ललित शर्मा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ललित शर्मा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, दिसंबर 7

मुंबई न पहूंच पाने पर खेद



ल्याण पश्चिम स्थित के एम अग्रवाल कॉलेज एवं अनिता कुमार जी के कॉलेज के कार्यक्रम में मुंबई जाना निश्चित हुआ था। पर स्वास्थ्यगत कारणों से उपस्थित होने में असमर्थ हूँ। ठंड लगने से अचानक स्वास्थ्य खराब हो गया। इसलिए के एम अग्रवाल कॉलेज के कार्यक्रम संयोजक, अनिता कुमार जी एवं अन्य मित्रों से क्षमा चाहूंगा। न पहुंच पाने के लिए खेद व्यक्त करता हूँ।

ऐसा गिरीश दादा ने फ़ोन पर बताया और मुझे संदेश आप तक पहुंचाने कहा।

शनिवार, मई 21

क्या करें हो ही गई ललित शर्मा जी से मुठभेड़


_________________________


कार्यक्रम वाले दिन यानी 30 अप्रैल 2011  अल्ल सुबह घर  से निकला किंगफ़िशर जनता फ़्लाईट में नाश्ता-वास्ता लिये  बिना सोचा था कि   उधर यान बालाएं खाने पीने को पूछेंगी ही सो  श्रीमति जी की एक न मानी. अब ताज़ा हसीन ताज़ा तरीन चेहरे वाली व्योम बालाओं  के हाथों से खाऊंगा सोचकर सतफ़ेरी अर्धांगिनी की न मानना महंगा पडेगा इस बात का मुझे इल्म न था. 

ट्राली लेकर पधारीं  दो लावण्य मयी व्योम-बालाओं  में से एक बोली : आप मीनू अनुसार आर्डर कीजिये 
वेज़ सेण्डविच..?
न, नहीं है सर 
तो साल्टी काज़ू ही दे दो काफ़ी भी देना, काफ़ी के साथ दो जोड़ा बिस्किट फ़्री मिले. 
नाश्ता आते आते पड़ोसी से दोस्ती हो गई थी. उनको गुज़रात जाना था. समीपस्थ  सिवनी नगर  के व्यापारी थे जो अपने जीजा जी के अत्यधिक बीमार होने की खबर सुन के रातों रात जबलपुर आए थे. यात्रा के दौरान पनपी मित्रता का आधार उनका पहली बार का विमान यात्री होना तो था मेरा आकर्षण वो इस कारण बने क्योंकि उनके पास तम्बाखू मिश्रित जबलपुरिया गुटखे का भण्डार पर्याप्त था. न भी होता तो मै मित्र अवश्य बना लेता ... बात चीत तो करनी ही थी.  
          नाश्ता करकुरा के हम दौनों ने पारस्परिक यात्रा प्रयोजनों के कारण की एक दूजे से पता साजी की फ़िर  सामयिक विषयों विषयों जैसे भ्रष्टाचार,मंहगाई, आदि पर संवाद किये. तभी एक संदेश गूंजा जिससे साबित हुआ दिल्ली दूर नहीं. 
       एयर पोर्ट पर वादा करके मियां महफ़ूज़ न आ सके कारण जो भी हो ललित बाबू की बात सही निकली कि "यात्रा में खुद पे भरोसा करो वादों पे नहीं !!" 

 
        (आगे इधर से यानी भारत-ब्रिगेड पर )

गुरुवार, मार्च 24

रंग पंचमी तक होली होली ही होती है

आज़ क्रिकेट के रंग में  विश्व यहां तक की गूगल बज़ तक सराबोर था.
आस्ट्रेलिया को हराना विश्व कप का रास्ता साफ़ करने के बराबर है.
इसी हंगामा खेज मौके पर ब्लागवुड के समाचार सुनिये

                             मिडियम वेब चार दो शुन्य मेगाहार्टज पर ये ब्लॉगवुड का रेडियो केन्द्र है , सभी श्रोताओं को रंग पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं।अब आप ललित शर्मन: से ब्लॉग वुड के बचे-खुचे मुख्य समाचार सुनिए।
टेक्स्ट में बांचिये इधर 




शनिवार, मार्च 12

ललित जी डर के आगे जीत है भई ..!!

बताईये दबंग कौन..?
" जबलपुरिया दबंगई -" हजूर जापान की सुनामी से विचलित होकर आप कुछ अधिक व्यग्र नज़र आ रहे हैं. हम तो फ़गुआहट से प्रभावित अपने मत दाताओं यानी माननीय सुधि पाठकों भावना की कदर करते हुए चाह रहे थे कि वार्ता कुण्ठा जन्य परिस्थियों की वज़ह से अवरुद्ध न हो. आपने हमारी सद भावना को सर्वथा ग़लत दिशा दी...! आप भी क्या कर सकते हैं विजया-सेवनोपरांत ऐसा ही लिखा जाता है.
"विजया को ऐसो नशा हो गये लबरा मौन
पत्नि से पूछे पति:-"हम आपके कौन..?"
ललित जी डर के आगे जीत है भई ..!!
मुझे "मूंछ उमेठन चुनौती से भय नहीं याद रखिये यह भी कि खरा आदमीं हूं कुम्हड़े का फ़ूल नहीं जो तर्जनी देख के डर जाऊं ! जब से होश सम्हाला है जूझता ही आया हूं किंतु आपकी पीडा मैं समझ सकता हूं आप ने आक्रोशवश जो भी लिखा उसे नज़र अंदाज़ करते हुए मैं सम्पूर्ण स्थितियों से पर्दा उठा देना चाहता हूं ताकि आप जैसे मित्र से मेरा जुड़ाव सतत रहे
१. ब्लाग4वार्ता एक स्नेह का अबोला अनुबंध है
२. ब्लाग4वार्ता को मेरे-आपके अलावा कई और मित्रों खासकर मेरे और आपके लिये आदरणीया संगीता पुरी जी, के स्नेह अलावा प्रिय
अनुज शिवम की ज़िद या कहूं प्रतिबद्धता से पुख्ता हो रही थी. फ़िर अचानक क्या हुआ कि ...आपने एकतरफ़ा निर्णय ले लिया
संकल्पों का भी सम्मान होना चाहिये .
३. वार्ता बंद करने के पूर्व कराए सर्वे को देखिये

हां
7 (19%)
नहीं
8 (22%)
क़दापि नहीं
21 (58%)
तटस्थ
0 (0%)


बहरहाल, आपने जब आदरणीया संगीता जी पर मामला छोड़ ही दिया है तो मुझे क्या मैं ताई भी से आग्रह करूंगा कि वे ही "सबको सम्मति दें...!" तब तक वार्ता से विदा लेता हूं हारकर नहीं बल्कि उस उम्मीद पर कि सब कुछ भला ही होगा....जो भी होता है या हुआ है  सब अच्छे के लिये
   "जै राम जी की"
____________________________________________________________
 दबंगई: -आपसे अनुरोध है कि वेबकास्ट शास्त्रार्थ के लिये सहमति दीजिये 
____________________________________________________

शुक्रवार, सितंबर 17

ललित जी का पिटारा खुल गया और हम सी एम साब से न बतिया पाए

शाम के अखबार के आन लाइन एडीसन  पी डी एफ़ हो  अथवा सरकारी  वेब साईट या पाबला भैया का ब्लाग आज़ सिर्फ़ ललित शर्मा जी के हिन्दी पोर्टल पर ही चर्चिया रहे है. खबर तो हम भी बज़्ज़ पे छैप दिये थे पर लगा दादा नाराज़ हो गये तो हमारे थोबड़े का शिल्प कर्म न कर दें कहीं. पर  भैया  ऐसे  नहीं  हैं  मेरे  मित्र 
                                                   इधर से रास्ता है जी












































































































































































































तीन भागों में विभक्त पोर्टल का कलेवर सामान्य एवम ललित भाई की मनोभावनाओं को उजागर कर रहा है . हिन्दी का यह पोर्टल किसी फ़ैंटेसी को नहीं जन्मता बल्कि सामान्य सी बातों को आगे लाने की कोशिश करता है जो अनदेखी किंतु ज़रूरी है
 एक राज़ की बात बताऊं गूगल खोज सन्दूक में यह तीसरे स्थान पर है जबकि इसका उदघाटन अभी कुछ घण्टों पहले हुआ है. 
ललित भाई कहते हैं  ”भाई आज़ फ़ोन काहे बन्द था ?”
मैं:- ”असल में कोर्ट में फ़ोन बन्द ही रखना होता है  पर क्यों पूछा ? कोई ज़रूरी बात थी ?”
हां
क्या ?
रमन जी आपसे बात करना चाहते थे !
भाइ ललित जी एक प्यारा सच्चा दोस्त मिल जाए हमें क्या चाहिये और
  "प्रिय मित्रों,
भारत की ललित कलाओं को एक मंच पर लाने की मेरी बरसों की तमन्ना थी। जिसमें परम्परागत शिल्प कला, हस्त शिल्प कला,  चित्र कला, एवं अन्य पारम्परिक कलाओं का समावेश हो। ऐसे कलाकार जिन्हे कभी कोई मंच न मिला हो, उनकी प्रतिभा दुनिया की अंधी गलियों में दम तोड़ रही हो, उन्हे एक मंच मिले और वे भी अपनी कला का प्रदर्शन दुनिया के सामने कर सकें। उन्हे वह स्थान मिल सके, जिसको वे डिजर्व करते हैं। मैने देखा है कि गाँव में एक से एक कलाकार कला की साधना करते हैं। लेकिन उनके पास अपनी कला के प्रदर्शन के लिए स्थान और मंच नहीं होता।
मैं कई कार्यक्रमों में प्रदेश से भी बाहर गया हूँ वहां भी मैने शिल्पकला के अद्भुत कार्य देखे। जिन्हे देखकर लोग दांतो तले उंगली दबा लेते हैं। देखते रह जाते हैं। मशीनों से काम होने के कारण परम्परागत रुप कार्य करने वाले कारीगरों के समक्ष रोजी रोटी की भी समस्या है। हस्त निर्मित शिल्प एवं कलाकृतियाँ का निर्माण वर्तमान में बहुत कम हो गया है। परम्परागत शिल्पकारों ने जीविकोपार्जन के लिए अन्य काम धंधे करने शुरु कर दिए। जिससे लकड़ी, लोहे, तांबे, सोना चांदी, पत्थर, कपड़ा इत्यादि पर होने वाले काम अब काफ़ी कम हो गए हैं।
मेरा एक सपना है कि ऐसे कलाकारों को एक मंच देना तथा वेब साईट के माध्यम से उनकी कला परिचय पूरी दुनिया से कराना। उनके बनाए हुए उत्पादों को उपभोक्ताओं तक पहुंचाना। जिससे कलाकारों का जीवन यापन हो सके। वर्तमान में यह वेबसाईट प्रारंभिक स्वरुप में है। भारत भर से जानकारी एकत्रित करना भी बहुत श्रम साध्य कार्य है। लेकिन हमने अपने सम्पर्कों एवं साथियों के सहयोग से इसे पूरा करने का बीड़ा उठाया है। ईश्वर की कृपा एवं सबकी मेहनत रही तो अवश्य ही इस कार्य को पूरा करने में हम कामयाब होगें।मेरे इस कार्य में कई साथी साथ में जुड़े हैं। इसलिए अब उपरोक्त कार्य मेरे अकेले का न होकर हम सबका है।ललित कला वेबसाईट पर मेरे सहयोगी श्री जी.के.अवधिया,अल्पना देशपांडे,धीरज ताम्रकार,गिरीश बिल्लौरे जबलपुर, इत्यादि हैं
सादर आपका
ललित शर्मा"