सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

त्रयोदशी लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

"भियाजी, काम की बड़ी-बड़ी मछली तो पानी क भित्तर मिलच !

जी देर शाम रविवार 6 फरवरी 2011 को हरदा  पहुंच सका . जहां से अगली सुबह मुझे सपत्नीक खिरकिया रवाना होना  था. जहां स्वर्गीय श्री शिवानन्द जी चौरे मेरे साढू भाई के  त्रयोदशी संस्कार में शामिल होना था.छोटी बहन के बेटों ने घेर लिया. बहुत देर तक सोने न दिया, दुनियां जहान की बातें हुईं. ये अपने निक्की राम थे जो मामा के एन सामने ख्ड़े हो गये बोले :-”मामाजी. लीजिये फ़ोटो "

ये जो दूर तक आप अथाह जल राशि देख रहे हैं न यहीं बसा करते थे कोई 250 गांव जिनमें थी आबादी, आबादी की आंखों मे थे सपने, सपने जो किसान के सपने थे, मज़दूर के सपने थे, पंडित,लोहार,सुतार, धीवर,सोनार, मास्टर,पोस्ट-मैन, चपरासी, किसी के भी थे थे ज़रूर. पुरखों की विरासत सम्हालते थे कुछ,  जो जमीनें खोट (वार्षिक-किराये ) देकर   जबलपुर भोपाल,इन्दौर, मुम्बई ( जिसे गांव आकर बेधड़क बम्बई बोलते थे ) में रोजगार हासिल किया था  उनके भी  तो सपने थे हर गर्मियों में गांव आकर घर की खोल-बंदी, कुल-देवी के पूजन, की जी हां इसी अथाह जल राशी में समा गये किंतु उन के मन से न निकल सकने वाली पीर दे गये. विकास की प्राथमिक शर्त ही विनाश है. जी हां यही सत्य ह…