मंगलवार, अक्तूबर 4

बेटी बचाओ अभियान :गिरीश का गीत

साभार आईबीएन

मधुर सुर न सुनाई दें जिस घर से वो घर कैसा 
न माडी जाए रंगोली जिस दर पे वो दर कैसा ?
********************
बिना बेटी के घर लगते अमावस की घुप रातें 
न रुन झुन पायलें बजतीं न होती हैं मृदुल बातें
न दीवारों पे  रौनक और  देहरी से चमक गायब-
देखता जो भी सोचे ये घर तो है मगर कैसा ..?
                       मधुर सुर न सुनाई दें जिस घर से वो घर कैसा 
********************
वो बेटी ही तो होती है कुलों को जोड़ लेती है
अगर अवसर मिले तो वो मुहाने मोड़ देती है
युगों से  बेटियों को तुम परखते हो न जाने क्यूं..?
जनम लेने तो दो उसको जनम-लेने से डर कैसा..?
 मधुर सुर न सुनाई दें जिस घर से वो घर कैसा
                         मधुर सुर न सुनाई दें जिस घर से वो घर कैसा
******************** 
पालने से पालकी तक की  चिंता छोड़ के आना
वो बेटों से भी बेहतर है ये चिंतन जोड़ ते लाना
उसे तुमने जो अब मारा धरा दरकेगी ये तय है-
उसे ताक़त बनाओगे जमाने से डर कैसा
                         मधुर सुर न सुनाई दें जिस घर से वो घर कैसा 
                         न माडी जाए रंगोली जिस दर पे वो दर कैसा ?
********************

6 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

शानदार प्रस्तुति |
बहुत-बहुत आभार ||

ρяєєтii ने कहा…

मधुर सुर न सुनाई दें जिस घर से वो घर कैसा...माडी जाए रंगोली जिस दर पे वो दर कैसा ?
Satya kaha aapne..!

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

मस्त गीत है।

ashokbajajcg.com ने कहा…

बहुत अच्छा अभियान है , यह धर्म का काम है . मध्यप्रदेश की सरकार इस दिशा में बेहतर काम कर रही है . माननीय शिवराज सिह चौहान तथा आप सब धन्यवाद के पात्र है . श्री दुर्गाष्टमी की शुभकामनाएं .

Girish Billore Mukul ने कहा…

बेशक़ एक बेहतरीन शुरुआत

विवेक रस्तोगी ने कहा…

बेहतरीन गीत

Wow.....New

सनातनी अस्थि पूजन न करें..?

सनातन धर्म मानने वालों को अस्थि पूजन से बचना चाहिए..?    बहुत दिनों से यह सवाल मेरे मित्र मुझसे पूछते थे। सनातन में अस्थि कलश व...

मिसफिट : हिंदी के श्रेष्ठ ब्लॉगस में