सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

बी एच यू लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

प्रबंधकीय कमजोरियां उजागर हुईं है बी एच यू में

27 नवम्बर 2014 को  काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के 26 वें कुलपति प्रोफेसर गिरीशचंद्र त्रिपाठी ने गुरुवार को अपना पदभार ग्रहण करते हुए  कहा था-  " बीएचयू में प्रवेश करते ही महामना की मूर्ति स्मरण हो गई और ऐसा लगा कि मेरे कंधों पर उनकी कल्पना को मूर्त रूप देने की ज़िम्मेदारी का पूरा भार है जिसे मैं पूरी निष्पक्षता के साथ पूरा करूंगा ।" उनकी शब्दावली में उम्रदराज शिक्षा शास्त्री होने के कारण सभी को सहज विश्वास हो सकता है किन्तु उनका व्यक्तित्व इतना कठोर सा क्यों नज़र आ रहा है 22 सितम्बर 17 से आज तक यानी 24 सितम्बर 2017 तक के घटना क्रम में .  जबकि वे कार्यभार ग्रहण करते समय ही  चुकें थे कि - " परिसर में प्रवेश करते समय जब मैंने छात्रों के भाव देखे तो उनकी आंखों में दिखाई देने वाली उम्मीद से मैं भाव विभोर हो उठा । विश्वविद्यालय में वे सभी प्रयास किये जायेंगे जिससे ये विश्व के सभी विश्वविद्यालयों में अग्रणी हो सके । यहां शिक्षा के हर आयाम पर ज़ोर दिया जाएगा जिससे नवीन तकनीक से जुड़कर छात्रों का मनोबल और दृढ़ हो सके।" नवागत वी सी ने तीन साल पूरे होते होते बेटियों से बात