सच है दुनिया वालो कि हम हैं अनाड़ी...!

" सच है दुनिया वालो कि हम हैं #अनाड़ी"
😢😢😢😢😢😢
जो भी व्यक्ति आर्यों को बाहर से आया हुआ साबित करेगा उसे जयपुर डायलॉग के सीईओ संजय दीक्षित रिटायर्ड आईएएस दो करोड़ की राशि देंगे। तो आइए  जानते हैं क्या आर्य विदेशों से आए थे...?
💐💐💐💐💐💐
आज भारत आए थे इस मुद्दे पर एक लंबी बहस चल रही है किंतु अभी तक एनसीईआरटी की किताबों से यह सिद्ध हो जाने के बावजूद की आर्य भारत के ही मूल निवासी थे तथा उनका डीएनए पूर्व पश्चिम उत्तर दक्षिण समान रूप से मैच करता है ।
   ब्रिटिश कालखंड  में यह सिद्धांत प्रतिपादित किया कि 1500 वर्ष ईसा पूर्व आर्यों का आगमन हुआ और उन्होंने वेदों की रचना की और उन्होंने भारत के मूलनिवासी लोगों को अपमानित किया उन्हें स्लेवरी करने को मजबूर किया इस तरह से एक अशुद्ध सिद्धांत का प्रतिपादन कर फूट डालने का काम ब्रिटिश सरकार की सहमति के अनुसार हुआ है।
आर्यों के आगमन के संबंध में एक प्रश्न आपके समक्ष भी रखता हूं
[  ] अगर आर्य 3500 वर्ष पूर्व अर्थात ईसा के 1500 वर्ष पूर्व भारत आए थे और उन्होंने संस्कृत में वेदों,संहिताओं, उपनिषदों ब्राह्मण आरण्यकों का लेखन किया।  लेखन का काल हम ईशा के 1500 वर्ष पूर्व निर्धारित कर भी लेते हैं तो उस सरस्वती नदी के संबंध में क्या जवाब होगा जो बताए गए 1500 साल पूर्व के भी 2000 साल पहले विलुप्त हो गई। अर्थात यह एक अशुद्ध एवं तथ्यहीन भ्रामक थ्योरी है। जिसकी पुष्टि अब तक नहीं हुई है परंतु इस आधार पर किताब में लिखी जा चुकी है।
[  ] संविधान सभा के अध्यक्ष डॉक्टर भीमराव अंबेडकर भी इस तथ्य के समर्थक नहीं थे
[  ] उपलब्ध जानकारी के आधार पर यह कहा गया है कि वेदों का रचनाकाल 14500 से 10500 ईसा पूर्व किया गया था। सब सरस्वती नदी अस्तित्व में रही है
[  ] मैक्स मूलर द्वारा इस थ्योरी विकसित करने का उद्देश्य मात्र भाषा नस्ल के आधार पर विभाजन कर एक व्यवस्थित व्यवस्था को दूषित करना था इसके पीछे उनका संप्रदायिक उद्देश्य भी शामिल है ।
[  ] अनाड़ी ( नीरज अत्री जी से साभार Niraj Atri  ) शब्द का अर्थ आप समझेंगे तो आपको आर्यों के संबंध में समझ बढ़ सकती है। आर्य का अर्थ एक विशेषण है अर्थात हे आर्य अर्थात हे सुविज्ञ और यह शब्द एक संबोधन है जो ऋग्वेद में 33 बार प्रयोग किया गया है। हालांकि मैंने इसकी कोई गिनती नहीं की है परंतु स्रोत यही कहते हैं अब जो सुविज्ञ हैं वे आर्य हैं और जो अभी दिया उस ज्ञान से वंचित है वह अनार्य है अर्थात अनाड़ी है अनाड़ी शब्द का अर्थ अनार्य से ही संबंधित है देशज भाषा में अनार्य को अनाड़ी कहा गया है। हो सकता है कि विद्वान इतिहासकार इसे अस्वीकार कर दें परंतु  भाषाई धरातल पर यही सत्य है। आर्य का संबोधन कर देना मात्र एक जाति का उत्पन्न हो जाना नहीं है। और वह भी इस हद तक कि समाज में विघटन की स्थिति भी पैदा हो सके !
[  ]  मैक्स मूलर ने पूरी प्लानिंग के साथ सबसे पहले वेद का ट्रांसलेशन किया ट्रांसलेशन करने के उपरांत औसत भारतीय को कॉन्फिडेंस में लिया तत्सम कालीन व्यवस्था को कॉन्फिडेंस में लिया और महामहिम मोक्षमूलर की उपाधि से अलंकृत भी हुए। सुधि पाठक कृपया ध्यान दें कि यही वह मोक्ष मूलर साहब हैं जिन्होंने एक शांत निश्छल समाज का वर्गीकरण किया वर्गीकरण करके उनके बीच में एक अवधारणा डाली गई जिससे कि वे विक्टिम है और दूसरा पक्ष जो अधिक शक्तिशाली है वह उनका शोषण कर रहे हैं। अब आप बिन बुलाए मेहमान बन कर इस अवधारणा को विस्तारित करेंगे तो निश्चित रूप से वर्ग संघर्ष पैदा होगा। वाम मार्ग तथा धर्म का विस्तार करने वाली ताकतें इसी तरह के हथकंडे अपनाती हैं। यह एक ऐतिहासिक सत्य है और तथ्य भी।
[ फोटो आभार सहित Vishal Hans क्रिएटिव डायरेक्टर सिटी मुंबई ]

टिप्पणियाँ

मूलर आड़ी तिरछी व्याख्या किया है...