मंगलवार, फ़रवरी 28

जयपुर और दिल्ली के बाद जबलपुर में लगाऊंगा कविता पोस्टर प्रदर्शनी : विनय अम्बर

जी हां मेरी ही कविताएं हैं विनय अम्बर के
बनाए पोस्टर्स में........
जयपुर और दिल्ली में एक्ज़ीबीशन लग चुके हैं..



 विनय अम्बर ने अल्टीमेटम दे दिया था गिरीश भैया कल कविताएं मिल ही जानी चाहिये..
दस कविताएं.. न उससे भी ज़्यादा कविताएं दीं विनय को.......
   खूबसूरती के साथ उकेरे गए चित्रों के संग साथ मेरी कविताएं लिख दीं विनय भाई ने.........

कविता पोस्टर दिसम्बर २०११ को जयपुर में लगे थे
फ़रवरी में विनय ने दिल्ली में लगाए...........
कल विनय ने बताया
"भैया. जबलपुर में लगाऊंगा कविता पोस्टर प्रदर्शनी."





ये हैं विनय-अम्बर  जबलपुर को जिस पर पूरा भरोसा है...मैं  भी इनके उजले कल को देख पा रहा हूं.........
जो बहुत नज़दीक है............
जब आप पूछेंगे -जी विनय को आप जानते हैं..?
 

सोमवार, फ़रवरी 27

तो फ़िर द हिंदु को ही माफ़ी मांगना चाहिये लक्ष्मी शरद के विवादित आलेख पर

Return to frontpage
"The-Hindu" में प्रकाशित एक आलेख का सिंहावलोकन ब्लाग पर ज़िक्र करते हुए जब श्री राहुल सिंह जनता का ध्यान आकृष्ट कराया किंतु न तो अनुशासन हीन लेखिका ने किसी भी प्रकार से अनुशासन हीनता के लिये क्षमा चाही और न ही अखबार ने कुछ कहा. अपितु महिला आयोग द्वारा मामले को दुर्भाग्य-पूर्ण बताया वहीं ब्लागर एक जुट नज़र आ रहे हैं. रश्मि  रविजा ,संतोष त्रिवेदी, भारतीय नागरिक - Indian Citizen,विष्णु बैरागी,संजय @ मो सम कौन , डॉ॰ मोनिका शर्मा,सुनीता  शर्मा ,अभिषेक मिश्र ,खुशदीप  सहगल ,प्रवीण पाण्डेय,डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ,अली ,लोकेन्द्र  सिंह  राजपूत,यशवन्त माथुर  ,वीरुभई ,संगीता स्वरुप ( गीत ) ,अनूप शुक्ल,संजय  मिश्र  'हबीब ' ,राजेश उत्‍साही,आशा जोगळेकर,उड़न  तश्तरी,ज्ञान्दुत्त  पाण्डेयईश्वर  खान्देलियामहेंद्र  वर्मा ,केवल राम संजीत  त्रिपाठी,जी.के. अवधिया ,वरुण कुमार सखाजी,रमाकांत  सिंह,देवेन्द्र पाण्डेय ,अरविन्द  मिश्र,सतीश सक्सेना,अविनाश  चन्द्र ,कौशलेन्द्र,शिखा  वार्ष्णेय,प्रतिभा सक्सेना,अतुल  श्रीवास्तव,ललित शर्मा,हेमन्‍त वैष्‍णव,सतीश पंचम,विवेकराज सिंह,ललित  कुमार,अभिषेक मिश्र,सुज्ञ,पी .एन . सुब्रमनियन,काजल कुमार Kajal Kumar ,देवेन्द्र  दत्त  मिश्रसंतोष त्रिवेदी,किशोर   दिवसे , सरिता  ठाकोरे ,अरुणेश सी  दवे,श्रद्धा,विवेक  रस्तोगी ,राकेश  तिवारी,pkmgkp अभिषेक  ओझा,शाहनवाज़,नीरज रोहिल्ला, सहित सारा ब्लॉग-जगत, एक जुट नज़र आ रहा है,  
      सभी ब्लागर इस बात को लेकर छुब्ध हैं कि -"सस्ती लोकप्रियता की लोलुप लेखिका" के मानस में कोई हलचल क्यों नहीं हो रही..? उफ़्फ़ ये बेगैरत अंदाज़. मेरा मानना है कि  आप केवल इस मसले को अगर यहीं एकाध पोस्ट तक सीमित रखेगें तो तय है ऐसी घटनाओं की पुनर्रावृत्ति अवश्यम्भावी है. हम ब्लॉगर अपमे दायित्व को बेखौफ निबाहें..खूब भर्तस्ना करें  ऐसे कुत्सिस प्रयासों की जो सामूहिक रूप से  लैंगिक आधार पर किसी का भी अपमान करते नज़र आयें.
      बहारहाल अभी आप इस देवी को इ मेल भेज कर अपना सन्देश दे सकतें हैं. lakshmi.sharath@gmail.com              

शनिवार, फ़रवरी 25

जो गीत तुम खुद का कह रहे हो मुकुल ने उसको जिया है पगले




कि जिसने देखा न खुद का चेहरा उसी  के  हाथों  में  आईना है,
था जिसकी तस्वीर से खौफ़ सबको,सुना है वो ही तो रहनुमां है.
हां जिनकी वज़ह से है शराफ़त,है उनकी सबको बहुत  ज़रूरत-
वो  चार लोगों से डर रहा हूं… बताईये क्या वो सब यहां हैं..?
अगरचे मैंने ग़ज़ल कहा तो गुनाह क्या है.बेचारे  दिल का...
वो बेख़बर है उसे खबर दो    कि उसके चर्चे कहां कहां हैं..?
वो लौटने का करार करके गया था, लेकिन कभी न लौटा-
करार करना सहज सरल है- निबाहने का ज़िगर कहां है .
जो गीत तुम खुद का कह रहे हो मुकुल ने उसको जिया है पगले
किसी को तुम अब ये न सुनाना सभी कहेंगे सुना- सुना है .

शुक्रवार, फ़रवरी 24

जितनी ज़ल्द हो सके मन से कुण्ठा को विदाई दिलाना ज़रूरी है.


                           उदास आंखों में सपनों ने जगह बना ही ली . अक्सर हम सोचा करतें हैं कि हम सबसे ज़्यादा दुखियारे अकिंचन हैं.हमारी आदत है ऊंचाईंयों तक निगाह करने की. और फ़िर खुद को देखने की. अब बताईये परबत देख कर आप खुद को देखेंते हैं तब  तो सामान्य सी बात है कि खुद को नन्हा महसूस करेंगे ही. बस यहीं कुंठाएं जन्म ले लेतीं हैं. हम खुद को असहज पाते हैं.    

दस बरस का था तब मुझे लगा कि मैं क्रिकेट खेल सकता हूं और फ़िर कोशिश की बैसाखियों के सहारे दो रन बनाए भी. दूसरी ही बाल पर क्लीन बोल्ड. बोल्ड होने से अधिक पीढा थी खेल न पाने की. बाल मन अवसाद से सराबोर हुआ . रोया भी ....खूब था तब
      रेल स्टेशन के क़रीब रेल्वे  क्वार्टर में  अक्सर दुख:द खबरें मिला करतीं थीं. उस दिन स्कूल से लौटते वक़्त देखता हूं कि एक इंसान जाने किस भ्रम के वशीभूत हुआ रेल पटरी पार करने के बाद वापस लौटा और यकायक रेलगाड़ी की चपेट में आ गया.. मेरी आंखों के सामने घटा ये सब ये क्या .. उफ़्फ़ दौनों टांगें .. खुद से खूब सवाल करता रहा -"बताओ, अब वो जी भी गया तो क्या सहजता से चल सकेगा..?     
  अर्र अब उस बेचारे के तो दौनों पांव..?" 
   मुझसे ज़्यादा बुरी दशा में है वो.. उसके तो दौनों पैर.. ही न होंगे.. अब 
   जी हां उसी दिन से मन का अकुलाहट से रिश्ता ही टूट गया. 
  कहानी का इशारा है कि जितनी ज़ल्द हो सके मन से कुण्ठा को विदाई दिलाना ज़रूरी है. 
       पर वयस्क होने पर कुण्ठाएं बेलगाम हो जातीं है. अक्सर बच्चों में बगावती तेवर आपने देखे होंगे.ये ही बच्चे बड़े होकर एक बेलगाम ज़िंदगी को जीते हैं. सही वक़्त है बचपन जब आप बच्चों को अभावों कमियों पराजयों से मुक़ाबला करना सिखा सकते हैं...



   ज्ञान मत बांटिये भाषण मत दीजिये दिखाइये उनको अभाव ग्रस्त जीवनों की परिस्थितियाँ . अक्सर हम ग़रीब, बेसहारा यतीमों को "अनाथ" कह कर दया भाव से देखते हैं. मेरे एक मित्र ने मित्रों का नज़रिया ही बदल दिया. जी हाँ वही दीपेंद्र बिसेन जी ने.  अनाथ नहीं मानते ऐसे बे सहारा बच्चों को .
तस्वीरें बता रहीं हैं बाल-गृह के बच्चे अब सुनहरे सपने देख रहें हैं. खेल रहें हैं पढ़ रहे हैं.. योग सीख रहे हैं.. 
 तभी तो मैंने भी तय किया है इन बच्चों  के साथ सपरिवार एक दिन अवश्य बिताउंगा ..  
मेरे बच्चे समझेंगे अभाव से साहस कैसे हासिल होता है. 
जानेंगें ये भी कि ये वो बच्चे हैं जिनको जिद्द शब्द के मायने नहीं मालूम.. 

इन बच्चों की आंखों  में सपने आने लगे हैं.. सपने पूरे भी होते जा रहे है, वे भी पार्क में जाते हैं..
  
                                                                                अबोले जंगल में सरसराते पत्तों  की आवाज  सुनते  ये बच्चे कितने उमंग से निकल पड़े हैं जीवन यात्रा पर ..............!! 
जाने कौन इनमें से किसी करिश्मे को आपके सामने ले आए 



जो भी हो एक दिन इनके साथ बिताने से महसूस होता है कि "जीवन के मायने क्या हैं..?"

अंत में दीपेंद्र भाई को एक बार फिर आभार तस्वीरें उपलब्ध कराने के लिए.
तो मित्रो आप आ रहें हैं मिलने..... इन बच्चों से 

गुरुवार, फ़रवरी 23

बहुत प्रिय हैं पादुकाएं.. आपको मुझको सभी को अगर सर पर जा टिकें तो रुला देतीं हैं सभी को.

इन पे अब ताले लगा दो ताकि ये न चल सकें..
ज़ुबां की मानिंद इनको चलने की बीमारी लग गई.


वो कतरनी सी चले हैं..ये सरपट गाल पर
यक़बयक़ ये जा चिपकती चमकते से भाल पर 
रबर और चमड़े की किसी की भी बनी हो
असरकारक हो ही जातीं दोस्तों की चाल पर 
देवताओं से अधिक मन में पादुकाओं की लगन
इनके चोरी जाते ही,सुलगती मन में अगन..
बहुत प्रिय हैं पादुकाएं.. आपको मुझको सभी को 
अगर सर पर जा टिकें तो रुला देतीं हैं सभी को.
जागती जनता मशालें छोड़ जूते हाथ ले 
सरस चिंतन से अभागी बढ़ा लेती फ़ासले.




  

बुधवार, फ़रवरी 22

वर्जनाओं के विरुद्ध खड़े : सोच और शरीर

लाइफ़-स्टाइल में बदलाव से ज़िंदगियों में सबसे पहले आधार-भूत परिवर्तन की आहट के साथ कुछ ऐसे बदलावों की आहट सुनाई दे रही है जिससे सामाजिक व्यवस्था में आमूल-चूल परिवर्तन अवश्यंभावी है. कभी लगता था मुझे भी  कि सामाजिक-तानेबाने के परम्परागत स्वरूप को आसानी से बदल न सकेगा . किंतु पिछले दस बरसों में जिस तेजी से सामाजिक सोच में बदलाव आ रहे हैं उससे तो लग रहा कि बदलाव बेहद निकट हैं शायद अगले पांच बरस में... कदाचित उससे भी पहले .कारण यह कि अब "जीवन को कैसे जियें ?" सवाल नहीं हैं अब तो सवाल यह है कि जीवन का प्रबंधन कैसे किया जाए. कैसे जियें के सवाल का हल सामाजिक-वर्जनाओं को ध्यान रखते हुए खोजा जाता है जबकि जीवन के प्रबंधन के लिये वर्जनाओं का ध्यान रखा जाना तार्किक नज़रिये से आवश्यक नहीं की श्रेणी में रखा जाता है.जीवन के जीने के तौर तरीके में आ रहे बदलाव का सबसे पहला असर पारिवारिक व्यवस्था पर खास कर यौन संबंधों  पड़ता नज़र आ रहा है. बेशक विवाह नर-मादा के व्यक्तिगत अधिकार का विषय है पर अब  पुरुष अथवा महिला के जीवन की व्यस्तताओं के चलते उभरतीं  दैहिक (अनाधिकृत?) आकांक्षाओं के प्रबंधन का अधिकार भी मांगा जावेगा कहना कोई बड़ी बात नहीं. वास्तव में ऐसी स्थिति को मज़बूरी का नाम दिया जा रहा है.फ़िलहाल तो लव-स्टोरी को वियोग हेट स्टोरी में बदलते देर नहीं लगती पर अब  मुझे जहां तक आने वाले कल का आभास हो रहा है वो ऐसा समय होगा जो  " दैहिक (अनाधिकृत?) आकांक्षाओं के प्रबंधन" को एक अधिकार के रूप में स्वीकारेगा. दूसरा पक्ष ऐसे अधिकार की मांग के प्रति सकारात्मक रुख अपनाएगा. उसका मूल कारण "सर्वथा दूरियां एवम व्यस्तता जो अर्थोपार्जक कारण जनित होगी"
वेब-दुनियां से साभार
  यह कोई भविष्यवक़्तव्य नहीं है न ही मैं भविष्य वक्ता हूं... वरन तेजी से आ रहे बदलाव से परिलक्षित हो रही स्थिति का अनुमान है. जिसे कोई बल-पूर्वक नहीं रोक सकता.
   सामाजिक व्यवस्था द्वारा जनित परम्परागत वर्जनाओं के विरुद्ध  सोच और शरीर का खड़ा होना भारतीय परिवेश में महानगरों, के बाद  नगरों से ग्राम्य जीवन तक असर डाल सकता है.  
     आप हम भौंचक इस विकास को देखते रह जाएंगें. सेक्स एक बायोलाजिकल ज़रूरत है उसी तरह अपने पारिवारिक "समुच्चय में रहना" सामाजिक ज़रूरत है. आर्थिक कार्य का दबाव सबसे पहले इन्ही बातों को प्रभावित करेगा. तब दम्पत्ति बायोलाजिकल ज़रूरत को पूरा करते हुए पारिवारिक समुच्चय को भी बनाए रखने के लिये एक समझौता वादी नीति अपनाएंगें. हमारा समाज संस्कृति की बलात रक्षा करते हुए भी असफ़ल हो सकता है ऐसा नहीं है कि इसके उदाहरण अभी मौज़ूद नहीं हैं.बस लोग इस से मुंह फ़ेर लेते हैं.
*ओशो का इस संबंध में एक अजीबोगरीब तर्क था कि - विवाह के पूर्व ही मानसिक शारिरिक सामंजस्य बने रहने की पुष्टि कर लेनी चाहिए तब विवाह बंधन में बंधना चाहिए । ओशो से इस मुद्दे पर मेरी पूर्णतया असहमति है । समाज ओशो का कम्यून नहीं है । उनसे न समाज शासित है न मैं ।*
                                      पाश्चात्य व्यवस्था इस क़दर हावी होती नज़र आ रही है कि किसी को भी इस आसन्न ब्लैक होल से बचा पाना सम्भव नज़र नहीं आ रहा. हो सकता है मेरा पूरा आलेख झूठा साबित हो जाए जी हां अवश्य किंतु तब जबकि जीवनों में स्थायित्व का प्रवेश हो तब ही यह सम्भव है . ट्रक ड्रायवरों सा यायावर जीवन जीते लोग (महिला-पुरुष) फ़्रायड को तभी झुठलाएंगे जबकि उनका आत्म-बल आध्यात्मिक चिंतन से परिपक्व हो पर ऐसा है ही नहीं. आध्यात्म एवम सामाजिक व्यवस्था के तहत बहुल सेक्स अवसरों के उपभोग को रोकने नैतिकता का ज्ञान कराते हुए संयम का पाठ पढ़ाया जाता है ताकि एक और सामाजिक नैतिकता बनी रहे दूसरी ओर यौन जनित बीमारियों का संकट भी जीवनों से दूर रहे, जबकि विज्ञान केवल कंडोम के प्रयोग से एस.टी.डी.(सेक्सुअली-ट्रांसमीटेड-डिसीज़) को रोकने का परामर्श देता है. 
                 सामाजिक व्यवस्था पाप-पुण्य की स्थितियों का खुलासा करतीं हैं तथा एक भय का दर्शन कराती है तथा संयम का आदेश देतीं हैं वहीं दूसरी ओर अत्यधिक अधिकाराकांक्षा तर्क के आधार पर जीवन जीने वाले इस आदेश को पिछड़ेपन का सिंबाल मानते हुए नकार रहे हैं .. देखें क्या होता है वैसे सभी चिंतक मानस मेरी अनुभूति से अंशत: ही सही सहमत होंगे..........         
      
आभास को सुनिये नाटी एट 40 में

http://player.raag.fm/player/flash/albumtrack.php?artist=3&album=33965

बुधवार, फ़रवरी 15

तस्वीर ही बदल दी : संवेदनशील अधिकारी दीपेंद्र सिंह के ज़ज़्बे को सलाम

संवेदनशील अधिकारी दीपेंद्र सिंह बिसेन
    बाल-गृह जबलपुर में कोई दस बरस पहले गया था मैं.... मुझे अच्छी तरह याद है इस संस्थान में प्रवेश द्वार से ही उपेक्षा एवम नैराश्य का वातावरण पहली ही नज़र में मुझे दिखाई दे गया था.बेसहारा बच्चों के लिये स्थापित आवासीय संस्था की स्थिति देख कर घोर निराशा लिये लौटा था. पिछले बरसों में मध्य-प्रदेश सरकार के निर्णय अनुसार महिला बाल विकास विभाग को बच्चों एवम किशोरों के लिये संचालित कार्यक्रमों/योजनाओं के क्रियांवयन का दायित्व गया.जबलपुर में संचालित शासकीय बाल-गृह भी इसी निर्णय के तहत महिला बाल विकास विभाग को हस्तांतरित किया गया. जिसकी बागडोर संवेदनशील अधिकारी दीपेंद्र सिंह बिसेन जो बाल विकास परियोजना अधिकारी के रूप में पदस्थ हैं को सौंपी गई. इंजिनियरिंग के विद्यार्थी होने के बावज़ूद संवेदनात्मक भाव से परिपूर्ण हैं  दीपेंद्र . तभी तो लीक से हटकर काम करने का जोखिम भी उठाकर तस्वीर बदलने के प्रयास में लग गए.बाल-गृह के बच्चों के पैर में चप्पल न देख मन में उदासी होना जायज थी.  जाड़े के पहले अपने बच्चों की तरह उन बच्चों के तन पर ऊलन कपड़ों की चिंता भी सता रही थी दीपेंद्र को जो बाल-गृह में रह रहे थे. मित्रों से परामर्श किया. कुछ क़दम खुद ने उठाए कभी साथियों से आग्रह किया. किसी को भी कोई आपत्ति क्यों होती जिसे जितना मन में आया सहयोग किया.बच्चों को शैक्षिक व्यवस्था का अभाव भी चिंता का विषय था... यानी संस्थान की समूची कमियां खत्म करते हुए बच्चों को भरपूर बचपन जीने देने की स्थिति में लाना. दीपेंद्र सफ़ल हुए यूनिसेफ़ के सौजन्य से बाल-गृह में अब एक स्कूल संचालित है. संस्थान की दीवारें अब गंदगी से नहीं खूबसूरत रंगों से रंगी हैं. बच्चे क्लास रूम में पढ़ते हैं...शुद्ध पानी पीते हैं. सुबह वेद-मंत्रों भजनों से जागते हैं बाल गृह के बच्चे. सबके पास क़िताबे कापियां हैं उनकी आंखें सपने भी देखतीं हैं... बच्चे पिकनिक भी तो जाते हैं. योगाभ्यास, संगीत, समूह चर्चा, यानी वो सब जो एक परिवार के बच्चे को हासिल होता है उनको भी हासिल हो रहा है..अब तो अखबार भी छापते हैं ऐसी खबरें...     
                                     //बालगृह में दस दिवसीय योग शिविर //
          महिला एवं बाल विकास विभाग तथा योग केन्द्र रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय के तत्वावधान में बालगृह, गोकलपुर में 10 दिवसीय योग प्रशिक्षण शुभारंभ किया गया ।  14 फरवरी तक चलने वाले इस योगप्रशिक्षण शिविर में 8 से 16 वर्ष की उम्र के लगभग 52 बच्चों को योग के प्रारंभिक अभ्यासों, सूर्य नमस्कार एवं प्राणायाम से परिचित कराया जायेगा। उक्त जानकारी देते हुए बाल गृह के अधीक्षक एवं परियोजना अधिकारी दीपेन्द्र सिंह बिसेन ने बताया किबच्चों में स्वास्थ्य संबंधी जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से इस शिविर का आयोजन किया जा रहा है ।दिवसीय इस प्रशिक्षण शिविर का संचालन योग केन्द्र, रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय से सम्बद्धयोगाचार्य वर्षा अवस्थी एवं सलिल समाधिया द्वारा किया जा रहा है । योगाचार्या वर्षा अवस्थी ने बताया कि इस शिविर में बच्चों को एकाग्रता बढ़ाने एवं स्मृति प्रखर करने सेसंबंधित योगासनों का विशेष प्रशिक्षण दिया जा रहा है । इस कार्यक्रम के शुभारंभ अवसर पर परियोजना अधिकारी  मनीष शर्मा, योगाचार्य डॉ. आदित्य नारायण शुक्ल, डॉ. चिन्ताहरण बेताल, डॉ. रेखा काकोड़िया एवं किशोर गृह के शेख मुबारक, संतोष पटेल, प्रकाश परिहार एवं प्रवीण कढ़ार उपस्थित थे ।

मंगलवार, फ़रवरी 14

भोपाल वाली बुआ

भोपाल वाली बुआ..

कला बुआ वाला भोपाल
मामाजी वाला भोपाल
मेरा नहीं हम सबका भोपाल
जी हां.. गैस रिसी थी तबका भोपाल
जिसे निगला था
मिथाइल आइसो सायानाईट के
धुंएँ ने जो
समा गया गई थी
हवा के साथ
देहों में
जो  देहें
 निष्प्राण हो गयीं
जो बचीं वे ज़र्ज़र
आज भी कांपते हुए जी रहीं हैं
उनमें से एक हैं मेरी भोपाल वाली बुआ
जिसने देह में बैठे प्राण को आत्म-साहस के साथ
सम्हाले रखा हैं ,
बुआ रोज जन्मती  हैं
रोजिन्ना मारती है 

भोपाल वाली बुआ 
रो देती है.......
उन को याद  कर
शाह्ज़हानाबाद की आम वाली मस्जिद
के आसपास रहने वाली
सहेली आशा बुआ को,
अब्दुल चाचा,
जोजफ सतबीर को
यानी वो सब जिनकी
हैं अलग अलग इबादतगाहें
बुआ अब खिल खिला के हंसती नहीं है
उसके बिना शादियों में ढोलकी बज़ती नहीं है
बुआ तुम फ़िर बनना मेरी बुआ जनम जनम तक
अब बुआ जरजर शरीर को लेकर सबसे बातें करती है 
बहुत धीमे धीमें सुर निकलते हैं 
सच उस हादसे ने छीनी 
उनकी ओजस्विनी मूरत हम सबसे 
पर वो हमारे साथ हैं हादसे  के 
तीस बरस बाद तक
आत्मशक्ति को परिभाषित  करती
   

सोमवार, फ़रवरी 13

पाडकास्ट : जैसे तुम सोच रहे साथी

श्रीमति रचना बजाज के सौंजन्य से प्राप्त श्री विनोद श्रीवास्तव जी की एक रचना --
सुनिए  नकी  ही आवाज में ---



जैसे तुम सोच रहे साथी 

जैसे तुम सोच रहे साथी,वैसे आजाद नहीं हैं हम,
जैसे तुम सोच रहे साथी,वैसे आजाद नहीं हैं हम।

पिंजरे जैसी इस दुनिया में, पंछी जैसा ही रहना है,
भर पेट मिले दाना-पानी,लेकिन मन ही मन दहना है।
जैसे तुम सोच रहे साथी, वैसे संवाद नहीं हैं हम,
जैसे तुम सोच रहे साथी, वैसे आजाद नहीं हैं हम।

आगे बढ़नें की कोशिश में ,रिश्ते-नाते सब छूट गये,
तन को जितना गढ़ना चाहा,मन से उतना ही टूट गये।
जैसे तुम सोच रहे साथी,वैसे आबाद नहीं हैं हम,
जैसे तुम सोच रहे साथी,वैसे आजाद नहीं हैं हम।

पलकों ने लौटाये सपने, आंखे बोली अब मत आना,
आना ही तो सच में आना,आकर फिर लौट नहीं जाना।
जितना तुम सोच रहे साथी,उतना बरबाद नहीं हैं हम,
जैसे तुम सोच रहे साथी,वैसे आजाद नहीं हैं हम।

आओ भी साथ चलें हम-तुम,मिल-जुल कर ढूंढें राह नई,
संघर्ष भरा पथ है तो क्या, है संग हमारे चाह नई।
जैसी तुम सोच रहे साथी,वैसी फरियाद नहीं हैं हम,
जैसे तुम सोच रहे साथी,वैसे आजाद नहीं हैं हम। 
विनोद श्रीवास्तव जी की रचना की सस्वर प्रस्तुति मुझे भी कुछ कहना है ब्लाग की स्वामिनि रचना बज़ाज द्वारा

शनिवार, फ़रवरी 11

राजकाज

संस्थानों के दीमक आगामी अंक में तब तक इस व्यंग्य को देखिये
साभार : दखलंदाजी.काम 
से इस पन्ने से 
         सरकारी आदमी हर्फ़-हर्फ़ लिखे काम करने का संकल्प लेकर नौकरी में आते हैं सब की तयशुदा होतीं हैं ज़िम्मेदारियां उससे एक हर्फ़ भी हर्फ़ इधर उधर नहीं होते काम. सरकारी दफ़तरों के काम काज़ पर तो खूब लिक्खा पढ़ा गया है मैं आज़ आपको सरकार के मैदानी काम जिसे अक्सर हम राज़काज़ कहते हैं की एक झलक दिखा रहा हूं.                            
        सरकारी महकमों  में अफ़सरों  को काम करने से ज़्यादा कामकाज करते दिखना बहुत ज़रूरी होता है जिसकी बाक़ायदा ट्रेनिंग की कोई ज़रूरत तो होती नहीं गोया अभिमन्यु की मानिंद गर्भ से इस विषय  की का प्रशिक्षण उनको हासिल हुआ हो.                        
               अब कल्लू को ही लीजिये जिसकी ड्यूटी चतुर सेन साब  ने वृक्षारोपण-दिवस” पर गड्ढे के वास्ते  खोदने के लिये लगाई थी मुंह लगे हरीराम की पेड़ लगाने में झल्ले को पेड़ लगने के बाद गड्डॆ में मिट्टी डालना था पानी डालने का काम भगवान भरोसे था.. हरीराम किसी की चुगली में व्यस्तता थी सो वे उस सुबह “वृक्षारोपण-स्थल” अवतरित न हो सके जानतें हैं क्या हुआ..हुआ यूं कि सबने अपना-अपना काम काज किया कल्लू ने (गड्डा खोदा अमूमन यह काम उसके साब चतुर सेन किया करते थे)झल्ले ने मिट्टी डालीपर पेड़ एकौ न लगा देख चतुर सेन चिल्लाया-ससुरे  पेड़ एकौ न लगाया कलक्टर साब हमाई खाल खींच लैंगे काहे नहीं लगाया बोल झल्ले ?“
चतुरसेन :- औ’ कल्लू तुम बताओ , ? झल्ले बोला:-साब जी हम गड्डा खोदने की ड्यूटी पे हैं खोद दिया गड्डा बाक़ी बात से हमको का मामूल  ?”
कल्लू:-का बताएं  हज़ूरहमाई ड्यूटी मिट्टी पूरने की है सो हम ने किया बताओ जो लिखा आडर में सो किया हरीराम को लगाना था पेड़ लाया नहीं सो का लगाते जिसकी ड्यूटी बोई तो लाता और लगाता बो नईं आया  उससे पूछिये सरकार ! 
         “कल्लू दादा स्मृति समारोह” के आयोजन स्थल पर काफ़ी गहमा गहमीं थी सरकारी तौर पर जनाभावनाओं का ख्याल रखते हुए इस आयोजन के सालाना की अनुमति की नस्ती से सरकारी-सहमति-सूचना” का प्रसव हो ही गया जनता के बीच उस आदेश के सहारे कर्ता-धर्ता फ़ूले नहीं समा रहे थे. समय से बडे़ दफ़्तर वाले साब ने मीटिंग लेकर छोटे-मंझौले साहबों के बीच कार्य-विभाजन कर दिया. कई विभाग जुट गए  कल्लू दादा स्मृति समारोह” के सफ़ल आयोजन के लिये कई तो इस वज़ह से अपने अपने चैम्बरों और आफ़िसों से कई दिनों तक गायब रहे कि उनको इस महत्वपूर्ण राजकाज” को सफ़ल करना है. जन प्रतिनिधियों,उनके लग्गू-भग्गूऒंआला सरकारी अफ़सरों उनके छोटे-मंझौले मातहतों का काफ़िला दो दिनी आयोजन को आकार देने धूल का गुबार उड़ाता आयोजन स्थल तक जा पहुंचा. पी आर ओ का कैमरा मैन खच-खच फ़ोटू हैं रहा था. बड़े अफ़सर आला हज़ूर के के अनुदेशों को काली रिफ़िलर-स्लिप्स पर ऐसे लिख रहे थे जैसे वेद-व्यास के  कथनों गनेश महाराज़ लिप्यांकित कर रहे हों. छोटे-मंझौले अपने बड़े अफ़सर से ज़्यादा आला हज़ूर को इंप्रेस करने की गुंजाइश तलाशते नज़र आ रहे थे. आल हज़ूर खुश तो मानो दुनियां ..खैर छोड़िये शाम होते ही कार्यक्रम के लिये तैयारियां जोरों पर थीं. मंच की व्यवस्था में  फ़तेहचंद्रजोजफ़और मनी जीप्रदर्शनी में चतुर सेन साब,बदाम सिंगआदिपार्किंग में पुलिस वाले साब लोगअथिति-ढुलाई में खां साबगिल साबजैसे अफ़सर तैनात थे. यानी आला-हज़ूर के दफ़्तर से जारी हर हुक़्म की तामीली के लिये खास तौर पर तैनात फ़ौज़. यहां ऐसा प्रतीत हो रहा था कि इतने महान कर्म-निष्ठअधिकारियों की फ़ौज तैनात है कि इंद्र का तख्ता भी डोल जाएगा वाक़ई. इन महान सरकारीयों” की सरकारियत” को विनत प्रणाम करता हूं .
                                                             
               मुझे मंच के पास वाले साहब लोग काफ़ी प्रभावित कर रहे थे. इनके चेहरे पे वो भाव थे जैसे बैल गाड़ी के नीचे चलने वाला कालू कुत्ते के चेहरे पर किसी कहानी में सुने गए. हुआ यूं कि गाड़ीवान को रात भर में एक गांव से दूसरे गांव अनाज ले जाना था. गाड़ीवान ने अपने हीरा-मोती नामके बैलों को हिदायत दी –“रे रात भर में रामपुर का जंगल पार कराना समझे ”
      तीसरे प्रहर आंख लग गई थी गाड़ीवान की जब जागा तो भोर की सूचना देने वाला तारा निकल आया था. गाड़ी चल रही थी हीरा-मोती सम्हल सम्हल के चल रहे थे अपने मालिक नींद में दखल न हो इस गरज़ से धीरे-धीरे गाड़ी खैंच रहे हीरा-मोती को गाड़ीवान ने तेज़ चलने के लिये डपट के हिदायत दी.. मालिक की नींद खुली देख कालू झट गाड़ी पे उच्चक के आया बोला- मालिक ससुरे हीरा मोती रात भर सोये..
तो गाड़ी किसने खींची..
कालू-“हज़ूर.. हमने और कौन ने बताओ...? ”
                                               अब फ़तेहचन्द जी को लीजिये बार बार दाएं-बाएं निहारने के बाद आला हज़ूर के ऐन कान के पास आके कुछ बोले. आला हज़ूर ने सहमति से मुण्डी हिलाई फ़िर तेज़ी से टेण्ट वाले के पास गये .. उसे कुछ समझाया वाह साहब वाह गज़ब आदमी हैं आप और आला-हज़ूर के बीच अपनत्व भरी बातें वाह मान गए हज़ूर के मुसाहिब” हैं आप की क्वालिटी बेशक 99% खरा सोना भी शर्मा जाए.  आपने कहा क्या होगा बाक़ी अफ़सरान इस बात को समझने के गुंताड़े में हैं पर आप जानते हैं आपने कहा था आला-हज़ूर के ऐन कान के पास आकर सरदस कुर्सियां टीक रहेंगी. मैं कुर्सी की मज़बूती चैक कर लूंगा..आला-हज़ूर ने सहमति दे ही दी होगी. 
               जोज़फ़  भी दिव्य-ज्ञानी हैं. उनसे जिनका भी सरोकार  पड़ा वे खूब जानतें हैं कि "रक्षा-कवच" कैसे ओढ़ते हैं उनसे सीखिये मंच के इर्दगिर्द मंडराते मनी जी को भी कोई हल्की फ़ुल्की सख्शियत कदाचित न माना जावे. अपनी पर्सनालटी से कितनों को भ्रमित कर चुकें हैं . 
               आला-हज़ूर के मंच से दूर जाते ही इन तीनों की आवाज़ें गूंज रही थी ऐसा करो वैसा करोए भाई ए टेंट ए कनात सुनो भाई का लोग आ जाएंगे तब काम चालू करोगे ए दरी   भाई जल्दी कर ससुरे जमीन पे बिठाएगा का .. ए गद्दा ..
  जोजफ़ चीखा:-अर्रए साउंडइधर आओ जे का लगा दियामुन्नी-शीला बजाओगे..अरे देशभक्ति के लगाओ. और हां साउण्ड ज़रा धीमा.. हां थोड़ा और अरे ज़रा और फ़िर   मनी जी की ओर  मुड़ के बोला इतना भी सिखाना पड़ेगा ससुरों को “ 
 तीनों अफ़सर बारी-बारी चीखते चिल्लाते निर्देश देते  रहे टैंट मालिक रज्जू भी बिलकुल इत्मीनान से था सोच रहा था कि चलो आज़ आराम मिला गले को . टॆंट वाले मज़दूर अपने नाम करण को लेकर आश्चर्य चकित थे  जो दरी ला रहा वो दरी जो गद्दे बिछा रहा था वो गद्दा .. वाह क्या नाम मिले . 
        कुल मिला कर आला हज़ूर को इत्मीनान दिलाने में कामयाब ये लोग जैक आफ़ आल मास्टर आफ़ ननवाला व्यक्तित्व लिये  इधर से उधर डोलते  रहे इधर उधर जब भी किसी बड़े अफ़सर नेता को देखते सक्रीय हो जाते थोड़ा फ़ां-फ़ूं करके पीठ फ़िरते ही निंदा रस में डूब जाते . 
 फ़तेहचंद ने मनी जी से दार्शनिक भाव सहित पूछा :यार बताओ हमने किया क्या है..?
जवाब दिया जोजफ़ और मनी जी ने समवेत स्वरों में ;”राजकाज 
फ़तेहचंद – यानी  राज का काज हा हा 

**************