रविवार, मार्च 14

लावण्या शाह जी से मुलाक़ात और जबलपुर में हुई ''प्रेस-ब्लागर्स-भेंट''

http://2.bp.blogspot.com/_PnvkyHm_19I/SqZwvOwxvNI/AAAAAAAAGSU/fuC0ZREIyOI/s400/amma+color+pic..jpg
http://1.bp.blogspot.com/_mKknRpJPktw/SZJO2OvQR4I/AAAAAAAAB4s/aDAwNNA1t8g/s320/family.jpghttp://3.bp.blogspot.com/_1dUL_Hnijmo/SZHfZbZCjHI/AAAAAAAAAew/L3YXguFMPCE/s320/untitled%E0%A5%A7.bmp



जबलपुर में हुई ब्लागर्स-मीडिया कर्मियों की मेल मुलाकात की रिपोर्ट ऊपर है  
अब सुनिए लावण्या शाह जी से हुई बातचीत के दौरान  लावण्या जी ने पंडित नरेद्र शर्मा जी के संस्मरण एवं लता जी के बारे में खूब और खुल के बातचीत की फ्रीज़ वाला संस्मरण खुर्जा के संत की दिव्यता को उजागर करता है . फिल्म सत्यम सुन्दरम के कालजयी गीत 'सत्यम-शिवम् सुन्दरम' लावण्या जी रिकार्ड होते सुना  है लावण्या जी ने बताया कि यह गीत लता जी ने एक ही बार में लगाता रिकार्ड करा दिया था बिना किसी संशोधन के . इस गीत का अध्यात्मिक पहलू भी है जिसका ज़िक्र भी इस चर्चा में उजागर हुआ. तो सुनिए यह मेरे लिए ऐतिहासिक पाडकास्ट 
एक गीत जो रेडियोनामा से साभार लिया गया पेश है
नाच रे मयूरा!
खोल कर सहस्त्र नयन,
देख सघन गगन मगन
देख सरस स्वप्न, जो कि
आज हुआ पूरा !
नाच रे मयूरा !

गूँजे दिशि-दिशि मृदंग,
प्रतिपल नव राग-रंग,
रिमझिम के सरगम पर
छिड़े तानपूरा !
नाच रे मयूरा !

सम पर सम, सा पर सा,
उमड़-घुमड़ घन बरसा,
सागर का सजल गान
क्यों रहे अधूरा ?
नाच रे मयूरा !

________________________________________
पंडित नरेंद्र शर्मा का साहित्य यहाँ देखिये 
________________________________________
सुनिये सत्यम शिवम् सुन्दरम यू ट्यूब पर
 

letter to lavanya shah from lata ji

20 टिप्‍पणियां:

अमिताभ श्रीवास्तव ने कहा…

bahuta rochak peshkasha

Udan Tashtari ने कहा…

आवाज कुछ कट कट कर आ रही है..शाम को सुनेंगे.

जबलपुर ब्लॉगर्स मीट के लिए बधाई.

'अदा' ने कहा…

Lavnya didi ko sunana kitna sukh kar laga bata nahi sakungi...
bahut sundar podcast..

गिरीश बिल्लोरे ''पॉडकास्टर'' ने कहा…

आज की बात चीत सच पाड कास्टिंग के लिए एक मील का पत्थर साबित होगी आप की शुभ कामनाएं मिली आभारी हूँ

दीपक 'मशाल' ने कहा…

आदरणीया लावण्या शाह जी की विनम्रता से अभिभूत हूँ..

दीपक 'मशाल' ने कहा…

ये आज ही पता चला कि महाभारत का गीत 'अथश्री महाभारत कथा..' पं. श्री शर्मा जी की लेखनी से निकला..

दीपक 'मशाल' ने कहा…

लता जी निश्चय ही एक बहुत महान विभूति हैं जिन्होंने भारत रत्न को ही सम्मानित किया..

दीपक 'मशाल' ने कहा…

गिरीश जी, छोटे नवाब की आवाज़ सुन लगा कि जैसे ८० के दशक का रसना का एड सुन रहा हूँ.

दीपक 'मशाल' ने कहा…

अगर मैं सही सुन पा रहा हूँ तो नोआ बहुत सुन्दर नाम है.. साथ ही धार्मिक भी.. उम्मीद है जल्दी ही वो हिंदी भी बोलेगा जिससे कि अपने पड़नाना जी पर गर्व कर सके.

ललित शर्मा ने कहा…

लावण्या शाह जी से मुलाकात करवाने के आभार
शुभकामनाएं

संजय भास्कर ने कहा…

लावण्या शाह जी से मुलाकात करवाने के आभार
शुभकामनाएं

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

इण्टरव्यू बहुत बढ़िया और रोचक रहा!

कृष्ण मुरारी प्रसाद ने कहा…

क्या आपको नहीं लगता कि बहुत ही अच्छी प्रस्तिती है...?
लड्डू बोलता है....इंजीनियर के दिल से....
laddoospeaks.blogspot.com

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति ...बधाई गिरीश जी. मीट के बारे में जो शुरुआत में खबर नहीं सका था वह कमी अपने पूरी कर दी है तहेदिल से आभार ...

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति.इन सब के लिये आप का धन्यवाद

shikha varshney ने कहा…

lavanya ji se milna bhaut sukhad raha..achchi peshkash .abhar.

शरद कोकास ने कहा…

इस पोस्ट मे तो सब कुछ है । हाँ अखबारों मे दस्तक देने के लिये बधाई । आखिर परसाई जी का शहर है यहाँ के अखबार वाले नहीं छापेंगे तो कौन छापेगा ?

गिरीश बिल्लोरे ''पॉडकास्टर'' ने कहा…

Jijashri ke yahaa padharne ka aabhar
rahee bat hamare shahar kee taseer gazab hai........aakhir aapakee sasural jo hai
saadar charn sparsh

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` ने कहा…

नमस्ते गिरीश भाई ,
आपने मुझे अवसर दिया के आपके साथ बात करूं ! ( और वो भी , non stop :)
बहुत आभार --- आवाज़ कट कट कर आ रही है ...सुननेवालों को शायद तकलीफ हो -
अब तकनीकी समस्याओं के लिए क्या किया जाए ?
:-(
फिर भी ,
आप सभी ने इस सुना , सराहा और अपना कीमती समय दिया उसके लिए आभारी हूँ
आपके परिवार व तमान ब्लॉग साथियों को चैत्र नवरात्र पर मंगल कामना -
सादर स - स्नेह,
- लावण्या

Doobe ji ने कहा…

ye hui na koi baaaaaaaaaaaaaaaaaat......jai ho maharaj................