राम और रामायण कदापि काल्पनिक नहीं..!

यह आर्टिकल वैज्ञानिक तथ्यों पर आधारित गैर राजनीतिक आर्टिकल  है । जो यह सिद्ध करता है कि राम कोई काल्पनिक चरित्र नहीं है कृपया इसे अवश्य देखें और शेयर भी कीजिए जिससे अधिकतम राम भक्तों तक यह पहुंच सके।
💐💐💐💐

प्रभु श्री राम की जन्म दिवस पर सभी को हार्दिक शुभकामनाएं। कल 20-21 अप्रैल 2020 की लगभग पूरी रात की अथक कोशिशों के बाद भगवान श्री राम के संबंध में जो जानकारी जुटा सका हूं उसके अनुसार कुछ बातें संक्षिप्त में आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूं। इसे आप धैर्य और वैज्ञानिक आधार पर देखेंगे ताकि आप वर्तमान में पढ़ाए जा रहे पश्चिमी एवं वामपंथी विचार को द्वारा लिखे गए इतिहास को समझ पाएंगे। वर्तमान में पढ़ाई जा रहे इतिहास में ढेरों भ्रामक जानकारी हैं। यह आर्टिकल किसी भी प्रकार से किसी विचारधारा का समर्थन ना करते हुए केवल सत्य को समर्पित है।
      पृथ्वी की उत्पत्ति एक खगोलीय घटना है। इस घटना में पृथ्वी आज से 4 दशमलव 5 करोड़ वर्ष पूर्व अपने पथ पर स्थापित हुई। पर प्रकृति अर्थात उसके शीतल होते होते कुछ करोड़ों वर्ष और लगे तदुपरांत ही जीवन उपयोगी वातावरण निर्मित हुआ। यह मान लेते हैं कि  आज से लगभग 2 लाख वर्ष पूर्व वर्तमान मानव के पूर्वज अस्तित्व में आए। और हम यह मानते हैं कि होमो सेपियंस के वंशज है हम मानव। यह कथानक नहीं सत्य है परंतु अंग्रेजी आयातित विचारधारा के आधार पर लिखे गए इतिहास में वैदिक काल को पता नहीं किस दबाव में ईसा के पंद्रह सौ वर्ष पूर्व स्थापित किया है। जबकि बाल्मीकि रामायण जो राम के समकालीन लिखी गई उसमें वेदों के संबंध में उल्लेख है। इसका अर्थ यह है कि राम के काल के पूर्व अर्थात सतयुग के प्रारंभ में अर्थात लगभग 11500 ईसा पूर्व से 9200 वर्ष पूर्व वेदों जिसमें संहिता आरण्यक ब्राह्मण एवं आदि का रचना काल रहा है। जो किसी  एक व्यक्ति द्वारा नहीं लिखे गए बल्कि यह है वेदव्यास द्वारा सुव्यवस्थित किए गए ऐसा मानना चाहिए। 
   अब स्पष्ट है कि रामायण काल के पूर्व त्रेता युग का शुभारंभ 6777 बी सी में हुआ। इस बात के प्रमाण प्रस्तुत किए हैं भारतीय राजस्व सेवा के एक अधिकारी श्री वेद वीर आर्य ने। उनके नजरिए से देखा जाए तो निम्नलिखित तथ्यों तक पहुंचा जा सकता है-
राम रावण के बीच धर्म युद्ध  हुआ या नहीं अथवा यह एक काल्पनिक घटना है इस प्रश्न के उत्तर में श्री आर्य बताते हैं कि
[  ]  हाल ही में नासा द्वारा अवगत कराया गया कि श्रीलंका से भारत के बीच समुद्र में एक प्राकृतिक रास्ता था। लेकिन सूर्य एवं चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण के कारण जल की अधिकता होने से उस सेतु के जरिए लंका वर्तमान श्रीलंका में जाना कठिन था। अतः राम ने पत्थर झाड़ी वनस्पति बालू इत्यादि का प्रयोग करवा कर एक सेतु का निर्माण किया जिसकी मोटाई  लगभग एक मीटर के आसपास रही है। नासा का यह प्रमाण प्रासंगिक है और राम एवं रावण के बीच हुए धर्म युद्ध की पुष्टि भी करता है। नासा यह बताता है कि राम रामसेतु में पत्थरों का जमाव डेटिंग के हिसाब से 7 हजार बीसी के आसपास रहा है तो यह माना जा सकता है कि राम ने युद्ध की व्यवस्था के लिए इस सेतु का निर्माण किया है।
[  ] श्रीलंका और भारत के बीच समुद्र में एक प्राकृतिक मार्ग था । किंतु जल स्तर बढ़ने से उस रास्ते पर चलना राम की सेना के लिए कठिन था। पता है नल नील के सहयोग से पत्थरों के जरिए जल-स्तर से ऊपर पत्थर इत्यादि डालकर रास्ता तैयार कराया गया।
[  ] इस क्रम में रावण की मृत्यु का कारण हेली धूमकेतु धरती पर नजर आया। इस कथन की पुष्टि के लिए सॉफ्टवेयर के माध्यम से लेखक आर्य ने अपने शोध ग्रंथ में अंकित किया है। तथा यह तथ्य लक्ष्मण के माध्यम से रामायण में उल्लेखित है ।
        वेदवीर आर्य श्री राम की जन्म दिनांक (ईसाई कैलेंडर के मुताबिक का) भी प्रमाण देने से नहीं चूकते। यह तिथि ईसा  पूर्व के ऋणात्मक कैलेंडर में स्थापित किया जा सकता है। 
एक अन्य शोध को देखें तो भी राम का कालखंड लगभग ईशा के 7000 वर्ष पूर्व सुनिश्चित किया गया है
आलोचकों के कारण राम पौराणिक थे या ऐतिहासिक इस पर शोध हुए हैं और हो रहे हैं। सर्वप्रथम फादर कामिल बुल्के ने राम की प्रामाणिकता पर शोध किया। उन्होंने पूरी दुनिया में रामायण से जुड़े करीब 300 रूपों की पहचान की। 

राम के बारे में एक दूसरा शोध चेन्नई की एक गैरसरकारी संस्था भारत ज्ञान द्वारा पिछले छह वर्षो में किया गया है। उनके अनुसार अगली 10 जनवरी को राम के जन्म के पूरे 7122 वर्ष हो जाएँगे। उनका मानना है कि राम एक ऐतिहासिक व्यक्ति थे और इसके पर्याप्त प्रमाण हैं। राम का जन्म 5114 ईस्वी पूर्व हुआ था। वाल्मीकि रामायण में लिखी गई नक्षत्रों की स्थिति को 'प्ले‍नेटेरियम' नामक सॉफ्टवेयर से गणना की गई तो उक्त तारीख का पता चला। यह एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जो आगामी सूर्य और चंद्र ग्रहण की भविष्यवाणी कर सकता है। 

मुंबई में अनेक वैज्ञानिकों, इतिहासकारों, व्यवसाय जगत की हस्तियों के समक्ष इस शोध को प्रस्तुत किया गया। और इस शोध संबंधित तथ्यों पर प्रकाश डालते हुए इसके संस्थापक ट्रस्टी डीके हरी ने एक समारोह में बताया था कि इस शोध में वाल्मीकि रामायण को मूल आधार मानते हुए अनेक वैज्ञानिक, ऐतिहासिक, भौगोलिक, ज्योतिषीय और पुरातात्विक तथ्यों की मदद ली गई है। इस समारोह का आयोजन भारत ज्ञान ने आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग के साथ मिलकर किया था।

टिप्पणियां

बहुत अच्छी और तथ्यपूर्ण जानकारी।