देने का नि‍र्णय लि‍या गया है: जॉन गि‍लक्रि‍स्‍ट यू. के. हि‍न्‍दी शि‍क्षण सम्‍मान : के लि‍ए पेशे से सि‍वि‍ल इंजीनि‍यर, कई बाल पुस्‍तकों एवं हि‍न्‍दी पाठ्यपुस्‍तकों के रचयि‍ता और महालक्ष्‍मी वि‍द्या भवन, लंदन में हि‍न्‍दी के शि‍क्षक श्री वेद मि‍त्र मोहला को चुना गया है। डॉ. हरि‍वंश राय बच्‍चन यू के हि‍न्‍दी लेखन सम्‍मान : से ब्रि‍टेन के ख्‍याति‍ प्राप्‍त लेखक श्री तेजेन्‍द्र शर्मा को सम्‍मानि‍त करने का नि‍र्णय लि‍या गया। आचार्य महावीर प्रसाद द्वि‍वेदी यू. के. हि‍न्‍दी पत्रकारि‍ता सम्‍मान : ऑडि‍यो/वीडि‍ओ मीडि‍या में ०५ नवम्‍बर, १९८९ से अपने हि‍न्‍दी प्रसारण के माध्‍यम स