वेबकास्टिंग लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
वेबकास्टिंग लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, फ़रवरी 23

टी.वी. चैनल्स के लिये चुनौती है न्यू-मीडिया ?

 
साभार : learningtimes
             

  के. एम. अग्रवाल कलावाणिज्य एवं विज्ञान महाविद्यालयकल्याण(प) के हिंदी विभाग द्वारा विश्वविद्यालय अनुदान  आयोग के सहयोग से 9-10 दिसबर 2011 को दो दिवसीयराष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया जाना था जो केंद्रित थी "हिन्दी ब्लागिंग : स्वरूप, व्याप्ति और संभावनायें" विषय पर   डॉ.मनीष कुमार मिश्रा का स्नेहिल आमंत्रण सम्पूर्ण व्यवस्थाश्रीमति अनिता कुमार जी के आचार्य कालेज मुम्बई में मेरा वक्तव्य सुनिश्चित किया था कई सारे प्रोग्राम तो फ़ोन पे तय हो गये थे कुछ तय हो जाते वहां जाकर  सब कुछ सटीक समयानुकूलित था कि अचानक  7.12.2011 की रात मुझ पर  अस्थमेटिक हमला हुआ सपत्नीक कल्याण और फ़िर मुम्बई जाना अब किसी सूरत में संभव न था. जबलपुर से नागपुर फ़िर वहां से फ़्लाईट पकड़नी थी .जात्रा के लिये  सजा सजाया साजो सामान और तेज़ बुखार खांसी एक विपरीत परिस्थिति डाक्टर ने भी बिस्तर से न हिलने की सलाह दी थी. श्रीमति अनिता कुमार जी तो शायद आज़ तक नाराज़ है. नाराज़गी ज़ायज़ है भई .. होनी भी चाहिये ...आचार्य कालेज मुम्बई के बच्चे उस दौर में मुझसे वेबकास्टिंग का हुनर जो सीखते जब लाइव स्ट्रीमिंग के लिये गूगल बाबा ने भी न सोचा था (शायद )..  जी हां अस्ट्रीम और बैम्बशर दो ऐसी साइट्स मेरे हाथ लगी थीं जिनके ज़रिये एक साथ हज़ारोंलाखो  लोग किसी कार्यक्रम से जुड़ जाते चाहे वे कहीं भीं हों. ये करिश्मा खटीमा-ब्लागर्स मीट   की लाइव स्ट्रीमिंग में हो भी चुका था . स्ट्रीमिंग पर कई दिनों तक काम किया था कई सारे प्रसारण प्रसारण मेरे, श्रीमति अर्चना चावजी, भाई अविनाश वाचस्पति  एवम पद्मसिंह द्वारा किये जा चुके थे .
 हिंदी ब्लागिंग में टेक्स्ट के अलावा आडियो कंटेंट्स तो पुरानी बात लगने लगी थी तब.  ब्लागिंग में वीडियों कंटेंट्स की मौज़ूदगी मुहैया कराना एक करिश्मा ही तो था. इसके सहारे कल्याण  मुम्बई जाता तो बहुत कुछ हासिल होता पर जब जब जो जो होना है तब तब वो वो होता है खैर हमारी इस तरह की उछलकूद ने   गूगल बाबा को लाइव-स्ट्रीमिंग की दिशा में सोचने शायद मज़बूर कर ही दिया . लगभग एक बरस से  नेट यूज़र्स  अब लाइव स्ट्रीमिंग का लाभ ले रहे हैं. वो दिन दूर नहीं जब हर पी सी से एक चैनल उपजेगा. न्यू-मीडिया खबरिया चैनल्स के लिये एक सूचना-स्रोत हो सकता है. (अभी कई मामलों में है भी )   प्रिंट मीडिया तो न्यू-मीडिया का भरपूर और सार्थक प्रयोग कर भी रहा है.
       तो लाइव स्ट्रीमिंग के तीव्र होते ही  खबरिया-चैनल्स को कोई खतरा है ? तो जान लीजिये आज़ से बरसों पहले जब फ़िल्में सिनेमाघरों में देखी जातीं थीं तब आम आदमी का मनोरंजन व्यय बेहद अधिक था. मुझे पांच रुपए खर्चने होते थे . पर अब दस बीस फ़िल्में मेरे सेल फ़ोन में उतनी ही कीमत पर देख सकता हूं. वो भी इच्छानुसार . 
अब आवश्यक्ता अविष्कार की जननी नहीं बल्कि बेहतर विकल्पों की तलाश की वज़ह से अविष्कार हो रहे हैं.       
              संचार के क्षेत्र में भी एक आवेग सतह के नीचे पल रहा है.  जो सिर्फ सतह देखने के  आदी है वे देखें न देखें इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता ।
             चिन्तक सत्य को समझ पा रहे कि विचार और सरिता में  अनाधिकृत तट बंधों को तोड़ देने की क्षमता होती है । जहां तक न्यू मीडिया का सवाल है ठीक वैसा ही आतुर है में  अनाधिकृत तट बंधों को तोड़ देने जिसका सबसे बड़ा खामियाज़ा लापरवाह निरंकुश टी.वी. चैनल्स को भुगतना पड़ सकता है विज़ुअलिटी के दौर में मनोरंजक, फ़िल्मी चैनल्स, खबरिया चैनल्स पर अब ये सवाल उठने लगे  हैं कि – निरंकुश एवम  अत्यधिक आक्रामक हो रहे हैं .. परिवारों में तांक-झांक करने लगे हैं तो  अगर ये आरोप सही साबित होते  हैं तो तय है कि आने वाले समय में दर्शक जुड़ने से परहेज करेंगें . जो इनके  मीडिया-संस्थानों के लिये बेहद नुकसान देह साबित होंगें. दर्शक तलाशेंगे विकल्प तब मौज़ूद होगा एक मज़बूत विकल्प भले ही तकनीकि तौर पर कमज़ोर सही परंतु मौलिक होंगे. क्या होगा विकल्प ... यक़ीनन वेबकास्टिंग... 4G के आते ही इसकी आहट आप सुन सकते हैं. 
         इस तरह के बदलावों को रोकना सम्भव नहीं होगा. न्यू-मीडिया का यह विकल्प एक ओर विचार-संप्रेषण का माध्यम होगा वहीं दूसरी ओर सूचना-संचरण का तीव्रतम साधन. चूंकि एक या दो अथवा कुछ  लोग के ज़रिये प्रसारण होंगे तो तय है कि तब कि "वेबकास्टिंग" अपेक्षाकृत अधिक उद्दण्ड और अराजक होगी. इस बात को नकारना असम्भव तो है  किंतु विकल्प के रूप में उनकी मौज़ूदगी तय है.!!


               

रविवार, मई 20

रवींद्र प्रभात वार्ता से वार्ता : मिसफ़िट : सीधीबात पर








एक ऐसी ई-पत्रिका जिसमें  आप साहित्य ,
संस्कृति और सरोकार से एकसाथ रूबरू होते हैं .
 जहां आपकी सदिच्छा के अनुरूप सामग्रियां मिलती है.
 जो आपकी सृजनात्कता को 
पूरे विश्व की सृजनात्मकता से जोड़ने को सदैब प्रतिबद्ध रहती है.             



Free live streaming by Ustream

गुरुवार, अप्रैल 28

दिल्ली पहुंच कर अन्ना ने चूलें सरकार की हिला दीं थीं ब्लागर ब्लागरा भी ..


                                                           हां तो भाईयो और ब्लागर भग्नियो जो ( मानें ) दिल्ली पहुंच कर अन्ना ने चूलें सरकार की हिला दीं थीं ब्लागर ब्लागरा क्या करेंगे.. जी सम्मेलन की घोषणा होते ही कितने सीनों पे नागिन फ़िलम छाप धुन पै  सांप लोट रए हैं सबरे ब्लागरन को पता है.पर जे जान लो भैया रवींद्र परताप जी  और अगरवाल साब  ने पूरे देस और बिदेस से ज़हर निकालने वाले सपेरे बुलाय लिये. जिनका काम है  ज़हर से  "ज़हर-रोधी" बनाना . सांप भैये  आप तो जिसकी आस्तीन में रहते हो रहो सीनों पे न लोटो वरना ज़हर से हाथ धो लोगे.   खास खबर ये है कि अविनाश  जी और पता नहीं कौन कौन  दिल्ली चलो का हल्ला महीनों से नुक्कड़ पे आके मचाए पड़े थे उधर भाई रवीन्द्र प्रभात की किताबें लिखने की   मौन  साधना अलग जारी थी. बस्स इस आह्वान का असर दिखा अंदर की बात तो जे है भैया कि अन्ना हज़ारे तक दिल्ली आ गये और बस हिला दीं चूलें सरकार की ऐसा माना जा रहा है... और खास खबर ये है कि लारा मेमसाब पर इस आह्वान का असर कुछ ज़ियादा ही हुआ उनने कसम खाई कि 29 अप्रैल 2011 से पूरे देश में ब्लागर्स के वास्ते  आह्वान करेंगीं   नारा देंगी  "दिल्ली चलो "समीर बाबू कनाड़ा से सोच रए हैं के   दिल्ली में बस जाने को जी चाहता है. हजूर बस एक बार चुनाव लड़ लिये होते तब्ब तो पक्का था कि आप दिल्ली में इच्च होते..सुना है कुछ लोग जो सम्मेलन को फ़ेस न कर पाए वे  फ़ेस बुक में...पद्मावलि (पद्मावति नहीं) बारे  पद्म भैया सुनिये हमारे राशी फ़ल में जात्रा के लिये मनाही है पर हम आयेंगे ज़रूर आएंगे पक्के में आएंगे  . संगीता  ताई से तोड़ निकलवाएंगे पक्के में. जी और तो और हम वेबकास्टिंग करेंगे ललित भाई  के अलावा सवा लाख पे भारी श्री बी एस पाबला  श्री संजीव तिवारी  से  मिलना भी होगा और देखिये हम लोग ऐसे दिखेंगे
वेबकास्टिंग के लिये किस ब्लाग पे चटका लगाना है..?

जी डा०विजय तिवारी किसलय के बताए अनुसार मुझे बताया "वेबकास्टिंग जिसकी चर्चा देश विदेश की पत्र पत्रिकाओं में भी की गई है.  इतना ही नहीं उक्त कार्यक्रम का लाइव प्रसारण http://www.nukkadh.comhttp://sanskaardhani.blogspot.comतथा http://editers.blogspot.com/ , http://hindisahityasangam.blogspot.com/ पर  दिनांक 30 अप्रैल 2011 .को शाम तीन बजे से उपलब्ध होगा. 
 "

इस पर एक रपट देखिये भाई पियूस पाण्डे साब की कतरन भास्कर की
दैनिक भास्कर के राष्ट्रीय संस्करण में आज दिनांक २९.०४.२०११ को प्रकाशित पीयूष पांडे का विस्तृत विवेचन हिंदी ब्लॉग सम्मलेन के बहाने 
नुक्कड़ से साभार 








शनिवार, अप्रैल 9

कादम्बिनी अप्रेल 2011 में वेबकास्टिंग पर श्री पियूष पाण्डॆ

कादम्बिनी के अप्रेल 2011 अंक के पृष्ट क्रमांक 72-73 पर श्री पीयूष पाण्डे का आलेख "आया ज़माना वेवकास्टिंग का में हम शौकिया वेबकास्टर्स को उत्साहित किया है. "
हिंदी ब्लागर्स के बीच  हमको वेबकास्टिंग के ज़रिये आपसी संवाद में सहजता का अनुभव हुआ है. इस तकनीक़ी का उपयोग प्रथम बार खटीमा ब्लागर्स मीट को लाईव कर हमने किया अच्छा अनुभव था. अब तो कई ब्लागर्स वेबकास्टिंग का सार्थक प्रयोग कर रहे हैं. उमनें मैं प्रमुखता से डा० विजय तिवारी किसलय और श्रीमति अर्चना चावजी के नामों ज़िक्र करना चाहूंगा.  जिनने मेरे बाद इस तकनीकी के ज़रिये खूब काम किया.
ब्लाग इन मीडिया (यश भारत की )
खटीमा के आयोजन को लाइव वेबकास्ट करने के बाद मैं और पद्म सिंह अविनाश वाचस्पति की सहायता से तय शुदा कार्यक्रम के मुताबिक दिल्ली में 30 अप्रेल  2011 को होने वाले ब्लागर्स के लिय सम्मान-आयोजन का लाईव प्रसारण करने जा रहें है. आप घर बैठे इस आयोजन का आनंद लीजिये. ये वादा है कि  पूर्व के प्रसारणों की कमियों को दूर कर लिया जावेगा .
आयोजकों से वार्ता :-

  1. श्री रवीन्द्र प्रभात 
  2. डॉ. गिरिराजशरण अग्रवाल, सचिव, हिंदी साहित्य निकेतन,



सभी वेबकास्टर का कादम्बिनी एवम पियूष जी
को साधुवाद एवम आभार