सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

December, 2009 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

नए वर्ष तुम्हारा स्वागत क्यों करुँ ...?

रस्म अदायगी के लिए
भेज देतें हैं लोग चंद एस एम एस
तुम्हारे आने की खुशियाँ इस लिए मनातें हैं क्योंकि
इस रस्म को निबाहना भी ज़रूरी है
किसी किसी की मज़बूरी है
किन्तु मैं  नए  वर्ष  तुम्हारा  स्वागत  क्यों करुँ ...?
अनावश्यक आभासी रस्मों में रंग क्यों भरूँ ?
पहले  तुम्हें आजमाऊंगा
कोई कसाबी-वृत्ति से विश्व को मुक्त करते हो तो
तो मैं हर इंसान से एक दूसरे को बधाई संदेशे भिजवाउंगा
खुद सबके बीच जाकर जश्न तुम्हारी कामयाबी का मनाऊँगा
तुम सियासत का चेहरा धो दोगे न  ?
तुम न्याय ज़ल्द दिला दोगे न ?
तुम मज़दूर मज़बूर के चेहरे पर मुस्कान सजा दोगे न ?
तुम विश्व बंधुत्व की अलख जगा दोगे  न ?
यदि ये सब करोगे तो शायद मैं आखरी दिन
31 /12 /2010 को रात अपनी बेटी के जन्म दिन के साथ
तुम्हें आभार कहूँगा....!
तुम्हारे लिए बिदाई गीत गढ़ूंगा !!
तुम विश्वास तो भरो
मेरी कृतज्ञता का इंतज़ार करो ?


मधुकर एवं सव्यसाची अलंकरण :अखबारों में

पंचम-पुण्य-तिथि 28/12/09

सव्य-साची माँ प्रमिला देवी बिल्लोरे को
 विनत-श्रद्धांजलि
पति:
काशीनाथ बिल्लोरे,
पुत्र-पुत्रवधु:
हरीश-विद्या,सतीश-संगीता, गिरीश-सुलभा
पुत्री-दामाद:
शोभा-रमेश गुहे,वन्दना-शरद जोशी,
सीमा-राजेन्द्र गुहे,
__________________________
पौत्रियां:
सोनिया,आस्था,गरिमा,प्रिया,अनुभा,
शिवानी,श्रद्धा,

पौत्र:
सौरभ,अंकुर,स्वर्णिम,सिद्दार्थ,
चिन्मय,शाश्वत,समर्थ,
__________________________
स्मरण-आयोजन
24/12/09:पत्रकारितासम्मान(समपन्न)
28/12/09: नारायण-सेवा(ग्वारीघाट)

__________________________

सव्यसाची-कला ग्रुप जबलपुर


हास्य-व्यंग्य

ललित शर्मा जी  की मूंछें देखिये और घडी   को देख कर जानिये दफ्तर जाने के लिए सबसे सही समय कौन बता सकता है ?
घडी सही है या शर्मा जी मेरे हिसाब से शर्मा जी की मूंछ  ऐसा इस लिए कि हर दफ्तर जाने  वाले को शर्मा जी चेहरा याद करके दफ्तर के लिए एक घंटे पूर्व घर से निकलना चाहिए . अब सवा नॉ बज चुका है आप घर  छोडिये और दफ्तर के लिए निकलिए .
-ललित जी, आपका स्मरण हो आया तो  लगा कि दफ्तर जाने का सही समय आप की मूंछों से बेहतर कौन सुझा सकता है घडी का क्या चली चली न चली सच आपके मोहल्ले में आप की मूंछें ही ही याद दिलाती होंगीं.......   हमारे  मोहल्ले में तो सारे अड़ोसी-पड़ोसी मुछ मुंडे हैं  और हम रोज़ दफ्तर जाने में लेट हो जातें हैं आपके  मुहल्ले के करमचारी  कितने  भाग्यशाली है ....!  है न ...ललित जी ....?    मूंछें हो तो नत्थूलाल जी की तरह वरना न हो ? अरे क्यों न हो कोई ज़बरदस्ती है.....मूंछें हों तो ललित जी की मानिंद वरना न हों ! अब यही जुमला चल रहा है  . चंदू भाई  कल ही पूछ रहे थे ललित शर्मा ब्रांड मूंछें किस तरह बनवाएं ? हम बोले:-चंदू भाई,यह दिव्य-ज्ञान स्वयं साक्षात ललित जी दे सकतें हैं अथवा उनका केश-सज्…

इस वर्ष का हीरा लाल गुप्त "मधुकर" स्मृति सम्मान श्री गोकुल शर्मा दैनिक भास्कर जबलपुर ,सव्यसाची अलंकरण श्री सनत जैन भोपाल को तथा श्रेष्ट ब्लॉगर सम्मान श्री महेंद्र मिश्र को

स्वर्गीय श्री हीरा लाल गुप्ता  पत्रकारिता के क्षितिज पर एक गीत सा , जिसकी गति रुकी नहीं जब वो थे ..तब .. जब वो नहीं है यानी कि अब । हर साल दिसंबर की 24 वीं तारीख़ को उनको चाहने वाले उनके मित्रों को आमंत्रित कर सम्मानित करतें हैं । यह सिलसिला निर्बाध जारी है 1998 से शुरू किया था मध्य-प्रदेश लेखक संघ जबलपुर एकांश के सदस्यों ने । संस्था तो एक प्रतीक है वास्तव में उनको चाहने वालों की की लंबी सूची है । जिसे इस आलेख में लिख पाना कितना संभव है मुझे नहीं मालूम सब चाहतें हैं कि मधुकर जी याद किये जाते रहें । मधुकर जी जाति से वणिक , पेशे से पत्रकार , विचारों से विप्र , कर्म से योगी , मानस में एक कवि को साथ लिए उन दिनों पत्रकार हुआ करते थे जब रांगे के फॉण्ट जमा करता था कम्पोजीटर फिर उसके साथ ज़रूरत के मुताबिक ब्लाक फिट कर मशीनिस्ट  को देता जो समाचार पत्र छपता था । प्रेस में चाय के गिलास भोथरी टेबिलें खादी के कुरते पहने दो चार चश्मिश टाइप के लोग जो सीमित साधनों में असीमित कोशिशें करते नज़र आते थे । हाँ उन दिनों अखबार का दफ्तर किसी मंदिर से कमतर नहीं लगता था . मुझे नहीं मालूम आप को क्या लगता होगा य…

"भिलाई में लिए निर्णयों की घोषणा से मध्य-प्रदेश में हर्ष

सहोदर प्रदेशों यानी मध्य-प्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के ब्लॉगर इन दिनों निरंतर नवाचारों में व्यस्त हैं . इन नवाचारों का सीधा संकेत यह भी है कि ब्लागिंग को किस तरकीब से स्तरीय और पठनीय बनाया जावे. ब्लॉग बनाम पांचवे खम्बे की ज़रुरत और उसकी उपादेयता अब किसी से छिपी नहीं है. हिंदी-ब्लागिंग यानि चिट्ठाकारिता के विकास की इस पहल से जो भी कुछ बेहतर होगा आज से पांच बरस बाद सबके सामने होगा. तभी तो भिलाई में जिस महत्वपूर्ण बात का खुलासा किया गया वो भारतीय भाषाओं के अंतर्जालीयकरण का मेल-स्टोन ही कहा जावेगा. पांचवे स्तम्भ को प्रोत्साहित करने भिलाई चिंतन बैठक में चिट्ठाचर्चा को डोमिन पर पंजीकृत करा लिया है ऋतु परिवर्तन-पर्व यानी संक्रांति के दिन से आरम्भ हो ही जावेगा. सूचना प्रौद्योगिकी के इस युग में खबर-रटाऊ सबसे आगे वाले फार्मूले से मुक्ति दिलाती हिंदी चिट्ठाकारिता ने वैचारिक-आदानप्रदान को भी बढावा दिया है.इस बात को नकारना असंभव है. अब तो भिलाई और जबलपुर इतने करीब हैं जितने कभी न थे. . छत्तीसगढ़ के ब्लागर्स का यह अनूठा प्रयास सफल होगा सभी आश्वस्त हैं पूत के पाँव पालने में ही नज़र आ जातें हैं.... ? इ…

जिस दिन से देश आज़ाद हुआ है हम हमारे हक़ से ज़्यादा शायद ही कुछ सोच पा रहे हैं.....?

                                          जीवन भर प्रिवलेज़ के आदी हम लोग किस मार्गदर्शक मशाल की तलाश में हैं समझ में नहीं आ रहा हम किस दिशा में सोच रहे हैं और किस दिशा में जा रहें हैं. जिस दिन से देश आज़ाद हुआ है हम हमारे हक़ से ज़्यादा शायद ही कुछ सोच पा रहे हैं.....? क्यों आखिर क्यों हमें आने वाले समय का ख्याल नहीं होता बस आत्म-केन्द्रित सोच कुंठित वृत्ति इसके आगे भी कुछ सोचा-समझा है हमने तो आत्म-प्रसंशा के लिए .
                            आज का दौर वो दौर है जिस दौर में राजनैतिक दबाव में आकर मशीनरी को काम करना होता है नियमों को बलाए-ताक रखवाने में अग्रणी राज-नीतिज्ञों को अपने "शक्तिवान होने का दुरुपयोग न तो करना चाहिए और न हीं अपने इर्द-गिर्द स्वपन-दिखाने वाला आभा मंडल ही बनाना चाहिए " नियमों के अनुसार कार्य कराने और शास्त्री जी की तरह सादगी पूर्ण विचार वान  देश का सच्चा सेवक होता है  बाकी जो भी देश सेवक होने का दावा करतें हैं नाटकबाज़ नज़र आतें हैं दुनिया को.................................!

शेष भाग यहाँ मिलेगाइस चटके पर

कुंठा का कोई अंत नहीं है

अल्पग्य  लोगों  कुंठा का कोई अंत नहीं है अन्यथा ब्रिगेडियर-महफूज़ अली  को  विशेष-रपट  देने की क्या ज़रुरत थी .किसिम किसिम के विचार उठ रहें हैं मन में कितनी गन्दगी है....उन  लोगों के ..जो....घटिया और गलीच सोच वाले जो हिंसा के रास्ते धर्म की स्थापना करने निकल पड़े.किसी धर्म के  रास्ते चलकर  ईश्वर को पहचाना जाता है. जबकी कुंठित-लोग जिन्हें धर्म के सार-तत्व यानी अध्यात्म का ज्ञान नहीं है वे ईश्वर को परिभाषित करने की बेवज़ह कोशिशों में लिप्त हैं . जब सभी पंथों धर्मों के दिव्य साहित्यों में लिखा है कि ईश्वर से साक्षात्कार सहज नहीं है न तो चार किताबें बांच के कोई देवदूत हो जाता न ही श्लोक ऋचाएं गाकर उस दिव्य शक्ति की प्राप्ति होती है. सौरभ भाई आपकी सोच जब इतनी उम्दा है
हर कहीं जिन्दगी एक सी ही होती हैं ,
अपने ज़ख्मों को अपनो को बता कर रखना ।
मन्दिरो में ही मिलते हो भगवान जरुरी नहीं ,
हर किसी से रिश्ता बना कर रखना .
                     तो एक बार तो सोचते तो शायद इतनी अफसोस जनक स्थिति नहीं आती गौर से देखो इस तस्वीर में तुम्हारे आराध्य नहीं तुम दौनों ही हो .=>
प्रिय भाई जो सच्चा ईश्वरवादी होगा वो…

जीत लें अपने अस्तित्व पर भारी अहंकार को

आज
तुम मैं हम सब जीत लें
अपने अस्तित्व पर भारी
अहंकार को
जो कर देता है
किसी भी दिन को कभी भी
घोषित "काला-दिन"
हाँ वही अहंकार
आज के दिन को
फिर कलुषित न कर दे कहीं ?
आज छोटे बड़े अपने पराये
किसी को भी
किसी के भी
दिल को तोड़ने की सख्त मनाही है
कसम बुल्ले शाह की
जिसकी आवाज़ आज भी गूंजती
हमारे दिलो दिमाग में

मन का पंछी / यू ट्यूब पर सुनिए

Man ka Panchhi मन का पंछी यू  ट्यूब पर सुनिए 

मन का पंछी खोजता ऊँचाइयाँ,
और ऊँची और ऊँची उड़ानों में व्यस्त हैं।

चेतना संवेदना, आवेश के संत्रास में,
गुमशुदा हैं- चीखों में अनुनाद में।
फ़लसफ़ों का किला भी तो ध्वस्त है।
मन का पंछी. . .

कब झुका कैसे झुका अज्ञात है,
हृदय केवल प्रीत का निष्णात है।
सुफ़ीयाना, इश्क में अल मस्त है-
मन का पंछी. . .
बाँध सकते हो तो बाँधो, रोकना चाहो तो रोको,
बँधा पंछी रुका पानी, मृत मिलेगा मीत सोचो
उसका साहस और जीवन इस तरह ही व्यक्त है।।