हमास का इजरायल पर हमला क्या एक बड़ा बदलाव ला सकता है ?


.    
      हमास एक आतंकवादी संगठन है परंतु   इससे सुन्नी मुस्लिमों का सशस्त्र संगठन माना गया है। खाड़ी क्षेत्र में गाजा पट्टी में इसका बहुत अधिक प्रभाव है हमास का अरबी भाषा में अर्थ होता है हरकत अल मुकाबल इस्लामिया अर्थात इस्लामी प्रतिरोधक आंदोलन। हमास  का गठन सन 1987 में हुआ है और यह फिलिस्तीनी इस्लामिक राष्ट्रवाद से संबंधित है। विगत 10 मई 2021 को हम आज की रॉकेट लॉन्चरों से कुछ रॉकेट इजराइल में फेंके गए। तो आइए जानते हैं हम  क्या है हमास
  मुस्लिम उम्मा इस्लामिक ब्रदर हुड को बढ़ावा देने वाला एवं इस्लाम की रक्षा पंक्ति के रूप में स्वयं को प्रस्तुत करने वाला ऐसा संगठन है जिस की आधारशिला सन 1987 में रखी गई और यह संगठन एक 35 एकड़ की जमीन के लिए संघर्षरत है।  
      हमास को कनाडा यूरोपीय यूनियन इजराइल जापान और संयुक्त अमेरिका पूर्ण रूप से आतंकवादी संगठन मानते हैं जबकि ऑस्ट्रेलिया न्यूजीलैंड पैराग्वे यूनाइटेड किंगडम इसके सैन्य विंग को आतंकवादी संगठन करार देते हैं। इससे उलट ब्राजील चीन मिस्र ईरान  कतर रूस सीरिया और तुर्की इस संगठन को आतंकवादी संगठन नहीं मानते। वर्ष दिसंबर 2018 में मास्को आतंकवादी संगठन घोषित करने के प्रस्ताव को यूएनओ  द्वारा झटका लगा है।
इजराइल के दक्षिण पश्चिमी भाग में 6 से 10 किलोमीटर चौड़ी एवं 45 किलोमीटर लंबी क्षेत्र को गाजा पट्टी कहते हैं इस गाजा पट्टी पर इजराइल ने अपना अधिकार स्थापित कर लिया यह एक बड़ी लड़ाई के बाद निर्मित स्थिति है। जिसका प्रबंधन इसराइल ने सन 2005 में फिलिस्तीनी मुक्ति संगठन को सौंप दिया था। किंतु 2007 में हुए चुनाव में हमास संगठन द्वारा इस पर अपना हक साबित कर दिया। क्योंकि हमास की एक्टिविटी हमलावर प्रकृति की होने के कारण उसे एक आतंकवादी संगठन के रूप में देखा जाता है। 2008 से यहां संघर्षविराम लागू हुआ था हमास के द्वारा इससे पहले जो रॉकेट हमले किए गए उसके परिणाम स्वरूप लगभग 1300 लोगों के मारे जाने की सूचना है।  अब्राह्मिक धर्म के संस्थापक फादर इब्राहिम के संदेशों को 3 सेक्टर में बांटा गया है एक क्रिश्चियनिटी दूसरा यहूदी और तीसरा इस्लाम यह तीनों संप्रदाय आपस आज तक सामंजस्य स्थापित नहीं कर सकते हैं। इजराइल एक ऐसा राष्ट्र है जिसकी राजधानी यरूशलम है। इसकी भाषा हिब्रू और अरबी है इस देश में 46% यहूदी निवास करते हैं जबकि 19% अरबी और 5% अन्य अल्पसंख्यक समूह निवास करते हैं। बेंजामिन नेतनयाहू वर्तमान में यहां के प्रमुख है जबकि यहां राष्ट्रपति का पद भी है इजराइल का निर्माण विश्व भर में बस रहे यहूदी लोगों को बुलाकर 14 मई 1948 में किया गया वर्तमान में इस देश की जनसंख्या लगभग एक करोड़ है यहां मुद्रा शकील के नाम से जानी जाती है। यहूदी संप्रदाय को मानने वाले लोग इजराइल में पूरे विश्व से बुलवा कर बस आई गए हैं। इजराइल शब्द का अर्थ बाइबिल में प्राप्त होता है बाइबल के अनुसार फरिश्ते के साथ ही युद्ध लड़ने वाले जैकब को इसराइल कहा गया है और उसी के नाम पर इस राष्ट्र का नाम इजराइल पड़ा है। इजराइल एक बहुत छोटा सा राष्ट्र है लेकिन इसकी सामरिक शक्ति और इसकी रक्षात्मक क्षमता को कोई भी राष्ट्र नात नहीं पाया है।
यहूदियों तथा यहूदी राष्ट्र इजराइल को आज भी कई देश जैसे पाकिस्तान आदि ने मान्यता प्रदान नहीं की है। जबकि अरब देशों की बॉडी लैंग्वेज में कुछ परिवर्तन जरूर आया है। भारत के इजराइल से पहले भी सकारात्मक और बेहतर संबंधित है जो वर्तमान में भी जारी हैं लेकिन यासर अराफात के दौर में फिलिस्तीनी मुक्ति संगठन यानी पीएलओ के साथ भारत के आत्मीय संबंध होने की पुष्टि स्वर्गीय यासिर अराफात और स्वर्गीय इंदिरा जी के बीच सकारात्मक विचार विमर्श से होती रही है।
  भारतीय विदेश नीति की शुरू से विशेषता यह है कि भारत धर्म आधारित किसी भी अवधारणा को लेकर मित्रता या दुश्मनी का व्यवहार नहीं रखता बल्कि भारत के अंतरराष्ट्रीय संबंधों का आधार वैश्विक मानवतावादी दृष्टिकोण ही रहा है। भारत न केवल गुटनिरपेक्ष अवधारणा का प्रमुख केंद्र रहा है बल्कि भारत पंथनिरपेक्ष एवं धर्मनिरपेक्षता का प्रमुख केंद्र था है और रहेगा बावजूद इसके कि यह समझा जाता हो या समझाया जाता हो कि भारत एक ऐसी पार्टी के शासन में है जो राष्ट्रवादी है। भारत में राष्ट्रवाद की परिभाषा वह नहीं है जो कि अन्य देशों या शेष विश्व में परिलक्षित होती है।
इस वर्ष रमजान के मौके पर 7 मई शुक्रवार को अल अक्सा मस्जिद पर फिलिस्तीनीयों और पुलिस के बीच में झड़प हुई और धीरे-धीरे इस झड़प में एक बड़ा रूप ले लिया। दूसरी ओर एक मीडिया रिपोर्ट कहती है कि एक आतंकवादी अबू अल हता की मृत्यु हुई इसका एक कारण है ।
दिनांक 10 मई 2021 को हुए हमले के बाद इसराइल ने उग्र रूप धारण कर लिया है। इजराइल प्रशासन पर यह आरोप भी है कि इजरायल वेस्ट बैंक वाले उस क्षेत्र में जहां पर फिलिस्तीनी रहते हैं विशेष रूप से नकारात्मक दृष्टिकोण रखता है। बीबीसी की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इजराइल जूविनाइल्स को भी बिना किसी कारण बताएं बंधक बना लेता और उन्हें टॉर्चर किया जाता है। इसके उलट इजराइल का प्रशासन यह कहता है कि आईएसआईएस आतंकी गतिविधियों में बच्चों एवं किशोरों का इस्तेमाल करने की वजह से ऐसे कदम उठाए जाते हैं। वैसे इस्लामिक उग्रवाद द्वारा ऐसा ही  हथकंडा आपने कश्मीर में भी देखा होगा । 
     कहने को तो यरूशलम एक पवित्र धरती है और इस पवित्र धरती पर फादर अब्राहिम इसराइल और मोहम्मद साहब के स्वर्गारोहण की मान्यता है  अर्थात अब्राहिमिक- धर्म के तीनों संप्रदाय यहूदी क्रिश्चियनिटी इस्लाम  के लिए यह शहर आस्था का सबसे बड़ा केंद्र है। वर्तमान में जेरूसलम के प्रशासन के लिए ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है जो इस शहर को सुरक्षित रख सके परंतु इजराइल का इस पर कब्ज़ा बढ़ता जा रहा है ।यही सबसे बड़ी विवाद की परिस्थिति है। 
     फिलिस्तीन तथा इजरायल के बीच किसी बड़े युद्ध की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। इस संबंध में भारत का अगला कदम क्या होगा यह देखने वाली बात होगी। अंतरराष्ट्रीय बिरादरी मैं भारत की भूमिका को देखते हुए ऐसा प्रतीत होता है कि अंतरराष्ट्रीय राजनीतिक परिस्थितियां इस युद्ध को टालने का मन बना चुकी है। हमास संगठन के लोगों द्वारा यह आक्रमण किया है जिस के प्रत्युत्तर में हमास के कई महत्वपूर्ण ठिकानों पर इजराइल ने घातक प्रभाव शाली हमले किए हैं और उससे अंततः नुकसान फिलिस्तीन का ही हुआ है।
   अल अक्सा मस्जिद से शुरू हुए इस विवाद के संबंध में अरब देशों से अब तक कोई वर्जन नहीं आना भी उल्लेखनीय स्थिति है। जानकारों का और मेरा स्वयं यह विचार है कि संभवत ओआईसी इस पर विशेष ध्यान नहीं देंगे। यद्यपि इसके उलट भी कार्य हो सकता है परंतु यह सब अरब देशों की नीति पर निर्भर करेगा। फिलिस्तीनी राष्ट्रवादीयों के विरुद्ध इस वक्त यहूदियों की ताकत अर्थात इजराइल की ताकत और यूरोप का समर्थन आगे देखने को मिल सकता है। फल स्वरुप परिस्थिति में आमूलचूल परिवर्तन संभव है।  लगभग 2000 साल पहले यहूदियों के साथ यूरोप एवं 1400 बरस पूर्व इस्लाम की उत्पत्ति के उपरांत पहले परिस्थितियों को देखकर वर्तमान में स्थिति पहली बार कुछ इस तरह निर्मित हुई है कि यूरोप और इजराइल एक साथ है अर्थात यहूदी और क्रिश्चियनिटी के मध्य जुड़ाव की स्थिति देखी गई है। ऐसी स्थिति में गाजा पट्टी पर संपूर्ण प्रभाव एवं व्यवस्थापन की जिम्मेदारी इजराइल को मिल सकती है। साथ ही यरुशलम का प्रबंधन भी इसराइल के हाथों में मिलने की पूरी पूरी संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता । परंतु अंतरराष्ट्रीय संबंधों को बनते बिगड़ते देर नहीं होती इस सिद्धांत को देखा जाए तो अनिश्चितता फिर भी शेष रहेगी।
                     टर्की का सुर ओ आई सी को उकसाने के  बोल, बोल  रहा है.                            

टिप्पणियाँ

कहीं का कोई भी मरे, मरता तो आदमी है। पूरे विश्व में यह ज़रूरी है कि धार्मिक संगठनों पर पाबंदी हो। शव पर और मातम में कौन किसपर राज करेगा?