नाव लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
नाव लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, अप्रैल 27

नाव गाड़ी का रिश्ता

पाकिस्तान में मिली ये तस्वीर नाव गाड़ी का रिश्ता  बयां कर रही है. यही  हक़ीकत है पाकिस्तान की हमेशा नाव पर गाड़ी होती है. नाव जो हमेशा डूबती-उतराती नज़र आती है.पर चल रही है परम आत्माओं के सहारे जो विश्व के हर हिस्से को हिला देने की जुगत में तत्पर.   अब तो जागो पाक़िस्तान ... विश्व को बता दो तुम भी नेक नियत देश हो... तुम्हारे दामन के दाग धोने के लिये इससे बेहतर वक़्त कब आएगा. तब जब विश्व एक बड़े सामाझिक परिवर्तन के लिये तत्त्पर है. 














एक रपट किसलय जी के सेलफ़ोन से 

सोमवार, मार्च 7

उसे मुक्ति नहीं चाहिये


जी
उसे नहीं चाहिये
उसने कब
 मांगी है तुमसे मुक्ति
वो
सदा चाहती है बंधन
बनाए रखती है अनुशासन..
वो जो साहस और दु:साहस का अर्थ देती है
वो जो नाव है
पार कराती है धाराएं
कभी पतवार बन
खुद को खेती है
वो क्या है क्या नहीं है
तुम क्या जानो
मत लगायो कयास
मत करो 
उसे संज्ञा  देने का प्रयास 
वो  वो है 
 जिसकी वज़ह से तुम मैं हम सब हैं