गुरुवार, जून 16

“दाम्पत्य जीवन में यौन सम्बन्ध एवं संबंध सुखी दाम्पत्य जीवन के सूत्र...!”


मनुष्य के जीवन में बुद्धि एक ऐसा तत्व है जो कि विश्लेषण करने में सक्षम है। बुद्धि अक्सर मानवता और व्यवस्था के विरुद्ध ही सर्वाधिक सक्रिय होती है।

      मनुष्य के जीवन में बुद्धि एक ऐसा तत्व है जो कि विश्लेषण करने में सक्षम है। बुद्धि अक्सर मानवता और व्यवस्था के विरुद्ध ही सर्वाधिक सक्रिय होती है।

       बुद्धि निष्काम और सकाम प्रेम के साथ-साथ मानवीय आवश्यक भावों पर साम्राज्य स्थापित करने की कोशिश करती है।    

भारतीय दर्शन को मुख्यतः दो भागों में महसूस किया जाता है...

1.  भारतीय जीवन दर्शन

2.  भारतीय अध्यात्मिक दर्शन

           जीवन दर्शन में आध्यात्मिकता का समावेशन तय किया जाना चाहिए . जो लोग ऐसा कर पाते हैं उनका जीवन अद्भुत एवं मणिकांचन योग का आभास देता है। इसी तरह अध्यात्मिक दर्शन में भी सर्वे जना सुखिनो भवंतु का जीवन दर्शन से उभरा तत्व महत्वपूर्ण एवं आवश्यक होता है।

      परंतु बुद्धि ऐसा करने से रोकती है। बहुत से ऐसे अवसर होते हैं जब मनुष्य प्रजाति आध्यात्मिकता और अपनी वर्तमान कुंठित जीवन परिस्थितियों को समझ ही नहीं पाती। परिणाम परिवारिक विखंडन श्रेष्ठता की दौड़ और कार्य करने का अहंकार मस्तिष्क को दूषित कर देता है।

    अर्थ धर्म काम जीवन के दर्शन को आध्यात्मिकता से जोड़कर अद्वितीय व्यक्तित्व बनाने में लोगों को मदद करते हैं। परंतु मूर्ख दंपत्ति अपने कर्म को अहंकार की विषय वस्तु बना देते हैं। वास्तविकता यह है कि व्यक्ति भावात्मक रूप से ऐसा नहीं करता बल्कि व्यक्ति अक्सर बुद्धि का प्रयोग करके वातावरण को दूषित कर देते हैं।

    हमारी शिक्षा प्रणाली में नैतिक चरित्र की प्रधानता समाप्त हो चुकी है। अगर मेरी उम्र एक दिन  से 75 वर्ष तक की है तो बेशक में इसी प्रणाली का हिस्सा हूं ।

    वर्तमान में दांपत्य केवल किसी नाटक से कम नहीं लगता। जिसे देखे वह यह कहता कहता है कि हम अपने बच्चों के विचारों को दबा नहीं सकते।ये बिंदु  परिवारिक विखंडन का मार्ग हैं।

   अधिकार अधिकारों की व्याख्या अधिकार जताना यह बुद्धि ही सिखाती है। जोकि मन ऐसा नहीं करता मन सदैव प्रेम और विश्वास के पतले पतले धागों से बना हुआ होता है। परंतु जब आप नित्य अनावश्यक आरोप मानसिक हिंसा के शिकार होते हैं और दैनिक दैहिक एवं सामान्य आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए स्वयं को असफल पाते हैं तब मानस विद्रोही हो जाता है।

    ऐसी घटनाएं अक्सर घटा करती हैं। अब तो पति पत्नी का एक साथ रहना भी केवल दिखावे सोशल इवेंट बन चुका है। यह सब बुद्धि के अत्यधिक प्रयोग से होता है। एक विरक्ति भाव मनुष्य के मस्तिष्क में चलने लगता है। बुद्धि अक्सर तुलना करती है और बुद्धि साबित कर देती है कि आपने जो आज तक किया है वह त्याग की पराकाष्ठा है।

    यही भ्रम जीवन को दुर्भाग्य की ओर ले जाता है।हम अक्सर सुनते रहते हैं... "मैंने आपके लिए यह किया... मैंने आपके लिए वो किया..!" ऐसा कहने वाला कोई भी हो सकता है पत्नी पति भाई-बहन मित्र सहयोगी कोई भी यह वास्तव में वह नहीं कह रहा होता है बल्कि उसकी बुद्धि के विश्लेषण का परिणाम है।

  इस विश्लेषण के फलस्वरुप परिवार और संबंधों में धीरे-धीरे दूरियां पनपने लगती है। यही होता है जीवन का वह समय जिसे आप कह सकते हैं- "यही है अहंकार की अग्नि में जलता हुआ समय..!"

    भारत के मध्य एवं उच्च वर्गीय परिवारों में नारी स्वातंत्र्य एक महत्वपूर्ण घटक बन चुका है। मेरे एक मित्र कहते हैं वास्तव में अब विवाह संस्था 6 माह तक भी चल जाए तो बड़ी बात है। बेशक ऐसा दौर बहुत नजदीक नजर आता है। कारण जो भी हो.... नारी स्वातंत्र्य की उत्कंठा समाज को अब एकल परिवारों से भी वंचित करने में मैं पीछे नहीं रहेगी। नारी की मुक्ति गाथा और मुक्ति गीत अब सर्वोपरि है। नारी स्वातंत्र्य और नारी सशक्तिकरण में जमीन आसमान का फर्क है।

     मेरे मित्र ने बताया कि वह बेहद परेशान है। क्योंकि उसकी पत्नी जब मन चाहता है तभी यौन संबंध स्थापित करती है, अन्यथा कोई ना कोई बहाना बनाकर उसे उपेक्षित करती है।विवाह संस्था में यौन संबंध अत्यावश्यक घटक होते हैं. इसके अलावा सामान्यत: परिवार में ऐसा कुछ नहीं होता जो विखंडन के का कारण बने।दाम्पत्य जीवन में यौन संबंधों का महत्व भी अनदेखा नहीं किया जा सकता . भारतीय जीवन दर्शन के सन्दर्भ में देखा जावे तो यद्यपि आदर्श रूप से परस्पर यौन-सम्बन्ध अति महत्वपूर्ण नहीं पर व्यवहारिक रूप में इसे महत्व मिलता है. वर्तमान महानगरीय जीवन शैली को देखा जावे तो यौन-आकांक्षाएं अब टेबू न होकर बहुत विस्तारित हो चुकीं हैं . अब यौन सुख के लिए नित नए प्रयोग सामने आ रहे हैं. विवाह की आयु का निर्धारण तो कानूनी रूप से सुनिश्चित होना अपनी ज़गह है, पर यौन संबंधों की उम्र का निर्धारण असंभव सा है .         

   यहां पति एक दिन इस तरह की स्थिति की कैफियत मांगता है। परंतु वह महिला बुद्धि का प्रयोग करते हुए अपने आप को कभी अत्यधिक काम के दबाव या कभी अस्वस्थता का हवाला देकर सहयोग नहीं करती। मेरा मित्र इस तकलीफ को अलग तरीके से परिभाषित करता है मित्र के मन में विभिन्न प्रकार के विचार उत्पन्न होते हैं जैसे यह की पत्नी उसे अब तक पूर्ण तरह स्वीकार नहीं कर पाई होगी उसने कोई बहुत बड़ा अपराध किया है अन्य किसी प्रकार की युक्तियों का सहारा लेकर जीवन यापन कर रही है।

         बात 30 वर्ष के विवाहित जीवन के विघटन तक की स्थिति पर पहुंच गई।यह सब स्वाभाविक है ऐसे विचार आना अवश्यंभावी है। मित्र को समझाया गया परंतु यह बात तय हो गई कि मित्र मानसिक रूप से आप दांपत्य के प्रति उपेक्षा का व्यवहार रखने लगा। यह घटना लगभग 15 वर्ष पूर्व की है। विरक्त भाव से वह केवल एक यंत्र की तरह कार्य करता है। घर की जरूरतों को सामाजिक परिस्थितियों को देखते हुए केवल पुरुषार्थ के बल पर निभाता है परंतु प्रतिदिन वही जली कटी बातें ऐसा नहीं तो क्या हैऐसा हिंसक दांपत्य कभी ना कभी विरक्ति और उपेक्षा में बदल जाता है।

   उपरोक्त संपूर्ण परिस्थिति का कारण केवल और केवल बुद्धि का नकारात्मक विश्लेषक के रूप में उभरना है। मन पर जितना नियंत्रण जरूरी है उससे ज्यादा जरूरी है बुद्धि पर सदैव सत्य के अंकुश को साध कर रखना। और यह कोई भी व्यक्ति कर सकता है। ऐसी स्थिति को देखकर मुझे तो लगता है कि वह महिलामहिला होने का प्रिविलेज चाहती है।

   हाल ही में एक प्रतिष्ठित गायक के साथ यही घटनाक्रम हुआ। एक क्रिकेट प्लेयर भी इस समस्या से जूझ रहा है।

   आलेख का आशय यह नहीं कि केवल महिला ही दोषी है बल्कि यह बताना है कि बुद्धि के अतिशय प्रयोग एवं स्वतंत्रता की अनंत अभिलाषा भारतीय पारिवारिक व्यवस्था को छिन्न-भिन्न कर रही है चाहे विक्टिम पति हो अथवा पत्नी । अधिकांश मामलों में दोष प्रमुखता से महिलाओं का ही सामने आया है जो दांपत्य जीवन के महत्वपूर्ण बिंदु यौन संबंध के प्रति विरक्त होती है अथवा परिस्थिति वश अन्यत्र संलग्न होती हैं। यहां यह भी आरोप नहीं है कि केवल यही कारण हो बल्कि यह भी खुले तौर पर स्वीकार लिया जाना चाहिए कि बेमेल विवाह बहुत दूर तक नहीं चलते हैं। अगर चलते भी हैं तो एक आर्टिफिशियल स्थिति के साथ।

   

कोई टिप्पणी नहीं:

Wow.....New

Ukrainian-origin teenager Carolina Proterisco

  Ukrainian-origin teenager Carolina Proterisco has been in the hearts and minds of music lovers around the world these days. Carolina Prote...

मिसफिट : हिंदी के श्रेष्ठ ब्लॉगस में