सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

Talk Show लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

Ability Unlimited Talk Show With Guruji Syed Sallauddin Pasha

मिसफ़िट पर शीघ्र गुरुजी सैयद सलाउद्दीन पाशा से सीधी बात शीघ्र लाइव प्रसारित एवम प्रसारित होगी उम्मीद है आपने विकलांगों पर केंद्रित "सत्य मेव जयते" का एपीसोड  कल यानी  दिनांक 10/06/2012 को देखा ही होगा यहां यानी बैमबसर पर देखिये जल्द ही "Talk Show With Guruji Syed Sallauddin Pasha " ________________________ <p><p>Your browser does not support iframes.</p></p> ________________________ यू ट्यूब पर शो देखिये

live Talk Show With B.S.Pabla ( live 25 )

श्री  बी एस पाबला जी से बात चीतis बातचीत को आशातीत सफलता तब मिली जब मैंने देखा कि हमारे साथ  25 साथी आन लाइन हैं तथा बात चीत में सार्थक सहयोग  दे रही वन्दना गुप्ता (दिल्ली) एवं अनिता कुमार जी (मुंबई) और फिर जुड़े विजय सपत्ति (हैदराबाद)  फिर जुड़े रूपचन्द्र शास्त्री(खटीमा उत्तरांचल,) , शहनवाज़ भाई , इनके एग्रीगेटर को लेकर दिये सुझाव महत्व-पूर्ण एवम उपयोगी हैं.,शास्त्री जी ने खटीमा ब्लागर मीट का न्योता दिया इसी वार्ता के ज़रिये.  अनिता कुमार जी ने सवाल किया कि क्या श्री  बी एस पाबला जी जबलपुर आए हैं..? वास्तव में इस टाक शो की वेबकास्टिंग जबलपुर से की जा रही थी. पाबला जी भिलाई से वेबकेम के ज़रिये जुड़े थे. आप भी तैयार रहें कभी भी आप से लाइव चर्चा हो सकती है बस आपको करना ये है कि आप एक वेबकेम / हेडफोन अवश्य ले लीजिये. साथ ही यदि आप इस वेब साईट से जुड़ना चाहें तो बस क्लिक कीजिये इधर " बेमबसर "  चर्चा के दौरान पाबला जी ने बताया कि ज़ल्द ही वे छिपे एग्रीगेटर्स पर एक पोस्ट देंगें अग्रिम आभार भाई ललित शर्मा ने जब  लिंक पर चटका लगाया तब तक बकौल ललित शर्मा :" दूकान बंद हो गई&quo

“दिखावा खत्म : मंहगाई खत्म ”

श्री सतीश शर्मा की कृतिकार  “ दिखावा खत्म : मंहगाई खत्म ” से लाइव बात चीत 

Talk Show With Sanjeev Verma Salil

पेशे से अभियंता ह्रदय से कवि लोक निर्माण विभाग मध्य-प्रदेश में पदस्थ प्रशासन में महत्वपूर्ण अस्तित्व निरंतर गति शील दिव्य नर्मदा के मालिक भाई संजीव वर्मा सलिल से बातचीत गीत का बनकर विषय जाड़ा नियति पर अभिमान करता है... कोहरे से गले मिलते भाव. निर्मला हैं बिम्ब के नव ताव.. शिल्प पर शैदा हुई रजनी- रवि विमल सम्मान करता है... गीत का बनकर विषय जाड़ा नियति पर अभिमान करता है... फूल-पत्तों पर जमी है ओस. घास पाले को रही है कोस. हौसला सज्जन झुकाए सिर- मानसी का मान करता है... गीत का बनकर विषय जाड़ा नियति पर अभिमान करता है... नमन पूनम को करे गिरि-व्योम. शारदा निर्मल, निनादित ॐ. नर्मदा का ओज देख मनोज- 'सलिल' संग गुणगान करता है... गीत का बनकर विषय जाड़ा खुदी पर अभिमान करता है...