सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

फ़िरदौस खान लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हिंदुस्तानी मुसलमानों में दहेज का चलन : फ़िरदौस खान

[मेरी छोटी बहन  फ़िरदौस एक सामाजिक चिंतक एवम मेरी पसंदीदा लेखिका हैं. आज़ तक फ़िरदौस से मिलने का मौका मुझे नही मिला पर लगता है कि वो मेरे साथ है... राखी पर छोटी बहन को असीम स्नेह के साथ उनका आलेख प्रस्तुत है... firadous की लेखनी के तेवर उनके ब्लाग मौज़ूद है " मेरी-डायरी "  ] हिंदुस्तानी मुसलमानों में दहेज का चलन तेज़ी से बढ़ रहा है. हालत यह है कि बेटे के लिए दुल्हन तलाशने वाले मुस्लिम अभिभावक लड़की के गुणों से ज़्यादा दहेज को तरजीह दे रहे हैं. एक तऱफ जहां बहुसंख्यक तबक़ा दहेज के ख़िलाफ़ आवाज़ बुलंद कर रहा है, वहीं मुस्लिम समाज में दहेज का दानव महिलाओं को निग़ल रहा है. दहेज के लिए महिलाओं के साथ मारपीट करने, उन्हें घर से निकालने और जलाकर मारने तक के संगीन मामले सामने आ रहे हैं. बीती एक जुलाई को हरियाणा के कुरुक्षेत्र ज़िले के गांव गुआवा निवासी नसीमा की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई. करनाल ज़िले के गांव मुरादनगर निवासी नज़ीर की बेटी नसीमा का विवाह क़रीब छह साल पहले गांव गुआवा के सुल्तान के साथ हुआ था. 26 वर्षीय नसीमा की तीन बेटियां हुईं. उसके परिवार के लोगों का आरोप