शुक्रवार, नवंबर 30

सा'ब चौअन्नी मैको हम निकाल हैं...!!

 संगमरमर की चट्टानों, को शिल्पी मूर्ती में बदल देता , सोचता शायद यही बदलाव उसकी जिन्दगी में बदलाव लाएगा. किन्तु रात दारू की दूकान उसे खींच लेती बिना किसी भूमिका के क़दम बढ जाते उसी दूकान की ओर  जिसे आम तौर पर कलारी कहा जाता है. कुछ हो न हो सुरूर राजा सा एहसास दिला ही देता है. ये वो जगह है जहाँ उन दिनों स्कूल कम ही जाते थे यहाँ के बच्चे . अब जाते हैं तो केवल मिड-डे-मील पाकर आपस आ जाते हैं . मास्टर जो पहले गुरु पदधारी होते थे जैसे माडल स्कूल वाले  बी०के0 बाजपेई, श्रीयुत ईश्वरी प्रसाद तिवारी,  मेरे निर्मल चंद जैन, मन्नू सिंह चौहान, आदि-आदि, अब गुरुपद किसी को भी नहीं मिलता बेचारे कर्मी हो गये हैं. शहपुरा स्कूल वाले  फतेचंद जैन  मास्साब , सुमन बहन जी रजक मास्साब,  सब ने खूब दुलारा , फटकारा और मारा भी पर सच कहूं इनमें गुरु पद का गांभीर्य था  अब जब में किसी स्कूल में जाता हूँ जीप देखकर वे बेचारे शिक्षा कर्मी टाइप के मास्साब  बेवज़ह अपनी गलती छिपाने की कवायद मी जुट जाते. जी हाँ वे ही अब रोटी दाल का हिसाब बनाने और सरपंच सचिव की गुलामी करते सहज ही नज़र आएँगे आपको ,गाँव की सियासत यानी "मदारी" उनको बन्दर जैसा ही तो नचाती है. जी हाँ इन्ही कर्मियों के स्कूलों में दोपहर का भोजन खाकर पास धुआंधार में कूदा करतें हैं ये बच्चे, आज से २०-२५ बरस पहले इनकी आवाज़ होती थी :-"सा'ब चौअन्नी मैको हम निकाल हैं...!!" {साहब, चार आने फैंकिए हम निकालेंगें } और सैलानी वैसा ही करते थे , बच्चे धुआंधार में छलाँग लगाते और १० मिनट से भी कम समय में वो सिक्का निकाल के ले आते थे , अब उनकी संतानें यही कर रही है....!! फ़र्क़ बस इतना है कि पांच रुपए वाले सिक्के की उम्मीद में धुंआधार में छलांग लगाते हैं .
  इन्हीं में से  एक बच्चे ने मुझे बताया-"पापा दारू पियत हैं,अम्मा मजूरी करत हैं, मैने उससे सवाल किया था - तुम क्या स्कूल नहीं जाते ....?
उत्तर मिला- जात हैं सा'ब नदी में कूद के ५/- सिक्का कमाते हैं....?
शाम को अम्मा कौं दे देत हैं.
कित्ता कमाते हो...?
२५-५० रुपैया और का...?
        तभी पास खडा शिल्पी का दूसरा बेटा बोल पडा-"झूठ बोल रओ है दिप्पू जे पइसे कमा कै तलब [गुठका] खात है.पिच्चर सुई जात है..?
 मेरी मुस्कुराहट को देख सित्तू बोला- साब, हम स्कूल जात हैं खाना उतई खात हैं.
Yashbharat jabalpur 02/12/12
 मैं - फ़िर क्या करते हो..
सित्तू : फ़िन का इतई आखैं (आकर) नरबदा नद्दी पढ़त हैं और का !
        दिप्पू, सित्तू, गुल्लू सब नदी पढते हैं. नदी तो युगयुगांतर से पढ़ी जा रही है. बेगड़ जी तो निरंतर बांच रहे हैं नर्मदा .. पर ये नौनिहाल जिस तरह से बांच रहे हैं एकदम अलग है तरीक़ा.
        मित्रो, बेफ़िक्र न रहें दूर से आता दिखाई देने वाला कल इन अल्प-शिक्षितों से भरी भीड़ वाला कल है. ध्यान से सुनो इनके हाथों में सुविधा भोगियों के खिलाफ़ सुलगती मसालें होंगी ये इंकलाब बुलंद करेंगें. कल तब आप किसी भी सूरत उनको रोक पाने में असफ़ल रहेंगे. धुंआधार में कूदते बच्चों को रोकिये. स्कूल भिजवा दीजिये न.. अभी भी समय है.
   

सोमवार, नवंबर 19

खन्नात की नरबदिया आर्मो


नरबदिया आर्मो
मां दुर्गा की तस्वीर
बनाते हुए 
4 दिसम्बर 2012 को ब्रिसडन आस्ट्रेलिया में जन्में निक वुजिसिस  का जीवन सबसे सम्पन्न जीवन कहा जाए तो ग़लत नहीं है. निक वुजिसिस  विश्व का वो बेहतरीन हीरा है जिसे तराशने का काम ईश्वर ने खुद निक में आक़र किया. इस तथ्य की पुष्टि आप life without limbs http://www.lifewithoutlimbs.org पर जाकर कर सकते हैं. करंजिया जनपद के ग्राम खन्नात की नरबदिया आर्मो का शरीर भी निक की तरह ही भगवान ने बनाया है. बाइस साल की नरबदिया को भी ईश्वर ने खुद ब खुद तिल खिसकने के क़ाबिल नहीं बनाया  जैसे के निक को न तो हाथ ही दिये हैं और न ही ऐसे पैर जो शरीरी-मशीन के लिये ज़रूरी हुआ करते हैं. 
  दौनों का जीवन प्रेरणाओं से अटा पड़ा है. सर्वांगयुक्त अच्छी कद-काठी, रंग-रूप, वाले किसी भी व्यक्ति को यदि उसका चाहा हुआ हासिल नहीं हो पाता फ़ौरन वो भगवान के सामने यही सवाल करता-"भगवान ये क्या किया तुमने ."
पर ये दौनों अभाव के बाबज़ूद आत्मिक रूप से आस्था वान हैं ईश्वर के प्रति कृतग्यता व्यक्त करतें हैं. निक क्रिश्चियनीटी के प्रचारक एवम  प्रेरक वक्ता हैं. जब बोलतें हैं तो देवदूत से नज़र आते हैं. भावुक तो बरस पड़ते हैं.  जबकि करंजिया जनपद के ग्राम खन्नात की नरबदिया आर्मो मुंह में पेन की रिफ़िल फ़ंसा कर चित्रकारी करती है. बेटी बचाओ अभियान के तहत जब डिंडोरी जिले में "डिंडोरी-की बेटी" सम्मान देने के लिये बेटियों को तलाशा जा रहा था  तब कलेक्टर श्री मदन कुमार जी को  नरबदिया आर्मो के बारे में जानकारी हासिल हुई. महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों को सौंपी गई इस बिटिया को "डिंडोरी की बेटी" अलंकरण से अलंकृत करने की. 


     18.11.2012 को पशुपालन एवम अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री श्री अजय बिश्नोई जी, प्रभारी मंत्री श्री देवसिंह सैयाम, पूर्व केंद्रीय मंत्री एवम राज्य सभा सदस्य श्री सांसद श्री फ़ग्गन सिंह कुलस्ते, विधायक श्री ओमकार सिंह मरकाम, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री ओम प्रकाश धुर्वे, एड. विवेक तनखा,आफ़िसर कमांड लखनऊ अनिल चैत एवम मध्य-भारत के आफ़िसर  कमांड के साथ   कलेक्टर श्री मदन कुमार, एस पी आर के अरूसिया, सी.ई. ओ. श्री सोनी की उपस्थिति में अलंकृत किया गया.
  महिला बाल विकास विभाग नरबदिया आर्मो की रुचि के अनुरूप चित्रकारी के लिये ज़रूरी सहयोग बेटी बचाओ अभियान के तहत उपलब्ध कराता रहेगा."अगर नरबदिया को उनके परिवेश में रखकर ही चित्रकारी के लिये संसाधन उपलब्ध होते रहेंगे तो तय है कि वे कीर्तीमान स्थापित करेंगी."

     
यशभारत जबलपुर

मंगलवार, नवंबर 13

मेरी चादर मेरे पैरों के बराबर कर दे ..!!

                                           
                                 किश्तें कुतरतीं हैं हमारी जेबें लेकिन कभी भी हम ये सोच नहीं पाते कि काश कि हमारे पांव के बराबर हमारी चादर हो जाये जगजीत सिंह की एक ग़ज़ल जिसका ये शेर सबकी अपनी कहानी है.... 
और कुछ भी मुझे दरकार नहीं है लेकिन
मेरी चादर मेरे पैरों के बराबर कर दे ..!!
साभार : रानीवाड़ा न्यूज़
     पर क्या लुभावने इश्तहारों पर आश्रित बेतहाशा दिखा्वों के पीछे भागती दौड़ती हमारी ज़िंदगियां खुदा से इतनी सी दरकार कर पातीं हैं........ न शायद इससे उलट. जब भी खु़दा हमारी चादर हमारे पैरों के बराबर करता है फ़ौरन हमारा क़द बढ़ जाता है. यानी कि बस हम ये सिद्ध करने के गुंताड़े में लगे रहते हैं कि हम किसी से कमतर नहीं .
    बया बा-मशक्कत जब अपना घौंसला पूरा कर लेती है तो सुक़ून से निहारती है.. मुझे याद है उनकी हलचल घर के पीछे जब वो खुश होकर चहचहाती थी.  तेज़ हवाएं  भी उसके घौंसले को ज़ुदा न कर पाते थे आधार से... ! 
वो सुक़ून तलाशता हूं घर बनाने वालों में........ दिखाई नहीं देता. अपने चेहरों पर अपने मक़ान को घर बनाने वाला भाव आना चाहिये जो बया के चेहरे पर नज़र आता है हां वो भाव  जो दिखता नहीं हमारे चेहरों पर जो भी कुछ है सब आर्टिफ़ीशियल .. जैसे बलात कोई मुस्कुराहट हमारे लबों पे चस्पा किये जाता हो.. या मुस्कुराहटें हमारी मज़बूरियां हों. 
    तिनका तिनका तलाशती बया खूबसूरत घर बनाती तब से मुझे (आपको भी) लुभाती होगी  किया कभी आपने. पर एक नातेदार के घर पर बुलाया हमको गृह-प्रवेश जो था.. चेहरे पर उनके  बया वाले भाव की तलाश अचानक तब थमी जब गृह स्वामी ने कहा -"बीस बरस चलेंगी किश्तें.."
यानी बीस बरस तक वो आभासी मालिक-ए-मक़ान होगा.. किश्तों के साथ हौले हौले स्वामित्व का  एहसास पैकर (मूर्त होगा) होगा. तब तक एक तनाव होगा उसके मानस पर जो देगा बीमारियां.. शुगर.. हार्ट.. हां कभी कभार  हंसेगा ज़रूर भवन स्वामी परंतु  कृत्रिम तौर पर.
           कर्ज़ के मक़ान, कर्ज़ का सामान, कर्ज़ की ज़िंदगी   जो किश्तों में मुस्कुराती है..आज़ाद भारत के हम भारतीय अमेरिकियों की मानिंद खोखले धनवान होने की क़गार पर हैं..!
क्रेडिट के विस्तार ने अमेरिका को ज़मीन दिखा दी लेकिन हमारे देश में आने वाले दस वर्षों में क्रेडिट का यह  भयावह खेल पाताल दिखाएगा. काश हम इस लापरवाह अर्थ व्यवस्था और अपनी बेलगाम लालच पर लग़ाम न कस सके तो तय है कि कल बहुत भयावह होगा....................
ताज़ा ताज़ा 18.11.2012
 यशभारत में यह आलेख


     
              

रविवार, नवंबर 11

मिसेज़ गुप्ता मुहल्लेवालों के साथ दीपावली मनाती हैं या..?


बात पिछली दीपावली की है। भूल गया था,  पर इस बार दीपावली की धूमधाम शुरू होते ही याद आ गई।
त्योहार की धूमधाम भरी तैयारियों में पिछले साल श्रीमती गुप्ता ने ढेरों पकवान बनाए सोचा मोहल्ले में गज़ब का प्रभाव जमा देंगी।  बात ही बात में गुप्ता जी को ऐसा पटाया की यंत्रवत श्री गुप्ता ने हर वो सुविधा मुहैय्या कराई जो एक वैभवशाली दंपत्ति को को आत्म प्रदर्शन के लिए ज़रूरी थी। “माडल” जैसी दिखने के लिए श्रीमती गुप्ता ने साड़ी ख़रीदी और गुप्ता जी को कोई तकलीफ न हुई। 
घर को सजाया सँवारा गया,  बच्चों के लिए नए कपड़े बने। कुल मिलाकर यह कि दीपावली की रात पूरी सोसायटी में गुप्ता परिवार की रात होनी तय थी। चमकेंगी तो गुप्ता मैडम, घर सजेगा तो हमारे गुप्ता जी का, सलोने लगेंगे तो गुप्ता जी के बच्चे, यानी ये दीवाली केवल गुप्ता जी की होगी ये तय था।
             समय घड़ी के काँटों पे सवार दिवाली की रात तक पहुँचा,  सभी ने तयशुदा मुहूर्त पर ही पूजा की गई। उधर सारे घरों में गुप्ता जी के बच्चे प्रसाद (आत्मप्रदर्शन)  पैकेट बांटने निकल पड़े । जहाँ भी वे गए सब जगह वाह वाह के सुर सुन कर बच्चे अभिभूत थे किंतु भोले बच्चे इन परिवारों के अंतर्मन में धधकती ज्वाला को न देख सके। ईर्ष्यावश सुनीति ने सोचा बहुत उड़ रही है प्रोतिमा गुप्ता, क्यों न मैं उसके भेजे प्रसाद-बॉक्स दूसरे बॉक्स में पैक कर उसे वापस भेज दूँ, यही सोचा मुहल्ले क़ी बाकी सभी महिलाओं ने और नई पैकिंग में पकवान-मिठाइयां वापस रवाना कर दिए गये श्रीमती गुप्ता के घर। यह कोई संगठित कोशिश न थी.  केवल बदले की भावना बल्कि एक स्वाभाविक आंतरिक प्रतिक्रया थी, जो सार्व-भौमिक सी होती है। आज़कल आम है। कोई माने या न माने सच यही है जितनी नकारात्मक कुंठा इस युग में है उतनी किसी युग में न तो थी और न ही होगी । इस युग का यही सत्य है।
               दूसरे दिन श्रीमती गुप्ता ने जब डब्बे खोले तो उनके आँसू निकल पड़े जी में आया कि सभी से जाकर झगड़ आऐं किंतु पति से कहने लगीं, ”अजी सुनो चलो ग्वारीघाट गरीबों के साथ दिवाली मना आएँ।
     बात बीते बरस की है पता नहीं इस बरस क्या होगा.  मिसेज़ गुप्ता मुहल्लेवालों के साथ दीपावली मनाती हैं या ग्वारीघाट के गरीबों की उन्हें दुबारा याद आती है।

शनिवार, नवंबर 3

शब्दों के हरकारे ने जिस जबलपुर को पढ़ाया उसी जबलपुर ने बिसराया : संदर्भ स्व. तिरलोक सिंह

                          एक व्यक्तित्व जो अंतस तक छू गया है । उनसे मेरा कोई खून का नाता तो नहीं किंतु नाता ज़रूर था । कमबख्त डिबेटिंग गज़ब चीज है बोलने को मिलते थे पाँच मिनट पढ़ना खूब पड़ता था यही तो कहा करतीं थीं मेरी प्रोफ़ेसर राजमती दिवाकर  । लगातार बक-बकाने के लिए कुछ भी मत पढिए ,1 घंटे बोलने के लिए चार किताबें , चार दिन तक पढिए, 5 मिनट बोलने के लिए सदा ही पढिए, . सो मैं भी कभी जिज्ञासा बुक डिपो तो कभी पीपुल्स बुक सेंटर , जाया करता था। पीपुल्स बुक सेंटर में अक्सर तलाश ख़त्म हों जाती थी, वो दादा जो दूकान चलाते थे मेरी बात समझ झट ही किताब निकाल देते थे। मुझे नहीं पता था कि उन्होंनें जबलपुर को एक सूत्र में बाँध लिया है।आज़ के  नामचीन और गुमनाम  लेखकों को कच्चा माल वही सौंपते है इस बात का पता मुझे तब चला जब पोस्टिंग  वापस जबलपुर हुयी। दादा का अड्डा प्रोफेसर हनुमान वर्मा जी का बंगला था। वहीं से दादा का दिन शुरू होता सायकल,एक दो झोले किताबों से भरे , कैरियर में दबी कुछ पत्रिकाएँ , जेब में डायरी, अतरे दूसरे दिन आने लगे मलय जी के बेटे हिसाब बनवाने,आते या जाते समय मुझ से मिलना न भूलने वाले व्यक्तित्व ..... को मैंने एक बार बड़ी सूक्ष्मता से देखा तो पता चला दादा के दिल में भी उतने ही घाव हें जितने किसी युद्धरत सैनिक के शरीर,पे हुआ करतें हैं।
कर्मयोगी कृष्ण सा उनका व्यक्तित्व, मुझे मोहित करने में सदा हे सफल होता.....स्व. ठाकुर दादा,इरफान,मलय जी,अरुण पांडे,जगदीश जटिया,रमेश सैनी,के अलावा,ढेर सारे साहित्यकार के घर जाकर किताबें पढ़वाना तिरलोक जी का पेशा था। पैसे की फिक्र कभी नहीं की जिसने दिया उसे पढ़वाया , जिसके पास पैसा नहीं था या जिसने नही दिया उसे भी पढवाया । कामरेड की मास्को यात्रा , संस्कार धानी के साहित्यिक आरोह अवरोहों , संस्थाओं की जुड़्न-टूटन को खूब करीब से देख कर भी दादा ने इस के उसे नहीं कही। जो दादा के पसीने को पी गए उसे भी कामरेड ने कभी नहीं लताडा कभी मुझे ज़रूर फर्जी उन साहित्यकारों से कोफ्त हुई जिनने दादा का पैसा दबाया ।
कई बार कहा " दादा अमुक जी से बात करूं...?
रहने दो ..क्या ज़रूरत है इस सबकी ...?
यानी गज़ब का धीरज ।

               तिरलोक सिंह पर कम लिखे जाने उनकी चर्चा न होने का दर्द अरुण पांडे के सीने में भी पल रहा है तो ज्ञानरंजन जी का मानना है- "ये सच है कि तिरलोक सिंह के बारे में हमें निरंतर कार्य करने की ज़रूरत है  तिरलोक सिंह के अवदान को न तो शहर का कोई साहित्यकार भूल सकता न ही मेरे बच्चे पाशा और बुलबुल जिनको तिरलोक जी ने अच्छी अच्छी पुस्तकें दीं थी. अब तो न तिरलोक हैं न ही उनका विकल्प जो पूरे शहर के एक सूत्र में जोड़े. कृतज्ञता तो सर्वकालिक होती है भले वह किसी आयोजन के स्वरूप में हो या न हो पर हृदय में  कृतज्ञता भाव सतत होना चाहिये."
                 आज़ के दौर में  कृतज्ञता के भाव रखने वाले लोग कम ही हैं. जो हैं उन पर काम का दबाव अधिक है पर इसके मायने ये नहीं कि तिरलोक सिंह को याद न किया जाए. स्मृति-प्रवाह सतत जारी रहे.सबको याद करते रहना होगा शब्दों के हरकारे को  शहर को उनके बारे में सतत चिंतन करते रहना  चाहिये . 
  उनके जीवन काल में कटनी में हमने एक स्मारिका "शब्दों का हरकारा" प्रकाशित की थी तिरलोक जी को सराहने लगभग पांच सौ से अधिक लोग एकत्र हुए थे. 
          दिनेश अवस्थी ने अपनी टिप्पणी मुझे फ़ोन पर कुछ यूं दर्ज़ कराई-"एक तो दादा हमारे लिये साहित्य लाते थे दूसरा उनकी उपस्थिति पत्नि-बच्चों से संवाद एक विशाल परिवार के भाव की प्रस्तुति हुआ करती  थी . उनका न होना सच एक अपूरणीय नुकसान है "    
यशभारत .11.11.12 
                     सूरज राय "सूरज" ने अपने ग़ज़ल संग्रह के विमोचन के लिए अपनी मान के अलावा मंच पे अगर किसी से आशीष पाया तो वो थे :"तिरलोक सिंह जी "। इधर मेरी सहचरी ने भी कर्मयोगी के पाँव पखार ही लिए। हुआ यूँ कि सुबह सवेरे दादा मुझसे मिलने आए किताब लेकर आंखों में दिखना कम हों गया था,फ़िर भी आए पैदल पैदल और अपने साथ लाए  सड़क को शौचालय बनाकर गंदगी फैलाने वाले का मल जो उनके सेंडिल में..सना था.  मेन गेट से सीढियों तक गंदगी के निशान छपाते ऊपर आ गए दादा. अपने आप को अपराधी ठहरा रहे थे जैसे कोई बच्चा गलती करके सामने खडा हो. इधर मेरा मन रो रहा था कि इतना अपनापन क्यों हो गया कि शरीर को कष्ट देकर आना पड़ा दादा को .संयुक्त परिवार के कुछ सदस्यों को आपत्ति हुयी की गंदगी से सना बूढा आदमी गंदगी परोस गया गेट से सीढ़ी तक . सुलभा के मन में करूणा ने जोर मारा . उनके पैर धुलाने लगी . मानव धर्म के आधार में करुणा का महत्त्व सुलभा से बेहतर कौन समझ पाया होगा तब. . तिरलोक जी का आशीर्वाद लेकर सुलभा ने जाने कितना कुछ हासिल किया मुझे नहीं मालूम . मेरे और अन्य साहित्यकारों के बीच के सेतु तिरलोक जी फिर एकाध बार ही आए अब तो बस आतीं हैं उनकी यादें दस्तक देने मन के दरवाजे तक ऐसा सभी साथी महसूस करते हैं.