सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

महफ़ूज़ अली लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

महफ़ूज़ मुझे खुद मुझसे ज़्यादा प्रिय हो..!

प्रिय महफ़ूज़ "असीम-स्नेह" बज़ से जाना कि अब बिलकुल ठीक हो हम सबके लिये   खुशी की बात है. तुम्हारी कविता तुमको याद है न  Fire is still alive. But what of the fire? Its wood has been scattered, But the embers still dance. Though the fire is tiny, It survived. Though the fire is weak, It's still alive. Mahfooz Ali   महफ़ूज़ भाई तुम्हारे जीवन की कविता है सच  तुम वो आग हो जिसे कोई सहजता से खत्म कैसे कर सकता है. मैं क्या सारे लोग तुम्हारी ज़िंदगी के लिये अपने अपने तरीक़े से प्रार्थनारत थे. कौन हो किधर से हो कैसे हो मैं नहीं जानना चाहता. पर नेक़ दिल हो तभी तो "महफ़ूज़" हो. सारी बलाएं जो भी जब भी तुम पर आतीं हैं जिसकी आशंका मुझे सदा रहती है ईश्वर की कृपा से सच ज़ल्द निपट ही जातीं हैं.ज़िन्

महफ़ूज़ खतरे से बाहर

जो भी कुछ महफ़ूज़ के साथ घटा वो  समाज के लिये शर्मनाक़ है इसमें कोई दो राय नहीं. सभी चिंतित हैं. कल तय शुदा सरकारी  प्रसारण के चलते आज़ मुझे रिकार्डिंग पर जाना था . रिकार्डिंग रूम में घुस ही रहा था की ललित जी जी ने अपुष्ट खबर की मुझसे पुष्टि चाही. किंतु तब सम्भव न था फ़िर भी फ़ोन बुक में मौज़ूद नम्बर्स पर सीधे महफ़ूज़ को काल किया कोई बात न हो सकी. पाबला जी से चर्चा हुई पर पुष्टि नहीं हम भगवान से प्रार्थना कर रहे थे कि वो खबर झूठी हो . परंतु खबर सच निकली अब संतोष इस बात का है कि उनके शरीर से गोलियां निकाल दी गईं है  वे बात कर पा रहें है शिवम मिश्रा जी ने बताया वे बता रहे थे कि :-"तीन जगह गोली लगी " कल से आज़ तक सब बेचैन पागल से उनकी बेहतरी की दुआ कर रहे हैं . हो भी क्यों न सबका अपना सा है महफ़ूज़. आराधना चतुर्वेदी "मुक्ति" , इंदु  पूरी  गोस्वामी संगीता  पूरी , अजय  झा  , पद‍्म सिंह Padm Singh , प्रतिभा  कटियार  , प्रशांत  प्रियदर्शी  , ललित शर्मा  -, राजीव  ओझा  , आराधना चतुर्वेदी "मुक्ति" , Dr. Mahesh Sinha , शिवम्  मिश्रा  , अनूप शुक्ला  - प्रवीण त्रिवेदी

अरविंद मिश्रा जी हाईप तो सानिया मिर्ज़ा को किया गया है न कि महफ़ूज़ को

 मित्रो आज़ अगर महफ़ूज़ अली की उपलब्धि के समाचार को मैने पोस्ट किया अरविंद मिश्रा जी ने ओर उसके पहले ”गुमनाम ब्लाग समाचार नामक व्यक्ति” अज़ीबो गरीब टिप्पणियां कीं हैं मित्रो सच तो ये है कि हम आकाश की ओर मुंह करके थूकने की अभद्र कोशिश में लगे रहतें हैं ___________________________________________________ Powered by Podbean.com पाडकास्ट के पहले भाग में सुनिए श्री बी एस पाबला,महेंद्र मिश्रा जी ,महफूज़ अली एवं मेरी वार्ता  __________________________________________     निर्णय आपके हाथ है दूसरे भाग में चर्चा में शामिल; हुए मेरे साथ अजय झा,महफूज़                                     Powered by Podbean.com