सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

हास्य-व्यंग्य लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

“भई, रावण को पूरी तरह से निपटा के फ़ूंक-फ़ांक के आना ”

                           कोने कोने में फ़ाइलिन तूफ़ान की आहट से लोग जितना नहीं घबरा रहे उससे ज़्यादा घबराहट सबों के दिल-ओ’-दिमाग में चुनावों को लेकर है. अर्र ये क्या आपसे कोई सियासी शगल करने का मेरा मूड क़तई नहीं हैं. भाई अपना चुनाव आयोग है न उसने कई फ़रमान जारी किये अक्सर जैसा होता चला आया है वैसा ही होगा...हमारी ड्यूटी है कि हम मतदान को प्रोत्साहित करें सो मित्रो इस बार आप वोट अवश्य डालें.. हर बार भी डालें . देखिये इस बार भी पूजा पर्व  भी अबके बरस प्रजातंत्र के महापर्व चुनाव के  संग साथ चला आया है. दीवाली भी इसी दौरान है. अष्टमी-पूजन के लिये जुगत लगा कर सरकारी लोग अपने अपने घर गांव की तरफ़ रवाना हुए हमने अपने मातहतों से कहा –“भई, रावण को पूरी तरह से निपटा के फ़ूंक-फ़ांक के आना  और हां तेरहीं के लिये मत रुकना वरना इलेक्शन अर्ज़ेंट की डाक आते ही लफ़ड़ा हो जाता है.. ” हम भी अष्टमी पूजन के लिये घर आ गए बाज़ार से पूजन सामग्री लाने का आदेश मिला सो बाज़ार पहुंचे . वहीं पूजन सामग्री खरीदते वक़्त मिला हमारा क्लास फ़ैलो जो इन दिनों मुहल्ला ब्रांड नेता कहा जाता है. हमने पूरे उत्साह से स