अखबारों में मिसफ़िट





विद्रूप विचारधाराएं और दिशा हीन क्रांतियों का दौर



में प्रकाशित मिसफ़िट की 
एक पोस्ट : .... खबर बन जाऊं


मारे खुशी के निर्भय के हिज्जे बड़े हो गए ...बस और क्या..!!










पापा, क्यों भौंकते हैं................ये कुत्ते ?




एक वसीयत : 

अंतिम यात्रा में चुगलखोरों को मत आने देना


एक हैलो से हिलते लोग..!!


सर्वदा उदार प्रेयसी है वो..!!


या 








टिप्पणियाँ

बवाल ने कहा…
बहुत बढ़िया संकलन हैं सर।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

क्यों लिखते हैं दीवारों पर - "आस्तिक मुनि की दुहाई है"

स्व.श्री हरिशंकर परसाई का एक व्यंग्य: " अपनी-अपनी हैसियत "

ज्ञानरंजन जी करेंगे समीर लाल की कृति ’ देख लूं तो चलूँ’ का अंतरिम विमोचन