सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

बया लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मेरी चादर मेरे पैरों के बराबर कर दे ..!!

                                                                             किश्तें कुतरतीं हैं हमारी जेबें लेकिन कभी भी हम ये सोच नहीं पाते कि काश कि हमारे पांव के बराबर हमारी चादर हो जाये जगजीत सिंह की एक ग़ज़ल जिसका ये शेर सबकी अपनी कहानी है....  और कुछ भी मुझे दरकार नहीं है लेकिन मेरी चादर मेरे पैरों के बराबर कर दे ..!! साभार : रानीवाड़ा न्यूज़      पर क्या लुभावने इश्तहारों पर आश्रित बेतहाशा दिखा्वों के पीछे भागती दौड़ती हमारी ज़िंदगियां खुदा से इतनी सी दरकार कर पातीं हैं........ न शायद इससे उलट. जब भी खु़दा हमारी चादर हमारे पैरों के बराबर करता है फ़ौरन हमारा क़द बढ़ जाता है. यानी कि बस हम ये सिद्ध करने के गुंताड़े में लगे रहते हैं कि हम किसी से कमतर नहीं .     बया बा-मशक्कत जब अपना घौंसला पूरा कर लेती है तो सुक़ून से निहारती है.. मुझे याद है उनकी हलचल घर के पीछे जब वो खुश होकर चहचहाती थी.  तेज़ हवाएं  भी उसके घौंसले को ज़ुदा न कर पाते थे आधार से... !  वो सुक़ून तलाशता हूं घर बनाने वालों में........ दिखाई नहीं देता. अपने चेहरों पर अपने मक़ान को घर बनाने वाला भाव