मैक सिंह के युधिष्ठिर का जाना अखर रहा है..!

आज हमारे बीच से बीएस पाबला विदा हो गए। 2007 में हम सब ने अंतरजाल पर लिखना शुरू किया था उस शुरुआती दौर में एक दिन एसएमएस आया दिन था 29 नवंबर का। यह दिन मेरा जन्म दिवस है। पाबला जी को उस दौर के हर चिट्ठाकार जन्मदिन विवाह की तिथि याद थी। और सभी को शुभकामनाएं सबसे पहले भेजा करते थे। चिट्ठे पर लिखते भी धाराप्रवाह प्रांजल भाषा का प्रयोग करते हुए उनके विचार खास तौर पर एक आर्टिकल याद है जिसमें उनकी कार छत्तीसगढ़ से एक लंबी यात्रा में क्षतिग्रस्त हो गई थी यह यात्रा वृतांत बेहद रोमांचक और अविस्मरणीय है। पाबला जी का जीवन संघर्ष भरा ग्रंथ कहा जाए तो गलत ना होगा। पूज्यनिया भाभी साहब का जाना पुत्र विछोह उनके जीवन का सबसे दर्दनाक हिस्सा रहा है। पाबला जी से हमारी से शरीर में वर्ष 2011 में विश्व ब्लॉगिंग सम्मेलन में दिल्ली में हुई थी। 
व्यक्तित्व बड़ा शानदार और आलीशान था। उनका हमारे बीच से असमय जाना एक दर्दनाक पहलू है। पाबला साहब बहुत सहज और सुलभ थे। पाबला जी को ब्लॉगिंग तकनीकी का गहरा ज्ञान था। हमारी गलतियों और भूलों के कारण अगर हमारे ब्लॉग में कोई गलती या कमी होती है तो हम बेधड़क उनको कॉल करते । पाबला जी ने किलर झपाटा नामक एक फर्जी आईडी का पता लगा लिया था। इन दिनों में सोशल मीडिया पर अपने Mac Singh  आईडी से अपनी बात कुछ इस तरह से रखते थे जैसे उनका डॉगी मैक उनके बारे में कुछ कह रहा हूं। एक जबरदस्त व्यक्तित्व के धनी पाबला जी आप अपनी तरह के अनोखे व्यक्तित्व के धनी थे। हमारी स्मृतियों में जबरदस्त तरीके से शामिल हो जी मैं भी आखरी सांस तक शायद ही आप लोगों को पाबला जी के जबरदस्त व्यक्तित्व के साथ याद रखूंगा। हे विधाता तुम्हारी शक्ति के आगे कुछ नहीं कहते पर तुम बार-बार क्यों हमारे लोगों को छीन छीन कर अपनी शक्ति का प्रदर्शन कर रहे हो ओम शांति शांति हे प्रभु इस परम आत्मा को अपने हृदय में स्थान अवश्य देंगे हमारी यही प्रार्थना है उन्हें शत शत नमन

टिप्पणियां

मैं उन्हें असरदार कहा करता था...।जीवन के कई आघात उन्होंने सहे और उनका सामना किया... किन्तु मौत का यह आघात न सह सके! विधाता कोबयही मंज़ूर था! परमात्मा उनकी आत्मा को शान्ति दे!
गिरीश बिल्लोरे मूकुल ने कहा…
सच कहा याद है मुझे ओम शांति शांति
Neeta Mehrotra ने कहा…
वीरजी बहुत बड़ा खालीपन छोड़ गए ...