सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

अमृतलाल वेगड़ लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

व्यवस्था की सरिता के तटों की गंदगी साफ़ करते रहिये

                                    "  मैं जानता हूं कि मैं तुम्हैं श्रद्धांजलि न दे पाऊंगा तुम जो मेरे अंत की प्रतीक्षा में बैठे लगातार घात पे घात किये  जा रहे हो.. मैं पलटवारी नहीं फ़िर भी तुम्हारा भी अंत तय है.. सच मैं तुम्हारी देह-निवृति के पूर्व हृदय से   तुम्हारी आत्मा की शांति के लिये परमपिता परमेश्वर से आराधना रत हूं...!!"                        अक्षत ने अपनी प्रताड़ना से क्षुब्ध होकर ये वाक्य बुदबुआए कि उसकी सहचरी समझ गई कि आज फ़िर अक्षत का हृदय किसी बदतमीज़ी का शिकार हुआ है. सहचरी ने अपनी मोहक अभिव्यक्ति से बिना किसी सवाल के अमृतलाल वेगड़ की सद्य प्रकाशित किताब "तीरे-तीरे नर्मदा" उसके पास रख दी जिसके अंतिम पृष्ठ पर अंकित था ये वाक्य-"अगर सौ या दो सौ साल बाद कोई एक दंपती नर्मदा परिक्रमा करता दिखाई दे पति के हाथ में झाड़ू हो और पत्नि के हाथ में टोकरी और खुरपी; पति घाटों की सफ़ाई करता हो और पत्नी कचरे को ले जाकर दूर फ़ैंकती हो और दौनों वृक्षारोपण भी करते हों,तो समझ लीजिये कि वे हमीं हैं-कान्ता और मैं " आप ऐसी न बनें