शुक्रवार, नवंबर 8

आप शांति दूत हैं : हिंदुस्तान महफूज रहेगा

हिंदुस्तान की तासीर है कि वह विश्व में खुद को एक ऐसी जम्हूरियत के तौर पर पेश करें जहां बस अमन हो बेशक अमन पसंद लोगों का वतन इस बार भी अपनी वही छवि और लोगों के सामने पेश करेगा जो इलाहाबाद हाईकोर्ट के पहले और बाद में पेश हुई थी । विश्व के बहुत सारे देश और हर हिंदुस्तान को समझने वाला इंसान स्तब्ध है कि कल क्या होगा । दोस्तों कल और कल के बाद हिंदुस्तान हिंदुस्तान रहेगा जैसा हिंदुस्तान था । इसमें कोई शक नहीं कि सैकड़ों वर्षा से तिरंगे की शान बरकरार है बरकरार रहेगी यह हिंदुस्तान की हवाओं की तासीर है । कल जो फैसला आना है आने दीजिए हम पूरे सम्मान के साथ उस फैसले को स्वीकार करेंगे । हमारी नस्लें आने वाले फैसले को और उसके बाद की परिस्थितियों को स्वीकार स्वीकारेंगी । आशावादी हूं पूरा हिंदुस्तान एक रहेगा सुप्रीम कोर्ट कल यानी 9 नवंबर 2019 को जो फैसला देगा उसका असर भी पॉजिटिव ही होगा । यह अलग बात है कि लोग जो सवाल उठाने के आदी हैं वे अपनी हरकतों से बाज नहीं आते परंतु जब देश के जम्हूरियत और अमन पसंद लोग जिनकी संख्या सबसे ज्यादा है जरूर ऐसी ताकतों के खिलाफ एकजुट होंगे और समाज की देश की आंतरिक एकता को मजबूत बना देंगे
। उन जम्हूरियत पसंद अमन पसंद लोगों में आप शामिल है राष्ट्रीय हित में कल और आने वाले दौर को खुशनुमा बनाएं ।
सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः,
सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद् दुःख भाग्भवेत्।
ॐ शांतिः शांतिः शांतिः

मंगलवार, नवंबर 5

क्यों लिखते हैं दीवारों पर - "आस्तिक मुनि की दुहाई है"

सांपों से बचने के लिए घर की दीवारों पर आस्तिक मुनि की दुहाई है क्यों लिखा जाता है घर की दीवारों पर....!
आस्तिक मुनि वासुकी नाम के पौराणिक सर्प पात्र की पुत्री के पुत्र थे । एक बार तक्षक से नाराज जनमेजय ने सर्प यज्ञ किया और इस यज्ञ में मंत्रों के कारण विभिन्न प्रजाति के सांप यज्ञ वेदी संविदा की तरह आ गिरे । तक्षक ने स्वयं को बचाने के लिए इंद्र का सहारा लिया तो वासुकी ने ऋषि जगतकारू की पत्नी यानी अपनी बहन से अनुरोध किया कि पृथ्वी पर रहने वाले सभी सांपों की रक्षा कीजिए और यह रक्षा का कार्य आपके पुत्र मुनि आस्तिक ही कर सकते हैं । अपने मामा के वंश को बचाने के लिए आस्तिक मुनि जो अतिशय विद्वान वेद मंत्रों के ज्ञाता थे जन्मेजय की यज्ञशाला की ओर जाते हैं । किंतु उन्हें सामान्य रूप से यज्ञशाला में प्रवेश का अवसर पहरेदार द्वारा नहीं दिया जाता । किंतु आस्तिक निराश नहीं होते और वे रिचाओं मंत्रों के द्वारा यज्ञ के सभी का सम्मान करते हैं । जिसे सुनकर जन्मेजय स्वयं यज्ञशाला में उन्हें बुलवा लेते हैं । जहां आस्तिक मुनि पूरे मनोयोग से यज्ञ एवं सभी की स्तुति की जैसे जन्मेजय ने उनसे वरदान मांगने की उम्मीद की । जन्मेजय की मांग तक्षक को आहूत करने के लिए मंत्र पढ़ने का अनुरोध यज्ञ करने वाले लोगों से किया । इंद्र के साथ तक्षक स्वयमेव खींचे हुए यज्ञ वेदी के पास आते चले गए । इंद्र तो अपनी ताकत से वापस निकलने में कामयाब हो जाते हैं लेकिन तक्षक यज्ञ वेदी पर गिरने लगते हैं। जिन्हें मंत्र बल से आस्तिक मुनि रोक देते हैं । तभी यज्ञ करने वाले विप्र को वरदान देने का आग्रह करते हैं . यज्ञ के यजमान जन्मेजय ने वरदान मांगने की अपेक्षा करते हुए आस्तिक मुनि की वाणी की मंत्रों की स्तुति की सराहना की । तब आस्तिक मुनि ने सर्प यज्ञ रोकने क्या वरदान मांगा । इससे एक पूरी की पूरी प्रजाति बच गई और सरीसृप वंश जीवित रह गया । 
कथा पौराणिक है लेकिन इकोसिस्टम को बनाए रखने के लिए इस विद्वान मुनि की सराहना करनी चाहिए सांपों को आस्तिक मुनि की दुहाई देकर मनुष्य के बनाए घरों में घुसने से रोकने का प्रयास करते हैं हम इस तरह लिख कर आस्तिक मुनि की दुहाई है । 
*जैव- विविधता को बनाए रखने के लिए यह कहानी बेहद महत्वपूर्ण है . भारतीय संस्कृति की कथाएं विश्व समाज के लिए यह एक प्रेरक कहानियाँ होतीं हैं... भारतीय एतिहासिक माइथ कहने वालों के मुंह पर तालाबंदी कर सकती है परंतु समझने की जरूरत है पर समझाया कुछ और जाता है...!*

रविवार, नवंबर 3

टिकिट चेकर के झापड़ ने प्रेमनाथ को बना दिया था एम्पायर टाकीज का मालिक : श्री सच्चिदानंद शेकटकर





         अपने दमदार अभिनय के लिए प्रसिद्ध रहे अभिनेता प्रेमनाथ हमारे जबलपुर के ही गौरव पुत्र थे। उनने अंग्रेजों द्वारा बनाई गई एम्पायर टाकीज को भी खरीद लिया था। इस टाकीज को खरीदने का किस्सा भी लाजवाब है।
प्रेमनाथ जब स्कूल में पढते थे तब एक बार वो एम्पायर टाकीज की दीवाल फांदकर बिना टिकट लिए पिक्चर देखने बैठ गए। जब टिकिट चेकर टिकिट चेक करने आया तो किशोर प्रेमनाथ से टिकिट मांगी तो उनने टिकिट न होने की बात कही और बताया कि वो बाउंड्री वाल फांदकर अंदर आ गए। टिकिट चेकर ने प्रेमनाथ को एक झापड़ मारा और पकडकर बाहर लाया और बोला जैसे तुम दीवार फांदकर आये थे वैसे ही फांदकर बाहर भागो। जाने के पहले किशोर प्रेमनाथ ने टिकिट चेकर से कहा कि देखना एक दिन मैं इस टाकीज को खरीद लूंगा।
      प्रेमनाथ जब बडे़ हुए और पिता की मर्जी के खिलाफ अभिनय करने मुंबई चले गए। 1952 में उन्होंने एम्पायर टाकीज खरीद ली। मालिक बनने के बाद जब प्रेमनाथ ने टाकीज का उद्घाटन किया तो जिद्दी प्रेमनाथ का रूप सामने दिखा। प्रेमनाथ उसीतरह से बाउंड्री वाल फांदकर टाकीज के भीतर गये जैसे वो किशोर अवस्था में दीवार फांदकर टाकीज के भीतर गये थे। यह संयोग रहा कि प्रेमनाथ को झापड़ मारने वाला टिकिट चेकर तब भी काम कर रहा था। प्रेमनाथ ने उस टिकिट चेकर को बुलाया। घबराते हुए टिकिट चेकर प्रेमनाथ के सामने आया। लेकिन उस नजारे को देखकर सब लोग दंग रह गए जब प्रेमनाथ उसी कुर्सी पर बैठे जिससे उन्हें टिकिट चेकर ने उठाकर भगाया था।

कुर्सी से उठकर प्रेमनाथ ने झापड़ मारने वाले टिकिट चेकर को बिठाया और फूलमाला पहनाकर उसका स्वागत किया उसे मिठाई भी खिलाई। फिर प्रेमनाथ ने टिकिट चेकर को गले लगाया और उससे बोले यदि तुमने मुझे झापड़ मार कर भगाया न होता तो आज मैं इस एम्पायर टाकीज का मालिक नहीं बनता।
ऐसे दिलदार थे हमारे शहर के गौरव प्रेमनाथ अमर प्रेमनाथ। आज पुण्यतिथि पर उन्हें श्रृद्धांजलि।

शनिवार, अक्तूबर 19

नाटक समीक्षा : बरी द डेड

#बरी_द_डेड मंचन दिनांक 19 अक्टूबर 2019 स्थान- मानस-भवन,
निर्देशक:- श्री सूर्यमोहन कुलश्रेष्ठ नीपा रंगमंडल,  लखनऊ 
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
निर्देशक द्वारा प्रिय अक्षय ठाकुर का विशेष रूप से उल्लेख करना मेरे लिए गौरव की बात थी क्योंकि आप जानते हैं कि अक्षय से मेरा रिश्ता बालभवन का है और उससे अधिक यह कि अक्षय में अद्भुत अभिनय एवं कला पक्ष की समझ है वह पढ़ता भी है हिस्ट्री भी पड़ता है वर्तमान को समझता भी है कुल मिलाकर थिएटर का #अक्षयपात्र भी बनेगा यह मेरा दावा है चिरंजीव अक्षय को आशीर्वाद और शुभकामना
:::::::::::::::::::::::
         नाटक का आमन्त्रण था Vinay Amber की ओर से ही नहीं Supriya Shrivastava Amber Amber की जानिब से भी आमंत्रण पूरे फैस्टिवल के लिए भी..... परन्तु Akshay Thakur के न्योते की वजह से समय से एक घंटे पहले पहुँच  गया . सेट डिजायनर श्री जोशी जी  की तारीफ़ अक्षय ने पहले ही कर दी थी सो था भी गजब.. !
      जबलपुर नाटक के मामले में बता दूँ कि  अन्य शहरों के सापेक्ष यहां  अधिक अच्छे दर्शक देता है.. इस लिए हर निर्देशक को जो जबलपुर में नाटक पेश करने का मन बना रहे हों समझदारी से प्रस्तुति के लिए अपना श्रेष्ठतम नाटक ही लाते हैं.
      जबलपुरिया दर्शक हूट नहीं करते सताते नहीं पर निर्देशक और टीम को समझ लेते हैं. खैर मुद्दे पर आते हैं.
                      नाटक की कहानी शुरू होती है चार जिंदा सैनिकों द्वारा छह मरे हुए सैनिकों की लाशें को दफन करने की जद्दोजहद से । कब्र को 6 फीट गहरा खोजना था और फावड़े के जरिए जिंदा सैनिक यही कुछ करते नजर आ रहे थे ।
         कब्र खोदने वालों को अजीब तरीके से गुस्सा आ रहा था और वह अपनी बॉस के खिलाफ थे । जिंदा सैनिकों में नाराजगी थी वे कहते थे हुक्मरानों की वजह से हमें तकलीफ होती है । जब 6 फीट गड्ढे खुद ही जाते हैं तो दफनाने का हुक्म मिलता है किंतु इसके पहले संस्कार विधियों को अपनाने की जरूरत को नजरअंदाज नहीं किया जाता और युद्ध भूमि में दो धर्मगुरु आते हैं यहां निर्देशक ने पंडित छोड़कर पादरी और मौलवी धर्मगुरु को ही बुलाया जो समझ से परे रहा है ।
  एक सिपाही द्वारा शीघ्रता के साथ लाशों को सुपुर्द ए खाक करने की दलीलों से प्रभावित होकर दोनों धर्मगुरुओं ने सहमति दी । संवादों में बेहद चुटीला पन नजर नहीं आया जब की जरूरत भी नहीं थी उसकी परंतु कुछ जगह संवादों को चुटीला बनाने की नाकामयाब कोशिश की गई थी यहां काम किया जाना शेष है ।
मैं कहानी के जितने हिस्से की बात कर रहा हूं संवाद उतने भाग के टिप्पणी योग्य थे तो लिख दिया ।
अब बारी थी लाशों को गड्ढों में रखा गया । वहां लाशों के कराहने की आवाज सुनाई दी और फिर सारी लाशें दफन होने से इनकार करने लगी उन्होंने इंकलाब भी कर दिया ।
यहां सार्जेंट ने अपने बड़े ऑफिसर्स को इस बारे में बताया । परंतु पहली बार ऑफिसर्स अपनी दलील देकर वापस कर दिया और कहा दफनाने की कोशिश करो इसके बाद डॉक्टर को भेजकर डेथ सर्टिफिकेट भी हासिल किए । तीसरी बार तीन चरित्रों को वहां भेजा गया संभवत है एक मंत्री दूसरा ब्यूरोक्रेट और तीसरा आर्मी का हेड था । मंत्री ने लाशों से दफन हो जाने को कहा एक लच्छेदार भाषण भी दिया परंतु लाशें थीं बहुत जबर थीं  जो कि टस से मस ना हुईं । फिर उनसे जुड़ी महिलाओं को बुलाकर समझ वाया गया ।  लाशों ने उनको भी इंकार कर दिया सबकी अपनी अपनी वजह थी हर सैनिक किसी ना किसी कारण के लिए दफन नहीं होना चाहता था । यह नाटक यह प्रदर्शित करना चाहता है की सैनिक भी युद्ध नहीं चाहते । कथा किस पृष्ठभूमि में लिखी गई है वर्तमान पृष्ठभूमि से बिल्कुल इतर मामला है उम्मीद की जा सकती है कि एक सामाजिक पृष्ठभूमि पर लिखी गई कहानी हो सकती है तो कथावस्तु स्वीकार्य है । लंबे समय से युद्ध ग्रस्त देश के  सैनिक ऐसा सोच सकते हैं । परंतु  वर्तमान संदर्भों में भारत के संदर्भ में यह नाटक प्रासंगिक नहीं है यह है मै पूरी जिम्मेदारी के साथ कह सकता हूं और कह भी रहा हूं।
सूर्य मोहन कुलश्रेष्ठ जी ने अगर यह नाटक कश्मीर के संदर्भ पेश किया है तो भी समझ से परे है ।
यह मैं नहीं कह रहा हूं बल्कि दर्शकों की टिप्पणियां है समझ गई ना कि जबलपुर का दर्शक फिल्मों के मामले में कैसा भी हो लेकिन थिएटर के दर्शक एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी ही है । नाम न बताते हुए एक दर्शक की टिप्पणी कोट करूंगा- यह नाटक तो सीधे प्रधान सेवक को भी समझाने की कोशिश करता है ।
नाटक के अंत में इस बात का उदघोष कि हम युद्ध नहीं चाहते मन को प्रभावित करता है । अगर प्रधान सेवक की बात करें तो जब जिस देश पर जैसी परिस्थिति आती है , तब उस देश का शासक वैसा ही करता है और करना भी चाहिए । अगर यह कल्पना है तो भी सेना में विद्रोह की चिंगारी को हवा देना किसी भी देश के लिए तब तक ठीक नहीं जब तक की विश्व बंधुत्व के मूल्यों को विश्व स्वयं न जीने लगे । मित्रों यहां यह समझने की जरूरत है की युद्ध तो कोई भी विचारधारा नहीं चाहती परंतु कुछ विचार धाराएं युद्ध पर आधारित ही है जो यह कहती हैं कि सत्ता का रास्ता बंदूक की गोलियों से निकलता है उन्हें भी युद्ध से तौबा कर लेनी चाहिए । आज भारत को अगर यह समझाया जा रहा है तो गैर जरूरी है क्योंकि कन्वेंशनल वार से ज्यादा खतरनाक चोरी-छिपे युद्ध करना क्या सिर्फ भारत की भौगोलिक सीमाओं को क्षतिग्रस्त देखा जा सकता है अगर हां भारत के संदर्भ में यह नाटक स्वीकृति योग्य है । निर्देशक और लेखक के बीच संवाद हीनता का होना स्वभाविक है !
मुझे नहीं लगता कि निर्देशक वैश्विक पॉलिटिकल सोच के साथ इस नाटक पेश कर रही थे बल्कि वे तो यह बताने की कोशिश कर रहे थे कि- किसी के लिए भी उपयोगी नहीं किसी को भी सुख नहीं देता युद्ध में जीता हुआ भी कभी नहीं जीतता । निर्देशक श्री सूर्य मोहन कुलश्रेष्ठ जी को बधाई नाटक कला पक्ष बहुत मजबूत है संवादों में कुछ बातों की तरफ रंगकर्मी श्री सीताराम सोनी जी के आग्रह पर विशेष ध्यान आकर्षित करना चाहूंगा उनका मत था कि- मृत्यु के बाद जिजीविषा ही नहीं होती तो दफन होने या ना होने का मामला ही नहीं बनता सोनी जी की बात आप तक पहुंचा रहा हूं । वहां बहुत दिनों के बाद फिर ज्ञान जी पंकज गुलुष जी से  रमेश सैनी जी ताम्रकार जी गंगा चरण मिश्र जी आदि से भेंट हुई ...!
हां एक बात और अंत में जो गीत हुआ उसमें एक हँसिया  जिसे एक पात्र बजा बजा कर समूह गीत गा रहीं थीं ।  सोच रहा था कमल झाड़ू पंजा आदि आदि नजर ना आए आते भी कैसे इनमें से.....

सोमवार, अक्तूबर 14

नेत्रहीन बालिकाओं से मिलकर भावुक हुए अभिजीत भट्टाचार्य


आप से सीखने आया हूं सीखकर जाऊंगा : अभिजीत भट्टाचार्य
बेटियों मैं आप से सीखने आया हूं और सीखकर ही जाऊंगा । नेत्र दिव्यांग बच्चियां से मिलकर भावुक हुए सुप्रसिद्ध गायक अभिजीत भट्टाचार्य ने आगे कहा कि- बच्चियों की गायकी सुनकर मैं हतप्रभ हूं इनमें जो कम समय में इतना प्रभावी गायन प्रशिक्षण प्राप्त किया है उसके लिए मैं उनसे कुछ ना कुछ हासिल करके ही जा रहा हूं जो ईश्वर ने इन बालिकाओं को दिया है वह सहज उपलब्ध नहीं होता । आजकल गायन में सफलता बहुत से है जो हर आसानी से मिल जाती है तकनीकी इसे बहुत आसान बना देती है परंतु आप जिस तरह से शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं वह अद्भुत है आजकल जो गाना भी नहीं जानता वह भी गाना गा लेता है और उसका गाना प्रसिद्ध भी हो जाता है तकनीकों के कारण संगीत में बहुत बड़ा परिवर्तन आया है और आप सबको इससे प्रतिस्पर्धा करनी है । मैं आपके गायन से अभिभूत हुआ हूं तक आशय के विचार नेत्रहीन कन्या विद्यालय की संगीत छात्राओं के समक्ष व्यक्त करते हुए अभिजीत ने नगर निगम जबलपुर संभागीय बाल भवन जबलपुर एवं नेत्रहीन कन्या विद्यालय के प्रति शुभकामनाएं व्यक्त की ।
श्री आशीष कुमार आयुक्त नगर निगम जबलपुर श्री रोहित कौशल अतिरिक्त आयुक्त नगर निगम जबलपुर संचालक संभागीय बाल भवन गिरीश बिल्लोरे, सहायक आयुक्त श्रीमती एकता अग्रवाल प्राचार्य नेत्रहीन कन्या विद्यालय श्री पूनम चंद्र मिश्र, कार्यक्रम कोऑर्डिनेटर शैलजा सुल्लेरे, डॉक्टर शिप्रा सुल्लेरे की उपस्थिति में कार्यक्रम का शुभारंभ श्री अभिजीत भट्टाचार्य के स्वागत सत्कार से हुआ । इस क्रम में संभागीय बाल भवन जबलपुर के संचालक गिरीश बिल्लोरे डॉक्टर शिप्रा सुल्लेरे, श्री सोमनाथ सोनी एवं श्री देवेंद्र यादव तथा श्रीमती विजयलक्ष्मी अय्यर द्वारा किया गया । नेत्रहीन कन्या विद्यालय के प्राचार्य श्री पूनम चंद मिश्र श्रीमती किरण एवं श्रीमती रेखा नायडू द्वारा भी अतिथि कलाकार का स्वागत किया ।
तदुपरांत स्वच्छता अभियान स्वच्छ भारत मिशन के लिए विशेष रूप से तैयार समूह गीत की प्रस्तुति डॉक्टर शिप्रा सुल्लेरे के संगीत निर्देशन में
मोना , नीलम, गुनिता, हर्षिता, शिवकुमारी, दसोदा, सीता बर्मन, ललित, महिमा,रोशनी, चन्द्रकला, सोनिया, शिवानी-1, प्रीति, सुरजना, सरिता, बिट्टू, वर्षा, सुमंती, गुड़िया, सिया कुमारी, अर्चना एवम शिवानी-2 मे की गई कार्यक्रम में गिटार पर श्रेया ठाकुर तबले पर कुमारी मनीषा तिवारी हारमोनियम पर कुमारी मुस्कान सोनी ने संगीत सहयोग दिया । आयोजन में सुश्री किरण एवं रेखा नायडू का उल्लेखनीय सहयोग मिला है।

रविवार, अक्तूबर 6

दफ्न जो सदियों तले है वो खज़ाना दे दे : मुज़फ्फर वारसी



मुजफ्फर वारसी हिंदुस्तान और पाकिस्तान के मशहूर शायर है यह जितने पाकिस्तान में मकबूल रहे उससे ज्यादा मां भारती  के  बेटों से इन्हें मोहब्बतें मिली हैं।  वारसी साहब का जन्म यूं तो हिंदुस्तान में हुआ 47 के बंटवारे में वे पाकिस्तान चले गए किंतु एक फिलॉस्फर पर की तौर पर पहचाने जाने लगे । वारसी साहब की आवाज और कलाम दोनों ही अव्वल दर्जे का होने से उनकी बात सीधे दिल में उतर आया करती थी और जिन शब्दों का इस्तेमाल वह अपनी पोएट्री में करते थे वह गुलजार जैसे शायरों के लिए एक रास्ता बन गए । साथियों उस देश में जहां ना तो शायरों की कदर है ना ही कलमकारों की उनका हिंदुस्तान से जाना मेरी नजर में ठीक ना था । यह बंदूक पकड़ने  वाले कमसिनों देश बनाने की जद्दोजहद पाकिस्तानी एडमिनिस्ट्रेशन ने की है जबकि वहां के बच्चे एक सर्वे के मुताबिक भारत के बच्चों की तरह ही बेहद बड़ी बौद्धिक क्षमता वाले हुआ करते हैं परंतु पाकिस्तानी एडमिनिस्ट्रेशन ने वहां के पॉलिटिकल चिंतन ने बच्चों को सही रास्ता दिखाया होता तो दोनों मुमालिक बौद्धिक प्रतिस्पर्धा में बहुत आगे होते परंतु वहां इल्म तालीम और बौद्धिक क्षमताओं के विकास के लिए कुछ भी नहीं किया और हम यह सब करते रहे ।
     साथियों किसी देश की तरक्की का आधार देश के बच्चे हैं हम कूची बांसुरी और कलम पकड़ाते हैं और वो जेहाद का पाठ पढ़ाते हैं । अंतर नजर आता है फौरी तौर पर आए ना आए दो दशक बीत जाने के बाद जब बच्चा बीस इक्कीस साल का होता है वह किसी भी देश के लिए कीमती बन जाता है इसका मीज़ान वहां के जाहिल सियासतदां नहीं लगा पाए वहां तो अब्दुल कादिर जैसा साइंटिस्ट होता है और यहां कलाम साहब जैसे सर्व पूज्य लोग होते हैं बस इतना सा फर्क है दोनों मुल्कों में तो चलिए सुनते हैं मुजफ्फर वारसी साहब को
यहाँ चटका लगाइये
जन्म: 23 दिसंबर 1933, मेरठ
मृत्यु: 28 जनवरी 2011, लाहौर, पाकिस्तान

शनिवार, अक्तूबर 5

भारत की आत्मा धर्म में बसती है ..तॊ आप ग़लत हैं ! : Salil Samadhiya

लेखक : सलिल 
अगर आप सोचते हैं कि भारत की आत्मा धर्म में बसती है ..तॊ आप ग़लत हैं !
वह अध्यात्म , तप और  त्याग में भी नही बसती !
  वह उत्सव, तीज , त्योहारों में भी नही बसती !!
वह सिर्फ़ एक ही चीज़ में बसती  है ..
और वह है   "दिखावा "  !!

....इसे आप ध्यान से समझ लें!
पूरे भारत की  आत्मा में जो तत्व गहरे समाया है,   वह 'सत्य' या 'परमात्मा' नही है!
 वह है -  "मैं क्या चीज़ हूं !"

यहां हर व्यक्ति इस जुगत लगा है कि,
  किसी भी तरह से , किसी भी क्षेत्र में सफ़ल होकर,  दूसरों को बता सके कि  "देख , मैं क्या चीज हूं "
यही दिखाने के लिए वह पैसा कमा रहा हैं ,
यही दिखाने के लिए वह  नेतागिरी कर रहा है , यही दिखाने के लिए वह अधिकारी बना है ,
यही दिखाने के लिऐ वह कविता कर रहा है, लिख रहा है !

यह महज़ जीविकोपार्जन का मामला नही है !
यह नुमाईश का मामला है !
अपनी हैसियत के प्रदर्शन का मामला है !
 यही दिखाने के लिए वह नाच रहा है ..गा रहा है  या ..अन्य उद्यम कर रहा है  !!
जब तक ये  "दिखावावाद" जिंदा हैं भारत में ,
आप भूल जाईये  कि यहां कोई उत्थान हो सकता है !
न साम्यवाद , न समाजवाद, न राष्ट्रवाद !

अभी सौ वर्षों तक यहां जो "वाद" चलेंगे वो हैं  -
 "अहंवाद"  "मैं वाद",  "स्वार्थवाद" ,  "परिवारवाद", "लूटखसोट वाद "
और जब तक ये "वाद" हैं , तब तक किसी भी तरह का उत्थान भारत में परम असंभवना है !
वह इसलिए , क्योंकि यहां खून के एक खरबवें  हिस्से में भी जो विष भरा है ..वह है  ""वी.आई.पी.वाद", 
""वर्गभेद वाद " का  विष !

यहां आलम ये है कि एक स्कूल , एक क्लास में पढ़े बालसखा भी  ग्रुपों में बँट जाते हैं !
जो सफ़ल हैं ..वो स्वयं को एलीट मानने लगते हैं और अन्यों को दोयम !
भारत में शायद ही ऐसा अधिकारी देखने मिलेगा जो अपने मातहतों  को हिक़ारत से ना देखता हो!
  शायद ही ऐसे लोग मिलेंगे जो घर में  काम करने वाली बाई , मजदूर,  प्लम्बर , इलेक्ट्रिशियन  या  स्वीपर को तुच्छता  से ना देखते हों !
 शायद ही ऐसा नेता मिलेगा जिसके आस-पास 4-6 छर्रे न मँडराते हों ...और वह अपने आप को आलमगीर  न समझता हो !
फ्लाइट से कहीं जाने वाला व्यक्ति .. जब तक 10-20 बार  अनेक लोगों के बीच ये ना बक ले कि  "मेरी कल सुबह 10 बजे की फ्लाइट है"  या ,
 "मैं कल 5 बजे की फ्लाइट से वापिस लौटा!" ..उसे लगता हैं कि  मेरा आना जाना  सफ़ल नही हुआ !
छुटभैये बिल्डर ज़रा सा पैसा आते ही मोटी मोटी सोने  की चेन  और कड़ा  पहनकर अपने सफ़ल होने की भौंडी  नुमाईश करते  मिलेंगे !
नव धनाड्य हर साल कारें बदल कर अपने अमीर होने की पुनर्रुदघोषणा करते हैं  !

कुल मिलाकर ..जिस एक भाव से पूरा भारतवर्ष आविष्ट  हैं ..वह है -
"देख , मैं क्या हूं , और तू क्या है ?"

..यह दिखावावाद ही  वह खाद है.. जिस पर लहलहा रही हैं  भ्रष्टाचार की फसलें ,
वर्ग भेद के पौधे !
 और इन पर भिनभिना रहे हैं उच्चता  और निम्नतावाद  के कीड़े !
इसी के कारण सब रोगी हैं,  तनाव ग्रस्त हैं , कुंठित हैं ,  मनोविषादी हैं !

..यही कारण है कि  भारत डायबिटीज , हृदयरोग , ब्लड प्रेशर ,  कैंसर जैसी सभी प्रमुख बीमारियों का हब बना हुआ है !
और इन बीमारियों के निवारणार्थ  गली -गली में उग रहे हैं ..धर्म गुरु , ज्योतिषी , आयुर्वेदा,  योगा  के स्वयं-भू कमअक़्ल लपोसड़  विद्वान !

पूरा भारत भरा पड़ा है जग्गी-फग्गी , श्री-फ्री, आबाओं-बाबाओं और  चंगाई सभाओं से !
..कहीं सुबह गार्डन में नकली हास्यासन हों रहे है ..,
तॊ कहीं  जिन्नाद उतारे जा रहे हैं !

उधर ..पति पैसा कमाने की मशीन हुआ जा रहा है ..इधर पत्नि नकली जीवन की घुटन और नैराश्य से तिल तिल मर रही है !

जिस दिन ये श्रेष्ठता साबित करने  का जिन्न  उतर जाएगा भारत के सिर से, उस दिन  सब दुरुस्त होने लगेगा ..शरीर भी , स्वास्थ्य भी  धर्म भी , अध्यात्म भी !
...नकली बाबा , हकीम,  वैद्य , डाक्टर भी !

मगर इस नुमायशी आदमी के रहते साम्यवाद भी एक  सपना है  और राष्ट्रवाद भी दूर की कौड़ी है  !
...क्योंकि जब "मैं" मिटता है  और  "दूसरा" दिखता है ..
तब साम्यवाद भी संभावना है ..
जब "मैं" मिटता है और  "राष्ट्र" दिखता है ..तब राष्ट्रवाद भी संभावना है !

...लेकिन जब तक ये एलीट होने की विष्ठा भरी है दिमाग़ में ..और उच्चता -निम्नता  की पेशाब बह रही है रगों में ..तब तक इस देश में कोई संभावना नही है !

बचपन में एक कविता पढ़ी थी स्कूल में !

"दो आदमी  एक कमरे में ,
कमरा..  घर में
    घर , मुहल्ले में
        मुहल्ला.. शहर में
           शहर.. प्रदेश में
              प्रदेश , देश में

...ऐसे बढ़ते हुए वो बात  ब्रहांड तक जाती थी !

इस ब्रहांड में रेत के एक कण के खरबवें हिस्से से भी कम हैसियत है पृथ्वी की !
 हम-आपकी तॊ बिसात ही क्या ??
जब तक इस बोध से अनुप्राणित ना होंगे प्राण ..तब तक कोई संभावना नही है !

हाथ में सोने का कड़ा पहनने से कोई एलीट नही हॊता !
एलीट हॊता है आदमी , चेतना के उत्थान से !
एलीट हॊता है वो ..जिसकी आंखें सौम्य हों ,
जिसका ललाट भव्य हो ,
जिसकी भावना उद्दात हो ,
जिसके हृदय में प्रेम हो

मनुष्य एलीट हॊता है ..चेतना के विस्तार से ,
वस्तुओं के संग्रहण से नही !
ब्रह्मआत्म ऐक्य बोध से ,
दिखावे से नही !!
ये पूरब की उद्घोषणा थी !

मगर अब हम उस ऊंचाई से बहुत गहरी गर्त में आ गिरे हैं !

##सलिल ##