पोस्ट

भई ये पेंटिंग नहीं रगड़े की पिच्च है..!!

अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर मीट लखनऊ में

खबरिया चैनल आज़तक के संस्थापक एस.पी.सिंह का भावपूर्ण स्मरण किया गया

" दैहिक (अनाधिकृत?) आकांक्षाओं के प्रबंधन

विद्रूप विचारधाराएं और दिशा हीन क्रांतियों का दौर

न ही तुम हो स्वर्ण-मुद्रिका- जिसे तपा के जांचा जाए.

वाह मनीष सेठ वाह बाबा हमें गर्व है आप पर ..!!

लखनऊ की एक शाम दुनिया भर के ब्लॉगरों के नाम.

कृष्ण भौतिक एवम आध्यात्मिक मूल्यांकन

लव मैरिज या अरेंज मैरिज ..पर.. बहस गै़रज़रूरी लगती है