सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

फ़रवरी, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

*" कन्यादान नहीं करूंगा "*

श्री शैलेंद्र अत्रे की कविता* *" कन्यादान नहीं करूंगा "* जाओ , मैं नहीं मानता इसे , क्योंकि मेरी बेटी कोई चीज़ नहीं , जिसको दान में दे दूँ ; मैं बांधता हूँ बेटी तुम्हें एक पवित्र बंधन में , पति के साथ मिलकर निभाना तुम , मैं तुम्हें अलविदा नहीं कह रहा , आज से तुम्हारे दो घर , जब जी चाहे आना तुम , जहाँ जा रही हो , खूब प्यार बरसाना तुम , सब को अपना बनाना तुम , पर कभी भी , न मर मर के जीना , न जी जी के मरना तुम , तुम अन्नपूर्णा , शक्ति , रति सब तुम , ज़िंदगी को भरपूर जीना तुम , न तुम बेचारी , न अबला , खुद को असहाय कभी न समझना तुम , मैं दान नहीं कर रहा तुम्हें , मोहब्बत के एक और बंधन में बाँध रहा हूँ , उसे बखूबी निभाना तुम ................. *- एक नयी सोच एक नयी पहल*

Kids always remember 24 September 2014 for MOM

Kids please don’t under estimate India because India always think about you every step of our country only for next generation. I think finding  of “0” was the first Enovation for world of mathematic watch this video uploaded on youtube by Mr. Jignesh Rohit ……   thanks youtube   

भारत में ब्राह्मणों की स्थिति

विकास हर पल होता है होना भी चाहिए ... पानी और समय को रोकिये तो पाएंगें की पानी और समय दौनों में मलिनता आ ही जावेगी. अस्तु तो सनातन से ही हम “चरैवेती चरैवेती” के उदघोषक हैं... जो न तो यवनों को हासिल है न ही विश्व की  किसी भी सामाजिक व्यवस्था में शामिल रहा है. आप सोच रहे होंगे कि यहाँ यवन आए, ब्रिटिश आए तो क्या चल के न आये होंगे....? जी हाँ वे सब आए  चलकर ही आए थे... प्रवास के लिए पथसंचलन आवश्यक है . पर याद रखिये  वे जटिल और स्थिर विचारों एवं मान्यताओं के साथ आये थे ...सो उनको हर जगह से लौटना पडा कुछेक बातों को छोड़ दें तो वे सनातनी व्यवस्था को समाज से प्रथक न कर पाए . दूसरी ओर ... जबकि हम सनातनी जब भी बाहर गए तब समृद्ध और मौलिक चिंतन तथा विचारधारा के साथ गए हमारे प्रवास का कभी भी उद्देश्य सत्ता का विस्तार न था. हम सदा मूल्यों की स्थापना के साथ गए . हमने हमारा सनातनी व्यवस्थापन का मार्ग तद्समकालीन   विश्व को सिखाया भी. यही है हमारी सनातनी-शक्ति जो हमें वेदों ने दी निरंतर मिल रही है. यही सनातनी-शक्ति हमारे लिए रक्षाकवच है.   सुभाष बाबू विप्र थे एमिली से विवाह के संस्कार को सनातनी

पाकिस्तान को खुली चुनौती देता हिन्दुस्तानी बालगायक –“अज़मत खान ”

  पाकिस्तान का बड़े से बड़ा फनकार में हमारे अज़मत के सामने  बौना साबित होता है.   यह देश गन्धर्वों का देश है पीरों सूफियों साधुओं संतों का देश है...... यहां बच्चे शेरों के दांत गिन लेते हैं..... जी हाँ ये ईश्वर की रहमत का देश है.... जी   हाँ ये नन्हें   # अज़मत   का देश है.......... यकीन कीजिये....   पाकिस्तान  सिर्फ  कसाब बनाता है और भेजता है .  उसके पास हमारे देश के  अज़मत जैसा   मुकाबिल कोई न था .   ........... पाकिस्तान की बड़ी से बड़ी फिल्म को या गायक को केवल अधिकतम 40 हज़ार के आसपार दर्शक मिलते हैं... जबकी भारत में उनके गायकों को पूरी शिद्दत के साथ देखा सुना जाता है.  उनको सराहा जाता है........ कई पाकिस्तानी कलाकारों को रोटी और पहचान भी भारत ने दी . बदले में ज़हर उगलता पाकिस्तानी मीडिया ईर्ष्या और कुंठा के दलदल में फंसा चीखता रहता है. जी हाँ अज़मत जयपुर के वाशिंदे हैं. जिनको 2011 का जी टी वी लिटिल चैम्पियन होने का गौरव हासिल हुआ. दक्षिण एशिया में  भारत ही एक ऐसा देश जहां सृजनात्मकता को सामाजिक तौर पर मान्यता हासिल है वह भी बिना किसी रोकटोक या जाति-धर्म-सीमाओं  के भेदभाव के. जबकि

गुलाब हो न तुम.... ?

रोज़री में सजे  तुम कल बदले जाओगे गुलाब हो न तुम सम्मान में भी मिलते हो  दूसरे तीसरे दिन  कूड़ेदान में  बदहवास मिलते हो  गुलाब हो न तुम  तुमको समझने वाला होता है निराला  गुलाब हो न तुम  नेहरू की अचकन से रूमानी सेज तक  तुमको हर अगली बार  जमीन पर बिखरा बिखरा पाया *गुलाब हो न तुम*

कोड रेड दस्ते से मिल के खुश हुए बच्चे

जबलपुर 5 फरवरी 2017          बालभवन के बच्चों कोड रेड दस्ते के बीच हुए संवाद उन्मुक्त पारिवारिक संवाद हुआ. बेटियों ने कोड रेड से ये तक पूछ लिया – “अंकल, स्ट्रीट टीजिंग करने वालों की टीजिंग के वक्त साय्कोलाजी क्या होती है.”     इस जटिल से सवाल का बड़ी चतुराई से उत्तर देते हुए कोड रेड प्रभारी श्री अनुराग पंचेश्वर ने कहा –“बेशक उनकी सायाकोलाज़ी पाजिटिव तो नहीं होती परन्तु वे अंदर से बेहद कमज़ोर अवश्य होते हैं”      एक अभिभावक कहा – “कोडरेड पर शिकायत दर्ज करने के बाद शोहदों को जमानत अथवा सज़ा से छूटने की स्थिति में शिकायतकर्ता को  भय बना रहता है..?”   कोडरेड- “कोडरेड ऐसी कोई स्थिति नहीं बचने देती की अपराधी का अपराध साबित न हो सके फिर अगर हम पुलिस की मदद न लें तो अपराधियों के हौसले बुलंद होना स्वाभाविक है.”    गायिका किशोरी रंजना निषाद- “शोहदे छुरी चाकू जैसे असलहे लेकर घूमते हैं ...... ऐसी स्थिति में हम बेबस ही होतीं हैं न..?”    कोडरेड :- शोहदे आदतन ऐसा इस इस लिए करते हैं ..... क्योंकि वे हमेशा भयभीत रहते हैं ..... भयभीत केवल कमज़ोर व्यक्ति ही होता है... आप आत्मशक्ति औ

प्रतिभाओं को देखकर चकित हूं : श्रीमति सुमित्रा बाल्मिकी अध्यक्ष नगर निगम जबलपुर

“बालभवन में जब भी आती हूं तब प्रतिभाशाली बच्चों की प्रतिभाओं को देखकर चकित रह जाती हूं। अर्तराष्ट्रीय राष्ट्रीय एवं प्रदेश स्तर पर यश अर्जित करने वाले बच्चों से मिलकर आज मैं बेहद प्रसन्न हूं। जबलपुर के लिए बालभवन एक महत्वपूर्ण एवं आवश्यक केन्द्र बनता जा रहा है जिससे मैं बेहद प्रभावित हॅूं”  - तदाशय के विचार श्रीमति सुमित्रा बाल्मिकी अध्यक्ष नगर निगम जबलपुर ने संभागीय बालभवन जबलपुर में आयोजित सरस्वती पूजन , वार्षिक उत्सव एवं पुरूस्कार सम्मान समारोह के दौरान दिये तथा श्रीमति बाल्मिकी ने उपस्थित जनों को आश्वत किया कि नगर निगम बालभवन के लिए भवन हेतु स्थान जगह उपलब्ध कराने के लिए प्रयत्नशील  रहेगा । कार्यक्रम की मुख्य अतिथि श्रीमति सुमित्रा बाल्मिकी , अध्यक्ष नगर निगम जबलपुर रही   जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता श्रीमति मनीषा लुम्बा संभागीय उपसंचालक महिला सशक्तिकरण जबलपुर ने की कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में श्रीमति नीलम मोदी , श्रीमति ज्योति उपाध्याय , श्रीमति माया भदौरिया , श्री साधना तिवारी , श्रीमति सुलभा बिल्लौरे उपस्थित रहीं।   संभागीय बालभवन जबलपुर द्वारा

शौर्या-शक्ति आत्मरक्षा प्रशिक्षण : दिख रहा असर

संभागीय बाल भवन जबलपुर द्वारा निर्भया  दिवस  दिनांक  16 दिसंबर 2014 से प्रारम्भ  मार्शल आर्ट प्रशिक्षण कार्यशाला का समापन   31   दिसंबर   2014   को बाल भवन परिसर में श्रीमती प्रज्ञा रिचा श्रीवास्तव ,   आईपीएस ,   आईजी-महिला सेल , जबलपुर के मुख्यआतिथ्य में सम्पन्न हुआ था तब अपने उदबोधन में श्रीमती प्रज्ञा रिचा श्रीवास्तव ने बच्चों की भूरि भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि जो बच्चों ने मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण प्राप्त किया हैं वो किसी भी स्थिति में जीवन के लिए बेहद महत्वपूर्ण है  खासकर तब और आवश्यक है जब कि सामाजिक परिस्थितियाँ सामान्य नहीं हैं ।किसी को भी यह अधिकार नहीं है कि किसी अन्य व्यक्ति खासकर बालिकाओं ,     बच्चों   ,   महिलाओं   ,   के विरुद्ध हिंसक हो । बच्चे देश का  भविष्य हैं हमारी कोशिशें ये होनी चाहिए कि हम खुद बेहतर तरीके से जिएं  और समूचे समाज को सुख से जीनें दें । बाल भवन के इस प्रयास से मैं बेहद उत्साहित हूँ । मेरा सुझाव है कि प्रशिक्षण निरंतर जारी रहे इस हेतु जो भी सहयोग अपेक्षित हो उसके लिए सदैव तत्पर हूँ ।    बालभवन जबलपुर ने उनकी सलाह मानते हुए