पोस्ट

एक साथी एक सपना ...!!

सर्वहारा के बारे में सोचने की सनद और मेरा वो दोस्त

अंतरजालिया-साहित्य को कोसने का दौर

"कौआ ,चील ,गदहा ,बिल्ली ,कुत्ते

तोता बोला मैना मौन ?

होली तो ससुराल की बाक़ी सब बेनूर सरहज मिश्री की डली,साला पिंड खजूर

ब्लॉग प्रहरी : एग्रीगेटर के इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ