सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

अप्रैल, 2009 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

"जबलपुर में आज से शुरू दो दिनी ब्लागिंग कार्यशाला "

जबलपुर में हुई पहली हंगामेदार ब्लागर्स मीट में तय हुआ था कि ब्लागिंग का व्यापक प्रचार प्रसार हो . वादा सिर्फ आलेखों तक सीमित नहीं रहा आज यानी 18 अप्रेल से 19 अप्रेल 2009 तक जमा हो रहे हैं 50 युवक युवतियां हिंदी ब्लॉगर बनने . इन में से यदि कुछेक भी ब्लॉगर बनें तो तय है कि शहर जबलपुर से ब्लागिंग ब्लागिंग में उत्कृष्ट अवदान होगा . डाक्टर प्रशांत कौरव ने अपने कालेज मीडिया कालेज ऑफ़ जनर्लिज्म में ब्लागिंग पर कार्यशाला करने का वादा पूरा किया है . नि : स्वार्थ भाव से ब्लागिंग हम सिखाएंगे आप की शुभ कामनाएँ ज़रूर रंग लायेंगी यहाँ भी हो नज़र - ए - इनायत

ग्राम कथा भाग एक :भैया तीरथ,अकल बड़ी होत है तैं भैंस को बड़ी बता रओं है.

कलेक्टर साहब का गाँव में दौरा जान कर भोला खेत नहीं गया उसे देखना था की ये कलेक्टर साहब क्या....कौन .....कैसे होते हैं ? दिन भर मेहनत मशक्कत कर के रोजी-रोटी कमाने वाला मज़दूर आज दिल पे पत्थर रख के रुका था , सिरपंच जी के आदेश को टालना भी उसकी सामर्थ्य से बाहर की बात थी सो बेचारा रुक गया , रात को गुलाब कुटवार [कोटवार ] की पुकार ने सारे पुरुषों को संकर-मन्दिर [शंकर ] खींच लिया बीडी जलाई गई.यहाँ सिरपंच ने तमाखू चूने,बीड़ी,का इंतज़ाम कर दिया था. सरपंच:-"काय भूरे आओ कई नई...?" "मरहई खौं जाएँ बे आएं तो आएं कक्का हम तो हैं जुबाब देबी" "जब से भूरे आलू छाप पाल्टी को मेंबर हो गाओ है मिजाज...............कल्लू की बात अधूरी रह गई कि आ टपका भूरे.....तिरछी नज़र से कल्लू को देखा और निपट लेने की बात कहते कहते रुक गया कि झट कल्लू ने पाला बदला :"जय गोपाल भैया बड़ी देर कर दई........काय भौजी रोकत हथीं का" "सुन कल्लू , चौपाल में बहू-बेटी की चर्चा मति करियो" सरपंच ने मौके की नजाकत भांप बात बदली -''भैया,कल कलेक्टर साब आहैं सबरे गाँव वारे'' भूरे;'काय,क

सामाजिक पत्रिकाओं में प्रकाशित रपट

मित्रो एवं सुधि पाठको सादर अभिवादन बावरे-फकीरा एलबम के लांच समारोह की रपट नार्मदीय -जगत इंदौर,सनाड्य-संगम,जबलपुर, नार्मदीय- लोक इंदौर, नार्मदीय- लोक नागपुर के ताज़ा अंको मे प्रमुखता से प्रकाशित हुई है, सव्यसाची कला ग्रुप इनके प्रति आभारी है।

जबलपुर में :दादा देश पांडे की स्मृति में संगीत सरिता का सरल प्रवाह

मिसफिट पर होटल्स की जानकारी लेकर निकलिए विश्व यात्रा पे निकलिए

मित्रो मुझे कल ही पहला विज्ञापन मिला हैं इस ट्रेवल कंपनी से EMMA के मेल से मन उत्साहित हुआ चलो पहला विज्ञापन मिला मेरे हिन्दी ब्लॉग को । झट समीर लाल जी से बात कर के मैंने स्वीकृति दी आज विज्ञापन टांक भी दिया है यहाँ और यहाँ भी । देखता हूँ वादे के मुताबिक डालर आते हैं तो ठीक है वरना जय राम जी की करना ही पडेगा । तब तक आप विश्व यात्रा पर निकलना चाहतें हों तो पास पोर्ट एप्लाय कर ही दीजिये । वैसे इस बात का खुलासा आशीष खंडेलवाल जी कर रहे हैं की डालर वाली दिल्ली बहुत दूर है बहुत दूर सो इस पोस्ट को लिखने के बाद मैं इस विषय से मैं बहुत .दूर .. चला ।

ब्लॉग कार्य शाला 18-19 अप्रेल 2009 को

सेंटर फॉर मीडिया एंड जनर्लिज्म ने वादे के मुताबिक हिन्दी ब्लागिंग को लेकर कार्य शाला का संकल्प पूर्ण किया . इस बीच जबलपुर के लिए " इरशाद अली " ने अपनी कृति ए टू जेड ब्लागिंग मानो हम पर उपकार ही किया । जबकि वे इस बात से बेखबर थे की हम कोई सेमीनार कराने जा रहे हैं " शुक्रिया इरशाद अली जी "

टिप्पणी लोलुप/वातावरण बिगाडू ब्लागर

समय का पहिया सदैव अपनी गति से गतिमान आगाह करता है कि किसी भी गफलत से बवाल मच सकता है । केवल इनकी ही नहीं सभी की चकाचक धुलाई ... का वक्त आ गया है । ये अलग बात है कि इकरार ओर इनकार आजकल "चुटकी मे दिखाई देने का समय है । सियासत इसे ही कहतें है, शायद इसे भी "सियासत तेरे ज़लवे देखें है हमने मुफलिसों के तलवे देखें है होंठों पे राग राहत का दिलों में पलते बलवे देखें हैं " उधर मानसिक हलचल से उभरा ब्रह्म सत्य काबिले तारीफ़ है ज्ञान को सर्वत्र फैलाने का मन हो रहा है। भारत के नव युवक-युवतियों उठो , सरकारी नौकरी पर कब्जा करो और हिन्दुस्तान की धरती को पुत्र रत्नों से भर दो। भविष्य तुम्हारा और तुम्हारे पुत्रों का है। उनके माध्यम से सब संपदा तुम्हारी होगी! सपनों की कब्रगाह है-बॉलीवुड.. मुन्ना के पांडेय"कुणाल" राय कुछ हद तक माननी चाहिए वैसे अब तो हर ज