सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

बाबूजी लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बरगद पीपल नीम सरीखे , तेज़ धूप में बाबूजी !!

 किसी के बाबूजी बूढ़े कभी भी नहीं हो सकते अगर उनको उनके बुढ़ापे का एहसास न कराया जाए. मेरे  बाबूजी श्रीयुत काशीनाथ बिल्लोरे उन लोगों की तरह हैं जो कभी बूढ़े नहीं होते यक़ीन न आए तो मेरे मित्रों से जानिये यही सच है. 84 बरस पहले  बाबूजी का जन्म नर्मदांचल के सिराली गांव में हुआ. कुशाग्र तो थे  कई नौकरियां तैयार थीं उनको अपनाने.. वैसे भी वो दौर लम्बी कतारों वाला न था रेवेन्यू में टाइम पास करने बाबू हो गए पर रास न आई नौकरी .. दादाजी रेवेन्यू के पटवारी थे बाबूजी उससे हट के कुछ बनना चाहते थे. रेल विभाग में सहायक स्टेशन मास्टर भर्ती हो गए.   हरदा के इर्दगिर्द की  जमीने उस दौर में इतना सोना उगला नहीं करतीं थीं जितना कि अब पंजाब की मानिंद उगल रहीं हैं. दादाजी भी चाहते थे कि लड़का सरकारी नौकर हो जाए खेती किसानी में क्या रखा है.. मेरे ताऊ जी स्व. पुरुषोत्तम बिल्लोरे, एवम स्व. ताराचंद बिल्लोरे जबलपुर आ चुके थे अपनी अपनी ज़मीने तलाश लीं थीं. आज़ादी के बाद दादाजी स्व. गंगाबिशन बिल्लोरे की तेज़तर्रार किंतु कर्मठ लाइफ़ स्टायल का असर था बाबूजी सहित उनके सात बेटों पर ... सबके सब एक से बढ़कर एक पुरुषोत्त

बाबूजी ने इक्यासी वर्ष में प्रवेश किया

बाबूजी की ने उम्र के अस्सी बरस पूरे किये. कल से थी गहमा गहमी , खूब मज़ा किया रिटायर्ड बच्चों  ने जी हर माह किसी न किसी बुज़ुर्ग का हेप्पी वाला बर्थ-डे होता है. जिसे आज मैंने लाइव किया पर ज़ल्दबाज़ी में    बाबूजी  साउंड आन नहीं हो पाया था. फिर भी आप बैमबज़र पर  देख सकते हैं. अगर आपके परिवार में ऐसा कोई अवसर आए तो नाचीज़ हाज़िर है. बच्चों और बुजुर्गों की खुशी से बढकर शायद पूजा भी नहीं है  शायद आप में से कोई असहमत हो सकता है फिर भी आप से विचार को शेयर कर रहा हूँ .मेरी आप सभी के बाबूजी के लिए हार्दिक शुभ कामनाएं ....   मेरे बाबूजी के साथ आप सभी के बाबूजीयों  के शतायु होने की मंगल कामना  

मेरे बाबूजी खुश क्यों हैं !!

आते ही सबसे दयनीय पौधे के पास गए (बाबूजी अपने  बेजुबान बच्चों से  बात करने आए ) दूसरे बच्चे की आसपास की साल-सम्हाल ही बाबूजी ने . थक भी तो जाते हैं बाबूजी फ़िर अगले ही पल मुस्कुराने लगते इन बीस गमलों में आयेंगी नन्ही जमात मेरे बाबूजी उन प्रतीकों में से एक हैं जो अपनी उर्जा को ज़िंदगी के उस मोड़ पर भी तरोताजा बनाए  रखने बज़िद हैं जहां लोग हताशा  के दुशाले ओढ़ लिया करते हैं.   कल ही बात है  अरविन्द भाई को बेवज़ह फोटोग्राफी के लिए बुलवाया बेवज़ह इस लिए क्योंकि न तो कोई जन्म दिन न कोई विशेष आयोजन न ब्लागर्स मीट यानी शुद्ध रूप से  मेरी इच्छा  की पूर्ती ! इच्छा  थी  कि बाबूजी  सुबह सबेरे की अपने गार्डन वाले बच्चों को कैसे दुलारते हैं इसे चित्रों में दर्ज करुँ कुछ शब्द जड़ दूं एक सन्देश दे दूं कि :-''पितृत्व कितना स्निग्ध होता है " हुआ भी यही दूसरे माले पर  उनका इंतज़ार उनके दूसरे बच्चे यानी नन्हे-मुन्ने पौधे  इंतज़ार कर रहे थे दादा नियत समय पर तो नहीं कुछ देर से ही आ सके आते ही सबसे दयनीय पौधे के पास गए उसे सहलाया फिर एक दूसरे बच्चे की आसपास की साल-सम्हाल