सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

भगवान लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

"बावरे-फकीरा से संगृहीत 25.000/- रूपए की राशि मैजिक-ट्रेन"लाइफ लाइन एक्सप्रेस'' के लिए सौंपी गयी "

शिर्डी साई को भगवान मानो या न मानो इस पर परम पूज्य शंकराचार्य जी की टिप्पणी से मुझे कोई लेना देना नहीं. पर एक अदभुत घटना घटी मेरे जीवन में मेरे गुरु-भक्ति गीत का गायन आभास से कराया श्रेयस जोशी ने उनकी संगीत रचना की. किसी भी कलाकार ने कोई धन राशि बतौर पारिश्रमिक हमसे न ली . बस पोलियो ग्रस्त बच्चों की मदद के वास्ते कुछ करने का ज़ुनून था. और  सव्यसाची-कला-ग्रुप जबलपुर द्वारा दिनांक 14 मार्च 2009 को स्थानीय मानस भवन जबलपुर में आयोजित पोलियो-ग्रस्त बच्चों की मदद हेतु साईं भक्ति एलबम बावरे-फकीरा  का लोकार्पण किया गया था . मेरे एक मित्र राजेश पाठक प्रवीण ने कहा था- बस आधा मानस भवन भर गया तो जानो अपना कार्यक्रम सफ़ल. पर भीड़ ने रुकने का नाम न लिया मानस भवन खचाखच था देखते ही देखते . शो शुरु से अंत तक एक सा रहा. स्व. ईश्वरदास रोहाणी  दादा , श्री जितेंद्र जामदार, सहित शहर के गणमान्य से लेकर सामान्य व्यक्ति तक आए. भगवान बाबा की कृपा स्व.  मां सव्यसाची के आशीर्वाद से पहले ही दिन पच्चीस हज़ार के एलबम बिक गए. प्राप्त  राशी कम न थी तब. रेडक्रास सोसायटी जबलपुर  को लाईफ़-लाईन एक्सप्रेस के प्रबंधन के लिये ज़…

भगवान तो सस्ते में दे रहा हूं.. !

एक दो तीन दिन न पंद्रह दिन लगातार लेखन कार्य से दूर रहना लेखक के लिये कितना घातक होगा ये जानने हमने खुद को लिखने से दूर रखा सच मानिये   हमारी दशा बिना टिकट प्रत्याशी की मानिंद हो गई. हम लगभग चेतना शून्य हैं..बतर्ज़ बक्शी जी सोच रहा हूं..  क्या लिखूं...?
 फ़िर सोचता हूं कुछ तो लिखूं..  आज़ दिन भर से मानस में एक ही हलचल मची हुई है कि कोई ये बताए कि हम किधर जा रहे हैं .. या कोई हमसे ये पूछे कि हम किधर से आ रहे हैं..?
   फ़िर कभी सोचा कि इस मौज़ू पर लिखूं कि -   ऐसा कोई नज़र आ नहीं रहा.जो खुद को देखे सब दूसरों को देखते तकते नज़र आ रहे हैं.. फ़िर फ़ूहड़ सा कमेंट करते और और क्या.. जिसे देखिये "पर-छिद्रांवेषण" में रत अनवरत .. आक्रोश  अलबर्ट पिंटो की मानिंद  जिसे गुस्सा क्यों आता है  क्विंटलों-टनो अलबर्ट पिंटो बिखरे पड़े हैं.. जुबानें बाबा रे कतरनी की तरह चलती नज़र आ जातीं हैं . सरकारें मुंहों पर कराधान करे तो .. बेशक आबकारी के बाद सबसे इनकम जनरेटिंग "माउथ-टैक्स-विभाग" बनना तय है...!
         इस बीच धरमपत्नि जी की तरफ़ से  बाज़ार जाने का आदेश हुआ .. फ़िर ये आदेश हुआ कि -…