सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

सितंबर, 2009 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

नए ब्लाग का स्वागत कीजिए

 राज दरबार जनतंत्र ब्लाग महावीर कहीअनकही बातें Media house रवि वार्ता ( Ravi Varta ) आम आदमी नए ब्लागस का स्वागत कीजिए इनमे एक ब्लाग "रविकिशन जी"का है . भोजपुरी अभिनेता के इस ब्लॉग ' रवि वार्ता' को भी दुलारिये अन्य ब्लाग्स के साथ ताकि सभी को आपका स्नेह मिल सके . ______________________________________________________________________________________________  ब्लॉगवाणी से साभार  ______________________________________________________________________________________________

ब्लागवाणी "बवाल की मनुहार या धमाल"

प्रिय बवाल जी आपका आलेख देखा समीर भाई की आपके आलेख पर चिन्ता जायज है. आप स्पष्ट कीजिए अपने कथन को..........? सूरज तो रोज़ निकलेगा दिनचर्या सामान्य सी रहेगी, किन्तु सूर्योदय पर "करवा-चौथ" की पारणा का संकल्प लेना कहां तक बुद्धिमानी होगी. ब्लागवाणी का बंद होना हिन्दी ब्लागिंग के नेगेटिव पहलू का रहस्योदघाट्न करता है. हिन्दी चिट्ठों के संकलकों की सेवाएं पूर्णत: नि:शुल्क अव्यवसायिक है जिसकी वज़ह से आज़ सोलह हज़ार से ज़्यादा चिट्ठे सक्रिय हैं......न केवल ब्लागवाणी बल्कि चिट्ठाजगत का भी विशेष अविस्मरणीय अवदान है.जो साधारण ब्लागर के लिए उस मां के अवदान की तरह है जो सेवाएं तो देती है किंतु इस सेवा के पेटे कोई शुल्क कभी नहीं लेती..... यदि यह बुरा है तो संकलकों के विरोधी सही हैं....उनकी बात मान के सब कुछ तहस नहस कर दिया जाए मुझे लगता है कि संकलकों के पीछे जो लोग काम करतें हैं वे समय-धन-उर्ज़ा का विनियोग इस अनुत्पादक कार्य के लिए क्यों कर रहें हैं........... शायद उनकी भावना "हिन्दी-ब्लागिंग" को उंचाईयां देना ही है......... मेरी तुच्छ बुद्धि तो यही कह रही है आपकी पोस्ट में आपने

ब्लागवाणी का ये कैसा फ़ैसला

अब ब्लागवाणी को पीछे छोडकर आगे जाने का समय आ गया है इस  टिप्पणी के साथ ब्लागवाणी टीम ने अपाने आप को ब्लागर्स से दूर कर लिया . इस संकलक ने आगे कहा :- "इसलिये आज जरूरी है कि ब्लागवाणी पसंद और उसमें बनाये गयी सुरक्षा तकनीकों के बारे में बताया जाये क्योंकि इसकी क्रेडिबिलिटी से उन सब ब्लागों की क्रेडिबिलिटी जुड़ी है जिन्हें पसंद किया गया है, और उन सब ब्लागरों की भी जो पसंद करते हैं. अगर आपने ब्लागवाणी पसंद का उपयोग किया हो तो यह देखा होगा कि एक पसंद देकर दोबारा दूसरी पसंद देने से नहीं होती. ऐसा सुनिश्चित करने के लिये कई मिली-जुली तकनीकों का इस्तेमाल किया गया था जिसमें IP Address, Cookies, Sessions आदी का इस्तेमाल होता है. इसलिये ब्लागवाणी की पसंद का दुरुपयोग साधारण प्रयोक्ता के लिये आसान नहीं था. ब्लागवाणी को सुचारू रूप से चलाना के लिये कई तकनीके और सिस्टम बनाये गये थे जिनसे उसके कामकाज में विराम न हो और वह निर्बाध रूप से चलती रहे. ब्लागवाणी का हर हिस्सा कई तरीके की सुरक्षा तकनीकों का इस्तेमाल करता है, ब्लागवाणी पर आने वाली हर पसंद का पूरा हिसाब रखा जाता है. ब्लागवाणी पर आने वाली हर प

घूसखोरी के अलावा कौनसा उदाहरण जहां "समाजवाद" का अर्थ समझाया जा सके बच्चों को ...?

पाठ्य क्रम का प्रथम पाठ भारतीय सरकारी व्यवस्था और उत्कोच के बीच एक ऐसा समीकरण है जिसे हर सामान्य बुद्धि वाला प्राणी समझ लेता है. इस पोस्ट की आधार पोस्ट में कहा गया है एक सिविल सेवा प्रशिक्षण में गए उनके मित्र को सेलरी-स्लिप का पांच सौ रुपया देना पडा ? मित्र इधर वो बेचारा बाबू किस किस को छोडेगा अब इस बात को सीधे प्रशिक्षण के पाठ्यक्रम में कैसे शामिल करेगा कोई संस्थान सो बाबू साहब ने इसे "घूस-विग्यान:आओ करके सीखें" की शैली में सिखा दिया.अब भैया आप ही बताईये इस तरह की घूसखोरी के अलावा कौनसा उदाहरण जहां "समाजवाद" का अर्थ समझाया जा सके बच्चों को ...?

श्री जब्बार ढाकवाला की सदारत में कवि-गोष्ठी

                                ______________________________________________________________________________________________                      अपने आप में ज़माने की पीर को समोने से  शायरों कवियों का वज़ूद  है . शायर का दिल तो होता है उस बच्चे के उन हाथों की मानिंद जो हाथ में अम्मी-अब्बू,खाला,ताया,ताऊ,यानी बड़े बुजुर्गों से मिली ईदी से भरे होते हैं . इसी रेज़गारी की साल-सम्हाल में लगा बच्चा जब उसे सम्हाल नहीं पाता और यकायक बिखर जाती है रेज़गारी ठीक उसी तरह शायर-कवि-फनकार भी बिखर हर्फ़-हर्फ़  जाता है गीत में ग़ज़ल में नज़्म में जिसकी आवाज़ से सारे आलम में एक सनाका सा खिंच जाता है ..... कहीं कोई नयन नीर भरा होता है तो कहीं कोई दिल ही दिल में  खुद-ब-खुद सही रास्ते की कसम खा लेता है.   ______________________________________________________________________________________________      जबलपुर में 25/09/09 को ज़नाब  :श्री जब्बार ढाकवाला आयुक्त,आदिम जाति कल्याण विभाग ,मध्य-प्रदेश की सदारत  में एक गोष्ठी का आयोजन "सव्यसाची-कला-ग्रुप'' की और से किया गया .  श्री बर्नवाल,आ

बिंदु-बिंदु विचार

__________________________________________________________________________________________________ कल एक कवि गोष्टी करनी है बताओ किस किस को बुला लूं..?  मेरे सवाल पर भाई सलिल समाधिया बोले-"क्या बताऊँ आप से बेहतर किसे जानकारी है शहर के कवियों के बारे में मैं तो किसी को जानता नहीं ? सलिल भाई,मैं सभी को जानता हूँ इसी  कारण पशोपेश में हूँ ....!  मेरा हताशा भरा उत्तर सुनकर सलिल भाई का ठहाका गूंजने लगा . ________________________________________________________________________________________ _ _ _______ योग निद्रा   वो सरकारी आदमी योग निद्रा में लीन अपनी  फाइल पर निपूते की संपदा पर बैठे सांप सा बैठा हुआ था,कल्लू की मौत के बाद अनुकम्पा नियुक्ति के केस में कल्लू की औरत से कुछ हासिल करने की गरज से उसकी फाइल एक इंच भी नहीं खिसका रहा था. एक दिन अचानक बाबू बालमुकुन्द नामदेव का निधन हार्ट अटैक से हो गया और एक नए बाबू ने कुर्सी सम्हाली . दौनों विधवाए की अनुकम्पा नियुक्ति की फाइल को लेकर उसी टेबल के सामने बैठीं थी. और नए गुप्ता बाबू योग निद्रा में थे .  _________________________________

बबली जी की टिप्पणी

प्रेम  फर्रुखाबादी जी     "जय माता दी "  आज़ आपका ब्लाग देखा कई दिनों से बिज़ी था सो नए डवलप्मेंट बीस-पचीस बार घुटना खुजाने के बाद पकड पाया. फ़र्ज़ी नाम से अभद्र टिप्पणी करने वालों की "आत्मा" के मरने की खबर आपको मिल चुकी होगी. वैसे ब्लागिंग में आपसी पीठ खुजाउ प्रवृत्ति को सभी अच्छी तरह समझतें हैं. मुझे तो यकीन नहीं हो रहा आप सरीखे ब्लागर से किसी की कोई "रार" हो सकती है. किंतु आपको एक बात साफ़ तौर पर बता दूं कि "कुछ गुरु चेला" हिंदी-ब्लागिंग की जिस प्रकार दुर्गति कर रहे हैं वैसी कल्पना किसी ने नहीं की थी. मुझे पुख्ता सूचना है कि हिन्दी ब्लागिंग में कुछ  "गिरोह" सक्रीय हैं जो ये सब कराते रहतें है. इससे उनको आनंद की अनुभूति ठीक वैसे ही होती है जैसे की -"किसी गधे को बैसाख माह में दूर तक घास चरने से होती है  " आप के मुद्दे को लेकर  कल दिनांक 24 /09/09 को  रात्रि आठ बजे  सिटी-काफ़ी हाउस में एक शोक (खोज) सभा रखी गई है जिसका सारा खर्च मैं वहन करने जा रहा हूं आप सभी ब्लागराने-जबलपुर नाव पर बैठकर सादर आमंत्रित हैं.   बबली जी      की इन

संस्कार धानी के शताब्दी सूर्य :"छैल कवि "

एक हादसे ने बिस्तर पर लगातार लेते रहने को मज़बूर कर दिया था मुझे 1999 की दीपावली बाज़ार से खरीददारी की गरज से अपने भतीजे भतीजी अंकुर आस्था को लेकर निकला था सारी खरीददारी के बाद जाने कैसे स्लिप हो गया फीमर बोन फ्रेक्चर का कष्ट आज तक साथ है । हाल चाल लेने तो कई लोग आए उनमें गीतकार अभय तिवारी ने सुझाया :-"गिरीश भाई , पड़े पड़े और कमजोर हो जाओगे " "तो क्या करुँ...?" "मेरी मदद पलंग पर लेटे - लेटे........ कल से मैं स्वतंत्र मत के साहित्यिक पन्ने के लिए सामग्री संग्रह कर के ला दूगां आप करना सम्पादन । उस समय दैनिक अखबार स्वतंत्र मत के साहित्यिक पन्ने के लिए प्राप्त सामग्री में से मेरे पास "श्रीयुत हरिकृष्ण त्रिपाठी द्वारा लिखित "कुछ पांडू लिपियाँ स्केन कर आप सुधि जनों के लिए सादर

" परोसते परोसते भूल गए कि परसाई के लिए कुछ और भी ज़रूरी है !"

प्रगतिशील लेखक संघ जबलपुर इकाई एवम विवेचना ने 22/08/09 को परसाई जी को याद न किया होता तो तय था कि अपने राम भाई अनिल पांडे के घर की तरफ़ मुंह कर परसाई जी को समझने की कोशिश करते . जिनके परसाई प्रेम के कारण तिरलोक सिंह से खरीदा "परसाई-समग्र" आज अपनी लायब्रेरी से गुमशुदा है .हां तो परसाई जी को याद करने जमा हुए थे "प्रगतिशील-गतिशील" सभी विष्णु नागर को भी तो सुनना था और देखे जाने थे राजेश दुबे यानि अपने "डूबे जी" द्वारा बनाए परसाई के व्यंग्य-वाक्यों पर बनाए "कार्टून".कार्यक्रम की शुरुआत हुई भाई बसंत काशीकर के इस वाक्य से कि नई पीडी परसाई को कम जानती है अत: परसाई की रचनाऒं पाठ शहर में मासिक आवृत्ति में सामूहिक रूप हो. इन भाई साहब के ठीक पीछे लगा था एक कार्टून जिसमे एक पाठक तल्लीन था कि उसे अपने पीछे बैठे भगवान का भी ध्यान न था सो हे काशीकर जी आज़ के आम पाठक के लिए कैटरीना कैफ़ वगैरा से ज़रूरी क्या हो सकता है. आप नाहक प्रयोग मत करवाऎं.फ़िर आप जानते हो कि शहर जबलपुर की प्रेसें कित्ते सारे अखबार उगल रोजिन्ना उगल रहीं हैं,दोपहर शाम और पाक्षिक साप्ताहिक को तो हम