सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

मार्च, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है…….?

ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है ……. ?          वास्तव में ये सवाल ज़ायज़ है आज के दौर के लिए कबीर मिर्ज़ा ग़ालिब यहाँ तक कि स्वामी विवेकानंद भी मिसफिट हैं ।            मन में खिन्नता है मेरे शाम को घर लौटता हूँ टीवी पर डिबेट के नाम पर अभद्र वार्तालाप ओह क्या हो गया है... इस मीडिया को लोगों को ।           जब भी सोचता हूं गुरुदत्त के बारे में तो लगता है कि कुआं खुद बेहद प्यासा रहा है अपनी जिंदगी में । कवियों कलाकारों की जिंदगी का सच यही है बेशक मैं इन्हें शापित गंधर्व कहता हूं । याद है ना आपको राज कपूर की वह फिल्म जिसमें एक सर्कस का कलाकार अपनी जिंदगी के चारों पन्नों पर कशिश लिख देता है । जरूरी भी है ए भाई इस दुनिया को देख कर चलना । यह दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है ।   प्यासा और कागज के फूल मैंने अपनी युवावस्था में देखी फिल्म में है जब भी इन फिल्मों को देखता हूं आंखें डबडबा जाती हैं । बहुतेरे ऐसे कलाकारों को भी जानता हूं जो मिसफिट होते हैं समाज के लिए और एक अंतर्द्वंद लेकर समाज में जीते भी हैं और मरते भी । अंतस की पीर से ऐसी ऐसी रचनाएं उभरती है गोया खुद ईश्वर उतर आ

राष्ट्रीय बालश्री 2016 में प्रदेश के 09 बच्चे सम्मानित होंगे जबलपुर संभाग से 04

राष्ट्रीय बाल भवन नई दिल्ली द्वारा वर्ष 2016 के लिए बाल श्री पुरस्कारों की घोषणा कर दी है जिसमें देशभर के 80 बच्चों को सम्मानित किया जावेगा ।   सूची में मध्य प्रदेश से 9 बच्चों को शामिल किया गया है ।     बाल भवन जबलपुर की राजश्री चौधुरी   को रचनात्मक वैज्ञानिक इनोवेशन एवं मास्टर अंकुर विश्वकर्मा को मूर्तिकला के लिए सम्मानित किया जावेगा । जबलपुर बाल भवन से संबद्ध मंडला जिले की कुमारी अजीता रूपेश कोष्टा को अभिनय एवं संवाद ,  नरसिंहपुर जिले की कुमारी सपना पटेल को सृजनात्मक लेखन के लिए बाल से सम्मान प्राप्त होगा । नेत्र दिव्यांग कुमारी तान्या शर्मा को गायन के लिए मास्टर हर्ष कुमार जैन को सृजनात्मक इनोवेशन के लिए मनोध्यान श्रीपाद वैद्य को भी इसी विधा में सम्मानित किया जाएगा । भोपाल के पारस   अग्रवाल सृजनात्मक लेखन तथा सागर की विधि अहिरवार को सृजनात्मक कला के लिए बालश्री सम्मान से सम्मानित किया जावेगा।     बालश्री वर्ष 2015 के लिए जबलपुर से सम्मानित कुमारी श्रेया खंडेलवाल संवाद एवं अभिनय तथा मास्टर अभय सौंधिया को भी वर्ष 2019 में आयोजित अलंकरण समारोह में   बालश्री अलंकरण दिए जाएं

हम और घाट शुद्धिकरण के संकल्प

तेरे तरल प्रवाह फलक तट वांग्मयी बातों का दौर ।। एक सुदामा ज्ञान अकिंचन- खोज रहा गुरु या कुछ और ।।    मित्रो आप भली प्रकार भिज्ञ हैं एक समय शरीर को भूख कम ही लगती है ऊर्जावान रहें उतना ही आहार ज़ायज़ होता है ।        परन्तु मानसिक रूप से भूख में अचानक इज़ाफ़ा देख खुद हतप्रभ हूँ । दुनियां भर के झंझावात के अवलोकन के बाद एक विस्तृत भीड़ में अकेला महसूस कर रहा हूँ । सोचा करता हूँ अब अकेला क्यों हूँ.... ? उम्र के साथ ऐसे ही बदलाव आते हैं.... खुद के बारे में सोचना भी लगभग बंद सा हो गया ।                 रेवा के एक घाट पर आना जाना होता है ।  कल भी था सपत्नीक तिलवाराघाट गया था । अचेता और अनिच्छा से निकला पर प्रवास पर  बाद में यही प्रवास  इच्छानुकूलित प्रवास हो गया ।     मन में केवल माँ के बारे में सोच रहा था । अक्सर ऐसा ही होता है । ग्वारीघाट और तिलवाराघाट जाकर माँ बहुत याद आतीं हैं ।  जिनकी भस्मी इसी रेवा में प्रवाहित हुई थी । तो माँ रेवा में माँ का आभास हुआ । फिर लगा वाकई रिक्तता केवल मां ही भरती है । माँ कभी दिवंगत नहीं होती है । लगा रेवा से संवाद करूँ.... पर भिक्षुकों ने आ घेरा खीसे मे

अभिनंदन बनाम जिनेवा संधि : गिरीश बिल्लोरे मुकुल

भयातुर इमरान खान  पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का संसद के संबोधन किसी भी एक भयभीत व्यक्ति की अभिव्यक्ति है । वे जो संसद को बता रहें हैं तथा संसद के ज़रिए जो विश्व के सामने कहा जा रहा है... ठीक उससे उलट कार्यक्रम पाकिस्तान की सेना के पास होगा ।   पाकिस्तान की संसद में 28 फरवरी 2019 को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की स्थिति देखकर   भारतीय कूटनीतिक विजय का विषाद उनके चेहरे पर साफ़ नजर आ रहा था   । इससे इस बात की भी तस्दीक हो जाती है कि अब वास्तव में विश्व समुदाय ने भारतीय कूटनीतिक की कोशिश पर समवेत स्वर में सहमति जताई है । पाकिस्तान ने हमेशा भारत के साथ धोखा ही किया है उसके दिमाग़ में भारत एक दबाव में आने वाला मुल्क था । किन्तु भारत अब बदल चुका है. यह बदलाव भारतीय जनता का आत्मजागरण का सूचक है. ठीक इजराइल की तरह . भारतीय कश्मीरी समस्या के बारे में सभी जानते हैं कि पाकिस्तान के टेरेरिस्ट संगठनों के ज़रिए पाकिस्तान ने सबसे पहले 1990 के पूर्व वहां से निर्वासित करने का संकल्प किया और फिर उनके साथ बर्रबरता की गई । उनका मानना  था कि गैर मुस्लिमों को हटाने के बाद ही कश्मीर की मुस्लिम आबादी को मिसग

ग्वालियर का एयरबेस, खमरिया के बम और हमारी अवनि चतुर्वेदी गौरव के क्षण- जयराम शुक्ल

वीर योद्घा विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान के साथ परिस्थिजन्य दुर्घटना के दुख के बीच आईएएफ की बालाटोक स्ट्राइक के बाद दुनिया भर से जो प्रतिक्रियाएं आ रही हैं वह उम्मीदों से कहीं ऊपर, उत्साहजनक हैं।  राजनीतिक दलों के सुरों में दुर्लभनीय एका है। मीडिया खासकर टीवी के एंकरों का कहना ही क्या..वे चंदबरदाई से भी चार हाथ चौबीस गज आगे हैं। होना भी चाहिए। इसके उलट कुछ बौद्धिक अपने चिरपरिचित विमर्श में चले गए हैं कि युद्ध से क्या होगा? कई इस खोजबीन में लगे हैं कि पुलवामा के पीछे कहीं मोदी का तो हाथ नहीं? ऐसे लोगों को अपनी जिग्यासा के शमन के लिए बीबीसी हिंदी में छपा दक्षिण एशिया मामलों की विशेषज्ञ क्रिस्टीन फेयर का नजरिया पढ़ लेना चाहिए।  दो और महत्वपूर्ण किरदारों पर अपनी नजर है..वे हैं उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती। उमर अब्दुल्ला की प्रतिक्रिया एक होनहार और होशियार राजनीतिग्य जैसी है जबकि महबूबा के लिए ऐसी है मानों स्ट्राइक बालटोक में नहीं उनके दिलपर हुई है।  इन सबके बीच हमें गर्व से भर देने का जो संदर्भ है वह है आईएएफ की सर्जिकल स्ट्राइक का एमपी यानी कि मध्यप्रदेश कनेक्शन.. ग्वालियर.. जबलप