सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

फ़रवरी, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अविनाश जी से सुनिए आज के होली समाचार

आप भी इस कवि सम्मेलन का हिस्सा बनें आप इस तकनीकी कवि सम्मेलन का हिस्सा होकर दुनिया भर के लाखों कविता प्रेमियों से सीधे जुड़ सकते हैं। प्रक्रिया बहुत सरल है। रश्मि प्रभा के साथ यदि आप भी अतिथि संचालक होना चाहते हैं तो भी हमें लिखें। 1॰ अपनी साफ आवाज़ में अपनी कविता/कविताएँ रिकॉर्ड करके भेजें। 2॰ जिस कविता की रिकॉर्डिंग आप भेज रहे हैं, उसे लिखित रूप में भी भेजें। 3॰ अधिकतम 10 वाक्यों का अपना परिचय भेजें, जिसमें पेशा, स्थान, अभिरूचियाँ ज़रूर अंकित करें। 4॰ अपना फोन नं॰ भी भेजें ताकि आवश्यकता पड़ने पर हम तुरंत संपर्क कर सकें। 5॰ कवितायें भेजते समय कृपया ध्यान रखें कि वे 128 kbps स्टीरेओ mp3 फॉर्मेट में हों और पृष्ठभूमि में कोई संगीत न हो। 6॰ उपर्युक्त सामग्री भेजने के लिए ईमेल पता- podcast.hindyugm@gmail.com 7. मार्च 2010 अंक के लिए कविता की रिकॉर्डिंग भेजने की आखिरी तिथि- 21 मार्च 2010 8. मार्च 2010 अंक का पॉडकास्ट सम्मेलन रविवार, 28 मार्च 2010 को प्रसारित होगा। इस बारे में विस्तृत जानकारी ''आवाज़''   पर पायें  अब सुनिए समाचार अविनाश जी से

धोनी ने जिस कुएं का पानी पिया वो अदा जी के घर में ही

स्वप्न मंजूषा 'शैल'  छवि साभार :  क्वचिदन्यतोअपि..........! अदा जी के प्रोनाउन [सर्वनाम]   अदा जी से हुई बात चीत में हुए खुलासे  रांची में अदा जी और धोनी ने जिस कुएं का पानी पीया है वो अदा जी के घर में ही  अदा जी से  विवाह के लिए उनके पिता जी को आवेदन पत्र पेश किया था संतोष जी ने  अदा जी  मिमिक्री आर्टिस्ट एंकर प्रोड्यूसर और पिछले छै महीने से हिन्दी-ब्लॉगर भी हैं  अदा जी कविता,गज़ल,नृत्य,नाट्य,ध्वनि-आधारित कला साधिका हैं  अदा  जी  को कनाडा सरकार ने सम्मानित किया यकींन न  हो तो खुद ही सुनिए 

आज समीर भाई जम के पियेंगे

समीर जी का होली हंगामा वैसे तो मुझको पसंद नहीं मित्रों, यह कोई कविता नहीं और न ही स्पष्टीकरण है.बस एक मजबूर का मजबूरियों का बखान है. जिस मूड़ में लिखी गई है, उसी मूड में पढ़िये और आनन्द उठाईये. इस मजबूरी में अन्तिम छंद चिट्ठाकारी को समर्पित है. जब चाँद गगन में होता है या तारे नभ में छाते हैं जब मौसम की घुमड़ाई से बादल भी पसरे जाते हैं जब मौसम ठंडा होता है या मुझको गर्मी लगती है जब बारिश की ठंडी बूंदें कुछ गीली गीली लगती हैं तब ऐसे में बेबस होकर मैं किसी तरह जी लेता हूँ वैसे तो मुझको पसंद नहीं बस ऐसे में पी लेता हूँ. जब मिलन कोई अनोखा हो या प्यार में मुझको धोखा हो जब सन्नाटे का राज यहाँ और कुत्ता कोई भौंका हो जब साथ सखा कुछ मिल जायें या एकाकी मन घबराये जब उत्सव कोई मनता हो या मातम कहीं भी छा जाये तब ऐसे में मैं द्रवित हुआ रो रो कर सिसिकी लेता हूँ वैसे तो मुझको पसंद नहीं बस ऐसे में पी लेता हूँ. जब शोर गुल से सर फटता या काटे समय नहीं कटता जब मेरी कविता को सुनकर खूब दाद उठाता हो श्रोता जब भाव निकल कर आते हैं और गीतों में ढल जाते हैं जब उनकी धुन में बजने

कुंवर मिथलेश दुबे ने तलाश ली है अपनी शरीके हयात ?पाडकास्ट

पाडकास्ट  ________________________________________________ ललित जी का नज़रिया देखिये हेड फोन लगाते नहीं बस  डाँटते  रहते है ललित भैया मुझे  भाई गिरीश बिल्लौरे जी ने जब से पोडकास्ट शुरू किया है...........वो की बोर्ड से लिखना ही भूल गये है.....अब बात भी पॉडकास्ट की भाषा में होती है...............बस दिन रात का एक ही काम रह गया है पॉडकास्ट......तो भैया समय हो तो कभी लिख भी लिए करो आज पॉडकास्ट में धमाल है विवेक रस्तोगी के साथ. .....सुनिए.......और गुनिये......... पदम् सिंग  जी प्द्मावली पर एक बहुत विचारनीय स्मरण लेकर आये हैं......रेलवे स्टेशन पर घटी एक घटना ने इन्हें लिखने को मजबूर कर दिया...... .छोटा सा बडप्पन ......जब भी उधर से गुजरता हूँ , नज़रें ढूंढती रह जाती हैं उसे लेकिन फिर कभी नहीं दिखा मुझे वहां, उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़  शहर के रेलवे स्टेशन का जिक्र करता हूँ ….. Friday, ‎February ‎24, ‎2006 दोपहर के बाद का समय था…हलकी धूप थी. गुलाबी ठण्ड में थोड़ी धूप अच्छी भी लगती है और ज्यादा धूम गरम भी लगती है … स्टेशन पर बैठा इंतज़ार कर रहा था और ट्रेन लगभग एक घंटे बाद आने वाली थी ….. बेंच प

रस्तोगी जी की कई प्रेमिकाओं का नाम 'भावना' है

रस्तोगी जी की कई प्रेमिकाओं का  नाम 'भावना' है  यकीन नहीं है तो सुन लीजिये खुद ही इस पाडकास्ट में

होली हंगामा पॉडकास्ट भाग 01

पूज्य एवं प्रियवर होली हंगामा पॉडकास्ट  भाग एक में हार्दिक स्वागत है इस भाग में आप मिलिए  शरद कोकस,संगीता पुरी,अविनाश वाचस्पति,अनिता कुमार, दीपक मशाल जी से और कल रात्रि अजय झा , शहरोज़, और रानी विशाल जी से,

महफूज़ भाई से बातचीत में ''नाईस'' का खुलासा हुआ

आदरणीय बंधुओ/भगनियो सादर अभिवादन महफूज़ भाई से हुई लम्बी बातचीत का अंतिम अंश पेश-ए-खिदमत है,

महफूज़ अली : Part-02

अनूप जी ने कहा :- अनूप शुक्ल said... बाकी तो सुनकर पता चलेगा लेकिन भारत के ब्लॉगर्स की एक लिस्ट यहां भी है। इनमें से एक अमित अग्रवाल की पोस्ट्स अप्रैल 2001 की हैं। जानकारी के लिये बता दें कि इंडीब्लॉगीस के 2003 के नामीनेशन में लाइफ़टाइम अचीवमेंट के लिये जिन दो ब्लॉग नामित हुये थे उनमें से एक जुलाई 1999 से ब्लॉग लिख रहे हैं। महफ़ूज अली में खूबियां ही खूबियां हैं लेकिन पहला ब्लॉगर सबसे पहला ब्लॉगर (जिस सबसे पहले ब्लॉग का आज पता ही नहीं है) लिखने के पहले तथ्य जांच लेते तो शायद अच्छा होता!  विवेक जी ने भी बताया   Vivek Rastogi said...जहाँ तक हम जानते हैं सबसे पुराने हिन्दी ब्लॉगर जीतू भाई को हम जानते हैं जो कि सितंबर २००४ से हिन्दी ब्लॉग संचालन कर रहे हैं। http://www.jitu.info/merapanna/?page_id=300 मेरा पन्ना देखिये आप यहाँ देख सकते हैं, पोडकॉस्ट सुना नहीं है शाम को सुन पायेंगे। ______________________________________________________________________________ आप सभी ने देखा होगा पाडकास्ट  सुनने के पहले यदि आप ने कुछ पढ़ा हो तो ये ज़रूर पढ़ा होगा  {पोस्ट हैडर को देख आप हैरान होंगे

महफूज़ अली : भारत के सबसे पहले ब्लॉगर............?

                                आज हमारे अग्रज भाई महेंद्र मिश्र ने चेट के दौरान कहा धाँसू पॉड कास्ट जा रहे हैं महेंद्र जी आज एक धाँसू व्यक्तित्व   महफूज़ अली से बात हुई है. सीधी बात के दौरान पता चला की वे भारत के  सबसे पुराने  ब्लॉगर . महफूज़   अली लेखक कवि एवं अब हिंदी ब्लागिंग के मैदान के सफल एवं चहेते खिलाडी हैं उनका ब्लॉग है ' मेरी रचनाएँ ' बरबस मन मोह लेता है. अपनी  तरह   के अनोखे  महफूज़  भाई खुश मिजाज़, ज़िंदा दिल और हरदिल अज़ीज़ इंसान हैं. इनसे बात करते वक्त मैं खुद बह चला इनकी रेशमी आवाज़ के पीछे. - आपके समक्ष पेश है उनसे हुई सीधी बात का पहला एपिसोड.अगले एपीसोड्स का इंतज़ार कीजिये  {पोस्ट हैडर को देख आप हैरान होंगे मैं लिख कर खुद हैरान हूँ. यदि आप जानते है. किसी ऐसे ब्लॉग लेखक या लेखिका को जो महफूज़ भाई से भी पहले के भारतीय ब्लॉगर हैं तो अवश्य सूचित कीजिये. उनसे  खुद महफूज़ भाई और मुझे मिलकर ख़ुशी होगी. आपको भी.... }

किसलय जी का समझदार कुत्ता बोनी

एक  मकबूल डॉग बोनी  ने किसलय जी के अथक परिश्रम से काफी कुछ सीख गया एक हम हैं कि उनकी मेहनत से सिखाई जा रही बातों पे ध्यान नहीं दे रहे .... अब हम ठहरे 'जो गुरु मिलहिं विरंची सम:' के अनुगायक चलिए मैं तो समय आने पे ही सीख पाउँगा बोनी के कारनामे देखिये 

Talk Show With Sanjeev Verma Salil

पेशे से अभियंता ह्रदय से कवि लोक निर्माण विभाग मध्य-प्रदेश में पदस्थ प्रशासन में महत्वपूर्ण अस्तित्व निरंतर गति शील दिव्य नर्मदा के मालिक भाई संजीव वर्मा सलिल से बातचीत गीत का बनकर विषय जाड़ा नियति पर अभिमान करता है... कोहरे से गले मिलते भाव. निर्मला हैं बिम्ब के नव ताव.. शिल्प पर शैदा हुई रजनी- रवि विमल सम्मान करता है... गीत का बनकर विषय जाड़ा नियति पर अभिमान करता है... फूल-पत्तों पर जमी है ओस. घास पाले को रही है कोस. हौसला सज्जन झुकाए सिर- मानसी का मान करता है... गीत का बनकर विषय जाड़ा नियति पर अभिमान करता है... नमन पूनम को करे गिरि-व्योम. शारदा निर्मल, निनादित ॐ. नर्मदा का ओज देख मनोज- 'सलिल' संग गुणगान करता है... गीत का बनकर विषय जाड़ा खुदी पर अभिमान करता है...

सर्वाधिक ब्लॉगर चीनी नहीं जापानी लोग हैं:समीर लाल जी से सीधीबात भाग:02

मशहूर ब्लॉगर एवं बिखरे मोती के कवि भाई समीर लाल जी से साक्षात्कार द्वितीय कड़ी सादर प्रस्तुत है. 

अनूप शुक्ल जी से संवाद

ब्लॉग के सशक्त हस्ताक्षर अनूप शुक्ला संयुक्त महाप्रबंधक लघु शस्त्र निर्माणी ,कानपुर  हैं .  आज ब्लॉग जगत के लिए उनसे हुए संवाद को पेश करते हुए मुझे ख़ुशी है उनके ब्लॉग फुरसतिया  चिट्ठा चर्चा  मैं ही प्रथम नहीं हूँ जो पाडकास्ट इंटरव्यू ले रहा हूँ मुझसे बेहतरीन अंदाज़ में इस  चर्चा के पहले भी पॉडभारती पर अनूप जी से चर्चा हुई उसे मत भूलिए उसे भी सुन ही लीजिये यहाँ  

सुरेश चिपलूनकर से बात चीत

राष्ट्र वादी विचार धारा के पोषक अंतर जाल के महत्वपूर्ण लेखक सुरेश चिपलूनकर से हुई बात चीत दो भागों में पेश है  भाग  दो _______________________________________________ एक

गत्यात्मक ज्योतिष की प्रवर्तक श्रीमती संगीता पुरी जी की भविष्यवाणी सही हुई

सुधि श्रोता गण सादर-अभिवादन पोडकास्ट साक्षात्कार के दूसरे भाग में संगीता पुरी जी ने ज्योतिष को विज्ञान  कहने में कहीं कोई कमीं नहीं छोड़ी. किन कारणों से ज्योतिष को विज्ञान की सहमति न मिल सकी यह भी बताया है. साथ ही  उनके द्वारा मेरे  जन्म से लेकर अब तक के उतार चढ़ाव को भी प्रेषित किया जो 90 प्रतिशत सही पाए गए {देखिये ग्राफ एक एवं दो } बावरे-फकीरा पर प्रसारित  उनसे लिए  साक्षात्कार भाग एक को सुनने भाग-एक पर क्लिक कीजिये  मिसफिट ब्लॉग पर पहुँच कर तथा   भाग-दो सुनने के लिए  यहाँ चटके का इंतज़ार है. इस प्रयोग को जारी रखने आपका सहयोग अपेक्षित है .आज की चर्चा सुनकर आपको  ज्ञात  कि मौसम संबंधी भविष्यवाणी पूर्णत: सही साबित हुई है संगीता पुरी जी                                                                                                                   ग्राफ एक                                                                                                        ग्राफ दो    ___________________________________________________ सेकण्ड कापी 

श्री राजीव तनेजा जी से बातचीत

राजीव  तनेजा दिल वालों की दिल्ली की दिलदार शख्शियत तनेजा जी एक नहीं दो  ,तीन   न बाबा पूरे चार ब्लाग्स के मालिक  हैं  आज श्री राजीव तनेजा जी से बातचीत की गई जिसे  सुनिए अन्तरंग बात चीत  ''सव्यसाची'' पर .

तवायफ की मौत

राज  कुमार  सोनी के बिगुल पर प्रकाशित ''घुंगरू टूट गए''  को पढ़ते ही मुझे अपनी पंद्रह  बरस पुरानी एक सम्पादक द्वारा सखेद वापस रचना याद आ गई सोनी जी के प्रति आभार एवं उस आत्मा की शान्ति  के लिए रचना सादर प्रेषित है चीथड़े में लिपटी बूढ़ी  माँ मर गई कोई न रोया न सिसका उन सेठों के बच्चों ने भी नहीं जिन सेठों नें बदन नौचा था इसका वे बच्चे इसे माँ  कह सकते थे एक एक दिन अपने साथ रख सकते थे ओरतें भी इस बूढ़ी सौत की सेवा कर सकतीं थीं किन्तु कोई हाथ कोई साथ न था इस को सम्हालने सारे हाथ बंधे थे सामाजिक-सम्मान की रेशमी जंजीर से ये अलग बात है ये परिवार गिर चुके थे ज़मीर से बूढ़ी शबनम के पास मूर्ती पूजक पैगम्बर के आराधक सब जाते थे जिस्मानी सुख के सुरूर में गोते खाते थे आज आख़िरी सांस ली इस बूढ़ी माँ ने तब कोई भी न था साथ घमापुर पोलिस ने रोजनामाचे में मर्ग कायम कर लाश पोस्ट मार्टम को भेज दी है पोलिस वाले उसे जलाते अगर उसका नाम शबनम न होता उसे दफना दिया गया है अल्लाह उस पुलिस वाले को ज़न्नत दे जिसने दफनाते वक्त आँखें भिगोई थीं....! _________________