आर्यों को विदेशी बताना नस्लभेदी विप्लव की साजिश है...!

 चित्र गूगल से साभार
ब्रिटिश उपनिवेशवाद के कालखंड में जिस तरह से कांसेप्ट भारतीय जन के मस्तिष्क में डालने की कोशिश की गई उससे सामाजिक विखंडन एवं विप्लव की स्थिति स्थिति निर्मित हुई है। आर्य भारत के ही थे इस बात की पुष्टि के हजारों तथ्य हैं किंतु आर्य भारत में आए थे इसके कोई तार्किक उत्तर नहीं है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति में आर्य अनार्य अथवा दास जैसे शब्दों की व्याख्या भ्रामक एवं सामाजिक विघटन के लिए प्रविष्ट किया गया नैरेटिव है। इस सिद्धांत की स्थापना  के पीछे ब्रिटिश विद्वानों का उद्देश्य राजनीतिक विप्लव सामाजिक विघटन एवं भाषा तथा नस्ल भेद को बढ़ावा देना है।
     आर्यों की भारत आने का सिद्धांत सही साबित करने वाले को दो करोड़ का पुरस्कार
आज भारत आए थे इस मुद्दे पर एक लंबी बहस चल रही है किंतु अभी तक एनसीईआरटी की किताबों से यह सिद्ध हो जाने के बावजूद की आर्य भारत के ही मूल निवासी थे तथा उनका डीएनए पूर्व पश्चिम उत्तर दक्षिण समान रूप से मैच करता है ।
   ब्रिटिश कालखंड  में यह सिद्धांत प्रतिपादित किया कि 1500 वर्ष ईसा पूर्व आर्यों का आगमन हुआ और उन्होंने वेदों की रचना की और उन्होंने भारत के मूलनिवासी लोगों को अपमानित किया उन्हें स्लेवरी करने को मजबूर किया इस तरह से एक अशुद्ध सिद्धांत का प्रतिपादन कर फूट डालने का काम ब्रिटिश सरकार की सहमति के अनुसार हुआ है।
आर्यों के आगमन के संबंध में एक प्रश्न आपके समक्ष भी रखता हूं
[  ] अगर आर्य 3500 वर्ष पूर्व अर्थात ईसा के 1500 वर्ष पूर्व भारत आए थे और उन्होंने संस्कृत में वेदों,संहिताओं, उपनिषदों ब्राह्मण आरण्यकों का लेखन किया।  लेखन का काल हम ईशा के 1500 वर्ष पूर्व निर्धारित कर भी लेते हैं तो उस सरस्वती नदी के संबंध में क्या जवाब होगा जो बताए गए 1500 साल पूर्व के भी 2000 साल पहले विलुप्त हो गई। अर्थात यह एक अशुद्ध एवं तथ्यहीन भ्रामक थ्योरी है। जिसकी पुष्टि अब तक नहीं हुई है परंतु इस आधार पर किताब में लिखी जा चुकी है।
[  ] संविधान सभा के अध्यक्ष डॉक्टर भीमराव अंबेडकर भी इस तथ्य के समर्थक नहीं थे
[  ] आर्यों के भारत आने के सिद्धांत के पीछे जो अवधारणा है उसमें भाषा का समूह बनाकर उसे प्रस्तुत करना सबसे बड़ा षड्यंत्र है। जिसमें दक्षिण भारत की भाषाएं जो अधिक संस्कृतनिष्ठ को द्रविड़ भाषा समूह में रखा गया है जबकि दक्षिण भारतीय भाषाएं संस्कृत के सबसे नजदीकी भाषा है। और इनका विकास भी बड़े पैमाने पर भाषा विज्ञानियों ने संस्कृत के आधार पर ही किया है। उत्तर भारत की भाषा जिस समूह की प्रतिनिधित्व करती हैं अपेक्षाकृत कम संस्कृतनिष्ठ होने के बावजूद भी संस्कृत के बिल्कुल नजदीक रखी गई है।
[  ] उपलब्ध जानकारी के आधार पर यह कहा गया है कि वेदों का रचनाकाल 14500 से 10500 ईसा पूर्व किया गया था। सब सरस्वती नदी अस्तित्व में रही है
[  ] मैक्स मूलर द्वारा इस थ्योरी विकसित करने का उद्देश्य मात्र भाषा नस्ल के आधार पर विभाजन कर एक व्यवस्थित व्यवस्था को दूषित करना था इसके पीछे उनका संप्रदायिक उद्देश्य भी शामिल है
         

टिप्पणियाँ

बहुत बढ़िया। पूर्वाग्रह से प्रेरित लोगो का काम ही क्या है? अभी हाल ही में राखीगढ़ी में मिले कंकालों की डीएनए सैंपलिंग से आर्यों के आक्रमणकारी होने की थ्योरी को धक्का लगा है। जैसा कि सब लोग जानते है की वामपंथियों का दब दबा रहा है शिक्षा विभाग में आजादी के बाद से। इन्होने तो मानो गांजा फूंककर ही इतिहास लिखा हैं सिर्फ और सिर्फ अपनी जातिवादी राजनीति करने के लिए भले देश बर्बाद हो जा जाय।
बहुत-बहुत धन्यवाद प्रणाम करता हूं