सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

भक्ति लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

फ़ागुन के गुन प्रेमी जाने, बेसुध तन अरु मन बौराना

फ़ागुन के गुन प्रेमी जाने, बेसुध तन अरु मन बौराना या जोगी पहचाने फ़ागुन , हर गोपी संग दिखते कान्हा रात गये नज़दीक जुनहैया,दूर प्रिया इत मन अकुलाना सोचे जोगीरा शशिधर आए ,भक्ति - भांग पिये मस्ताना प्रेम रसीला, भक्ति अमिय सी,लख टेसू न फ़ूला समाना डाल झुकीं तरुणी के तन सी, आम का बाग गया बौराना जीवन के दो पंथ निराले,कृष्ण की भक्ति अरु प्रिय को पाना दौनों ही मस्ती के पथ हैं , नित होवे है आना जाना--..!! चैत की लम्बी दोपहरिया में– जीवन भी पलपल अनुमाना छोर मिले न ओर मिले, चिंतित मन किस पथ पे जाना ? गिरीश बिल्लोरे “मुकुल”

शिव के चिदानंद स्वरूप की आराधना स्वर :अर्चना चावजी

Get this widget | Track details | eSnips Social DNA नमामी शमीशान...      Get this widget |      Track details  |         eSnips Social DNA