सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

01/01/2012 लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आभार 2011 ... !!

जा रहे हो बीते बरस तुम्हारा आभार तो कर दूं ..!  तुम्हारे साथ बीते पलों ने नये के स्वागत का सलीका सिखा ही दिया.. .  तुम भले सवालों को सुलगा सुलगा जवाबों को कसौटी पे परखते रहे .. अरे हां वो तुम ही थे न जो कभी तेज़ी से तो कभी हौले-हौले अपनी पाथ पर सरकते रहे .. हां बीते बरस तुम ने ही तो बताया क्रांति और अवसरवादिता में फ़र्क सच कितना कड़्वा होता है बूढ़ी देह को जाते-जाते तुमने कर ही दिया सतर्क. सच इस बार तुम्हारा साथ बहुत कुछ दिखा गया .. हां सूरज को रौशनी की ज़रूरत थी.. तुम्हारा ही हाथ था न जो उसे दीपक दिखा गया. सच तुम्हारे तिलिस्म को भूल न पाऊंगा तुम्हारे गीत दिन दोपहरी जब भी तुम्हारी याद आएगी गुन गुनाऊंगा.    इस बरस तुमने मुझे जी भर के हंसाया हां उसी हंसी के पीछे था मैने अपने दर्द का पोटला छिपाया.. ओ बीते तिलिस्मी बरस तुम जा रहे हो न.. बताओ  फ़िर कभी आओगे न उदास चेहरों पे मुस्कान सजाओगे न.. आना ज़रूर आना.. प्राकृतिक-न्याय क्या होता है सबको बताना.. तुम्हारा ये काम अभी अधूरा है.. अब विदा देता हूं नेये को स्वागत का कार्ड दिखाना है